VT Update
बोर्ड परीक्षाओं की तिथि का काउंटडाउन शुरू 9 दिन बचे शेष, प्रशासन ने कसी कमर चप्पे-चप्पे पर रहेगा पुलिस का पहरा 10 हेक्टयर के रकबा वाले किसान के नाम पर 27 हेक्टर का पंजीयन निरीक्षण के दौरान कलेक्टर ने पकड़ी गड़बड़ी दो पटवारी सस्पेंड प्रदेश में पहली बार 3 तरह की अबकारी नीति, 25 प्रतिशत बढ़ेगी शराब दुकानों की कीमत, नहीं खोली जाएंगी उप दुकाने नगरी निकाय और किसानों को मिलने वाली बिजली महंगी करने की तैयारी में सरकार, घाटे को कम नहीं कर पा रही बिजली कंपनियां प्रधानमंत्री मोदी की मुहिम को झटका, आधे से भी कम सांसदों ने गांव लिए गोद, 778 कुल सांसद 300 गांव ही लिए गए गोंद
Saturday 20th of July 2019 | कई राज्यों के बदलें राज्यपाल

आनंदी बेन गई यूपी, बिहार से आए यूपी के टंडन, अब संभालेंगे मध्यप्रदेश के महामहिम की जिम्मेदारी


राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने देश के कई राज्यों के पालों को इधर से उधर किया है। जिसमें मध्य प्रदेश की राज्यपाल और गुजरात की पूर्व मुख्यमंत्री आनंदी बेन पटेल को उत्तर प्रदेश के राज्यपाल पद की जिम्मेदारी दी है। वह निवर्तमान राज्यपाल राम नाईक का स्थान लेंगी जिनका कार्यकाल खत्म हो रहा है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने उनके नाम के अलावा छह और राज्यपालों के नाम को मंजूरी प्रदान की है। आनंदीबेन पटेल मध्यप्रदेश की दूसरी और कुल 27 वीं महिला गवर्नर रहीं।  अगस्त 2018 में लालजी टंडन ने बिहार के राज्यपाल की शपथ ली थी। पार्षद से सांसद बनने तक के उनके सफर में दिवंगत पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का बड़ा योगदान रहा है। लालजी टंडन लखनऊ लोकसभा सीट से सांसद भी रह चुके हैं और अ बवह मध्यप्रदेश के राज्यपाल पद की जिम्मेदारी संभालेंगे। 

लालजी टंडन का इतिहास : 12 अप्रैल 1935 में जन्में लालजी टंडन भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेताओं में शुमार रहे है। पूर्व प्रधानमंत्री स्व. अटल बिहारी वाजपेयी के 2009 में राजनीति से संन्यास लेने के बाद वो लखनऊ से 2009 में लोकसभा सांसद चुने गए थे। उत्तर प्रदेश की राजनीति में सक्रिय रहने वाले टंडन राज्य में बीजेपी सरकार में मंत्री भी रह चुके हैं। इनका राजनीतिक सफर साल 1960 में शुरू हुआ। टंडन दो बार पार्षद चुने गए और दो बार विधान परिषद के सदस्य भी रहे है। मायावती और कल्याण सिंह की कैबिनेट में वह नगर विकास मंत्री का दायित्व संभाल चुके है। कुछ दिनों तक वह उत्तरप्रदेश की विधानसभा में विपक्ष का नेतृत्व भी किया है। लालजी टंडन ने इंदिरा गांधी की सरकार के खिलाफ जारी जेपी आंदोलन में भी बढ़.चढकर हिस्सा लिया था। मूल रूप से उत्तर प्रदेश की राजनीति में सक्रिय रहने वाले टंडन प्रदेश की भाजपा सरकारों में मंत्री भी रहे हैं और उन्हें मोदी सरकार ने तोहफा देते हुए बिहार के राज्यपाल के पद पर बैठाने के लिए नामित किया था। जिस पर राष्ट्रपति द्वारा मंजूरी मिली थी और 2018 में उन्होंने बिहार के राज्यपाल पद की शपथ ली थी। कई राज्यपालों के कार्यकाल खत्म होने के कारण केंद्र सरकार ने नए नामों की सूची राष्ट्रपति भवन को भेजी थी। जिसमें लालजी टंडन को मध्यप्रदेश का राज्यपाल बनाए जाने की भी सिफारिस की गई थी। जिसे मंजूरी मिल गई।


शिक्षकों को केजरीवाल के शपथ ग्रहण समारोह में आमंत्रण पर सियासत गरमाई,सिसोद

आज ही के दिन हुआ था पुलवामा हमला


 VT PADTAL