VT Update
केजरीवाल ने दिया शिवराज को प्रस्ताव शिक्षा में सुधार करना हो तो मनीष को भेज दूँ मध्यप्रदेश सीएम फेस की अटकलों पर शिवराज ने लगाया विराम, कहा कि मेरे ही नेतृत्व में बनेगी भाजपा की अगली सरकार वार्ड क्र 16 में मुख्यमार्ग से परेशान रहवासी, मार्ग का नहीं हो रहा निर्माण, 4 बार किया जा चुका है भूमिपूजन दिल्ली मैट्रो को सितम्बर से बिजली सप्लाई करेगा, बदबार का अल्ट्रामेगा सोलर पावर प्लांट गोविंदगढ़ थाना क्षेत्र के धोबखरी गांव में भाई की जान बचाने नहर में कूदी बहन, हुई मौत
रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण के अरुणाचल दौरे पर चीन ने जताई आपत्ती। 

रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण के अरुणाचल दौरे पर चीन ने जताई आपत्ती। 


नई दिल्ली। रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण की अरुणाचल यात्रा को लेकर चीन ने बेहद सख्त प्रतिक्रया दी है। चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता चुनिंग ने रक्षा मंत्री की अरुणाचल यात्रा को लेकर कहा है कि, 'भारत-चीन सीमा के पूर्वी हिस्से को लेकर विवाद है भारतीय रक्षा मंत्री का यह दौरा उस क्षेत्र में शांति बनाए रखने की कोशिशों के लिहाज से अनुकूल नहीं है।' चीनी अधिकारी ने कहा है कि, 'हमें आशा है कि सीमा विवाद को बातचीत के जरिए सुलझाने के लिए अनुकूल माहौल तैयार करने में भारतीय पक्ष चीन की कोशिशों में सहयोग देगा।'

बता दें कि चीन लगातार दावा करता रहा है कि अरुणाचल प्रदेश दक्षिणी तिब्बत का हिस्सा है। वह भारतीय शीर्ष अधिकारियों के इस इलाके के दावे पर नियमित रूप से आपत्ति जताता है। भारत और चीन के बीच वास्तविक नियंत्रण रेखा 3,488 किलोमीटर लंबी है। 
रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण ने चीन की सीमा से लगे अरुणाचल प्रदेश के सुदूर अंजॉ जिले में सेना की अग्रिम चौकियों का रविवार को दौरा किया था। इसके साथ ही रक्षामंत्री ने चीनी सीमा पर रक्षा तैयारियों का जायजा लिया था। रक्षामंत्री के साथ उनके साथ पूर्वी कमान के जनरल आफिसर कमांडिंग-इन-चीफ ले. जनरल अभय कृष्ण और सेना के अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी साथ थे। रक्षा प्रवक्ता संवित घोष ने एक विज्ञप्ति में बताया कि रक्षामंत्री को वास्तविक नियंत्रण रेखा की स्थिति और रक्षा तैयारियों के बारे में जानकारी दी गई है। 


कुमारस्वामी ने साबित किया बहुमत

वाराणसी: निर्माणाधीन फ्लाईओवर के स्लैब गिरने हुआ बड़ा हादसा, अब तक 12 की मौत  


 VT PADTAL