VT Update
16 नवम्बर को शहडोल में होंगे नरेंद्र मोदी और राहुल गांधी कांग्रेस विधायक सुन्दरलाल तिवारी ने आरएसएस को कहा आतंकी संगठन,कांग्रेस का बयान से किनारा रीवा में भाजपा प्रत्याशी राजेंद्र शुक्ल ने कांग्रेस प्रत्याशी अभय मिश्र को दिया कानूनी नोटिस। 50 करोड़ का कर सकते हैं दावा। आबकारी उड़नदस्ता टीम ने की बड़ी कार्यवाही, नईगढ़ी व पहाड़ी गाँव में कच्ची शराब भट्टी में मारी रेड, 200 लीटर कच्ची शराब के साथ पांच आरोपी गिरफ्तार विधानसभा चुनाव के मद्देनज़र एस एस टी टीम की कार्यवाही जारी, चेकिंग के दौरान चार पहिया सवार के कब्जे से बरामद हुए 2लाख 19 हज़ार रुपये, निर्वाचन कार्यालय भेजा गया मामला
Monday 6th of November 2017 | कश्मीर की बहाली के रोडमैप की तैयारी

आज से मिशन कश्मीर शुरु:  दिनेश्वर शर्मा 


श्रीनगर(जम्मू-कश्मीर)। कश्मीर जाने से पहेल केंद्र सरकार की ओर से जम्मू कश्मीर के लिए नियुक्त वार्ताकार दिनेश्वर शर्मा ने कहा कि कश्मीर मेरा दूसरा घर है। यहां की कश्मीरियत आपसी भाईचारे को दर्शाती है। उन्होंने किसी भी अटकलबाजी से दूर रहने की सलाह देते हुए कहा कि बातचीत से ही समस्या का हल होता है, न कि हिंसा से। वह कश्मीर में विभिन्न प्रतिनिधिमंडलों से बात करके ही किसी तरह का निष्कर्ष निकाल सकते हैं। वार्ताकार ने कहा कि मैं उम्मीद करता हूं कि कश्मीर में शांति बहाल होगी। बातचीत का मकसद कश्मीर में स्थायी शांति के लिए मार्ग प्रशस्त करना होगा।

उधर अलगाववादी खेमे ने वार्ता का बहिष्कार कर रखा है। सुरक्षा कारणों से सरकार ने अभी बैठक स्थल की जानकारी नहीं दी है। पूरे कश्मीर में सुरक्षा बढ़ा दी गई है। सूत्रों के अनुसार सोमवार से  दिनेश्वर शर्मा श्रीनगर में मौजूद होंगे। कड़ी सुरक्षा के बीच वह बैठक स्थल जाएंगे। अमन बहाली व कश्मीर समस्या के समाधान के लिए रोडमैप तैयार करने के मकसद से वे विभिन्न प्रतिनिधिमंडलों से रूबरू होंगे।

वहीं नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष फारूख अब्दुल्ला ने दिनेश्वर शर्मा का कश्मीर दौरा शुरू होने से पहले बयान दिया था कि, उन्हें इस दौरे से कोई उम्मीद नहीं है और स्वायत्ता देकर ही जम्मू कश्मीर के मुद्दे को हल किया जा सकता है। उत्तर और दक्षिण कश्मीर के प्रतिनिधिमंडल भी दिनेश्वर शर्मा से मुलाकात करेगा। शर्मा ने अभी तक इस बात को साफ नहीं किया है कि वह कश्मीर में किस तरह से वार्ता को आगे बढ़ाएंगे। हालांकि वह बार-बार इस बात को कह रहे हैं कि वह हर 'भारतीय नागरिक' से बात करने को तैयार हैं। शर्मा की मानें जो वह कश्मीर के लोगों का दर्द समझकर उसका हल तलाशना चाहते हैं। 


जिस पत्रकारिता का कभी स्वर्णिम युग ना था , उसमे स्वर्णिम व्यक्तित्व की तरह उ

अटल जी के निधन से आहत हुआ देश !


 VT PADTAL