VT Update
बोर्ड परीक्षाओं की तिथि का काउंटडाउन शुरू 9 दिन बचे शेष, प्रशासन ने कसी कमर चप्पे-चप्पे पर रहेगा पुलिस का पहरा 10 हेक्टयर के रकबा वाले किसान के नाम पर 27 हेक्टर का पंजीयन निरीक्षण के दौरान कलेक्टर ने पकड़ी गड़बड़ी दो पटवारी सस्पेंड प्रदेश में पहली बार 3 तरह की अबकारी नीति, 25 प्रतिशत बढ़ेगी शराब दुकानों की कीमत, नहीं खोली जाएंगी उप दुकाने नगरी निकाय और किसानों को मिलने वाली बिजली महंगी करने की तैयारी में सरकार, घाटे को कम नहीं कर पा रही बिजली कंपनियां प्रधानमंत्री मोदी की मुहिम को झटका, आधे से भी कम सांसदों ने गांव लिए गोद, 778 कुल सांसद 300 गांव ही लिए गए गोंद
Wednesday 17th of July 2019 | सावन की हुई शुभ शुरूआत, शिवालयों में भक्तों का तांता

जानिए इस बार के सावन में क्या है खास, कब आराधना करने से मिलेगा लाभ


महाकाल का प्रिय श्रावण मास बुधवार से शुरू हो गया। श्रद्धालूओं के भक्ति श्रद्धा के लिए तमाम तैयारियां की जा रही है। जिसमें  श्रद्धालु शिव मंदिरों में महीनेभर पूजन.अर्चन, अनुष्ठान करेंगे। इस दौरान महाकालेश्वर में महाकाल की चार सवारियां भी निकालीं जाएंगी। हरियाली अमावस्या पर दूधतलाई में मेले का आयोजन किया जाएगा। नागपंचमी और रक्षाबंधन का पर्व भी इसी महीने मनाया जाएगा। शास्त्र जानकारों की मानें तो श्रावण मास में इस बार विशेष ग्रहयोग आ रहे हैं। जिससे शिवभक्तों को खास लाभ होंगे। वहीं, 9 अगस्त को बुध के पुष्य नक्षत्र में प्रवेश करने के साथ ही अच्छी बारिश के संयोग बन रहे हैं।

          आपको बता दें कि एक माह तक चलने वाले श्रावण बुधवार से शुरू होकर 15 अगस्त को समाप्त होगा। इस बीच महाकालेश्वर के साथ 84 महादेव और अन्य शिव मंदिरों में भी श्रावण की गहमागहमी रहेगी। उज्जैन तीर्थ की यह विशेषता है कि यहां सभी देवता शिवलिंग के रूप में विराजमान हैं। ऐसे में हर मंदिर में श्रावण मनेगा। शास्त्रों की मानें तो सावन माह में मंगलवार का भी विशेष महत्व होता है, जिसे मंगला गौरी व्रत कहते हैं।

दो सोमवार को है प्रदोष

भगवान भोले के आराधना के लिए धार्मिक ग्रंथों में उल्लेखित पुण्य मास सावन की शुरुआत प्रतिपदा, उत्तराषाढ़ा नक्षत्र, बालवकरण व मकर के चंद्रमा में हो रही है। जानकारों के अनुसार 21 जुलाई को शुक्र अस्त होगा व 23 को कर्क में प्रवेश करेगा। इसी दिन वक्री बुध पुनर्वसु नक्षत्र में प्रवेश करेगा। बताया जा रहा कि 29 जुलाई को सोमवार के दिन प्रदोष व अमृतसिद्धि योग बन रहा है। वहीं, 1 अगस्त को गुरु पुष्य योग में हरियाली अमावस्या पड़ रही है। इसी दिन बुध मार्गी होंगे। 5 अगस्त को नागपंचमी पर शुक्र अश्लेषा नक्षत्र में प्रवेश करेंगे। 8 अगस्त को मंगल मघा नक्षत्र व सिंह राशि में प्रवेश करेंगे व 9 अगस्त को बुध का पुष्य नक्षत्र में प्रवेश होगा, जिससे भारी बारिश के आसार बनते दिखाई दे रहे है। जबकि 12 अगस्त को सावन माह का अंतिम सोमवार है और इस दिन भी प्रदोष है। जिससे भक्तों की उपासना सार्थक होगी और मनोवांछित कामनाओं की पूर्ति होगी। शास्त्र जानकारों के मुताबिक 14 अगस्त को ऋग्वेदियों और 15 को यजुर्वेदियों का उपाकर्म है और अंतिम दिन 15 अगस्त को श्रवण नक्षत्र सुबह 8.30 बजे तक है। जहां शिव के भव्य आराधना के बाद पुण्य मास सावन की समाप्ति होगी।

सावन माह में पड़ने वाले पर्व-त्योहार

20 जुलाई - गणेश चतुर्थी

22 जुलाई - महाकालेश्वर सवारी

28 जुलाई - कामिका एकादशी

29 जुलाई - प्रदोष व्रत और बाबा महाकाल सवारी

30 जुलाई - मासिक शिवरात्रि व्रत

1 अगस्त - हरियाली अमावस्या

4 अगस्त - विनायक चतुर्थी व्रत

5 अगस्त - नाग पंचमी, वाल्मीकि जयंती, महाकालेश्वर सवारी

6 अगस्त- रवि, सर्वार्थ सिद्धि योग

7 अगस्त - तुलसीदास जयंती

11 अगस्त - पवित्रा एकादशी

12 अगस्त - प्रदोष, सवारी

15 अगस्त - पूर्णिमा व्रत, रक्षाबंधन


शिक्षकों को केजरीवाल के शपथ ग्रहण समारोह में आमंत्रण पर सियासत गरमाई,सिसोद

आज ही के दिन हुआ था पुलवामा हमला


 VT PADTAL