VT Update
पूर्व प्राचार्य पर दर्ज F.I.R रद्द करने की उठी मांग, प्राध्यापको ने की बैठक ब्रम्हण समाज ने सौपा एस.पी को ज्ञापन R.P.F के D.I.G विजय कुमार खातरकर रेलवे ने रेलवे अफसर की पत्नी के साथ की छेड़छाड़, नरसिंहपुर के पास ओवरनाइट एक्सप्रेस मे वारदात,F.I.R दर्ज इंदौर का देवी अहिल्याबाई होल्कर एयरपोर्ट अब बन गया अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट, सोमवार को पहली बार इंदौर से दुबई के लिए अंतरराष्ट्रीय फ्लाइट ने भरी उड़ान राहुल के इस्तीफे के 50 दिन बाद भी अब तक किसी को नहीं चुना गया कांग्रेस अध्यक्ष , कर्नाटक विवाद सुलझने के बाद फैसले की उम्मीद भारतीय नौसेना की बढ़ाई जा रही ताकत, जल्द खरीदी जा सकती हैं 100 टारपीडो मिसाइल, 2000 करोड़ का टेंडर जारी
Thursday 2nd of November 2017 | महंगा हुआ वाहन बीमा

आईआरडीए ने बीमा एजेंटों के कमीशन को बढ़ाने की दी मंजूरी, महंगा हुआ वाहन बीमा।


नई दिल्ली। दो पहिया और चार पहिया वाहनों का इंश्योरेंस एक नवंबर से महंगा हो गया है। इंश्योरेंस रेगुलेटर आईआरडीए ने बीमा एजेंटों को मिलने वाले कमीशन को बढ़ाने की मंजूरी दे दी है।  जिस वजह से अब दो पहिया और चार पहिया वाहनों का इंश्योरेंस कराना महंगा हो जाएगा। अभी तक टू-व्हीलर गाड़ियों का कमीशन कम होने के चलते बीमा एजेंट इंश्योरेंस करवाने में ज्यादा रुचि नहीं दिखाते थे। इसीलिए वे काफी समय से कमीशन बढ़ाने की मांग करते आ रहे थे। 

अब बीमा कंपनियां चार पहिया वाहनों के मामले में एजेंट को 15 फीसदी की जगह 17.5 फीसदी और दो पहिया वाहनों के मामले में 10 फीसदी की जगह 15 फीसदी कमीशन दे सकेगी।
बतादें देश में दो तरह के इंश्‍योरेंस कवरेज होते हैं, कम्‍प्रीहेंसिव और थर्ड पार्टी। कम्‍प्रीहेंसिव के तहत गाड़ी के पूरे डैमेज और चोरी को कवर किया जाता है और दूसरे के तहत सिर्फ थर्ड पार्टी को कवर किया जाता है। कम्‍प्रीहेंसिव इंश्‍योरेंस के मामले में कमीशन बढ़ा है। वहीं थर्ड पार्टी के मामले में पहले एजेंट का कमीशन तय नहीं था। बीमा कंपनियां मोटे तौर पर उन्‍हें 100 से 150 रुपए दिया करती थीं। लेकिन अब उन्‍हें वार्षिक प्रीमियम का 2.5 फीसदी कमीशन के रूप में मिलेगा। इसके साथ ही भारत में थर्ड पार्टी मोटर इंश्‍योरेंस बाध्‍यकारी है। और अप्रैल से जून के बीच जनरल इंश्‍योरेंस इंडस्‍ट्री द्वारा संग्रहित प्रीमियम में इसका योगदान 55 फीसदी है। वर्तमान वित्‍त वर्ष की पहली तिमाही के दौरान जनरल इंश्‍योरेंस कंपनियों ने मोटर इंश्‍योरेंस पॉलिसी बेचकर 138.50 अरब रुपए का संग्रह किया है। जिसमें थर्ड पार्टी इंश्‍योरेंस का योगदान 76.08 अरब डॉलर रहा है। 
 

 


एक देश एक चुनाव पर क्या आज़ बन पायेगी सहमति | ममता बनर्जी नहीं होंगी बैठक में श

भाजपा के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष को लेकर नरेन्द्र मोदी और अमित शाह लेंगे फैसला,


 VT PADTAL