VT Update
विंध्य के सबसे बड़े अस्पताल संजय गांधी की सुरक्षा व्यवस्था पर उठे सवाल, अस्पताल के पार्किंग से चोरी हुई बोलेरो वाहन रीवा मेडिकल कॉलेज में लगेगा रूफटाफ का प्रदेश का सबसे बड़ा सोलर प्रोजेक्ट मतदाता जागरूकता के लिए रवाना हुई बुलेट रैली, कलेक्टर प्रीति मैथिल ने दिखाई हरी झंडी मध्यप्रदेश के शिवपुरी जिले में घटिया पुल निर्माण पर गिरी गाज, पीडब्लयूडी के चार अफसर सस्पेंड रीवा सहित प्रदेश भर में हर्षोल्लास के साथ मनायी गई कृष्ण जन्माष्टमी, शिल्पी प्लाजा में हुआ मटकी फोड़ने का भव्य आयोजन
Monday 6th of November 2017 | सेक्स सीडी कांड

सेक्स सीडी कांडः पत्रकार विनोद वर्मा की जमानत याचिका खारिज


रायपुर। छत्तीसगढ़ के BJP मंत्री के कथित सेक्स सीडी कांड के मामले पर पत्रकार विनोद वर्मा की जमानत याचिका कोर्ट ने खारिज कर दी है। तकरीबन 1 घंटे तक चली बहस में वर्मा की ओर से सुदीप श्रीवास्तव और फैजल रिजवी ने अपनी दलीलें रखीं। दोनों वकीलों का कहना था कि आरोपी वरिष्ठ पत्रकार हैं इसलिए उन्हें जमानत देने में कोई आपत्ति नहीं होनी चाहिए। वहीं बचाव पक्ष के वकील ने जमानत का विरोध करते हुए कहा है कि, वर्मा एक पार्टी से जुड़े हैं। इसलिए जांच को प्रभावित कर सकते हैं। अभी सीडी की जांच रिपोर्ट नहीं आई है। इसलिए जमानत नहीं मिलनी चाहिए।

बतादें इससे पहले 27 अक्टूबर को पत्रकार विनोद वर्मा को प्रकाश बजाज नाम के एक शख्स की शिकायत के आधार पर गिरफ्तार किया गया था। बजाज ने अपनी शिकायत में कहा था कि खुद को विनोद वर्मा बताने वाले एक शख्स ने उसे फोन पर धमकी दी और किसी अश्लील सीडी का हवाला देकर ब्लैकमेल करने की कोशिश की। शिकायतकर्ता ने अपनी शिकायत में कहा है कि फोन करनेवाले शख्स ने उससे कहा कि उनके पास उसके आका की सीडी है और अगर मांगें नहीं मानी गई तो वह उन सीडी को बांट देगा। इसके बाद वर्मा के खिलाफ छत्तीसगढ़ के पंडरी थाने में आईपीसी की धारा 384, 506 और आईटी ऐक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया गया, जिसके आधार पर पुलिस पत्रकार विनोद वर्मा को उनके गाजियाबाद स्थित आवास से गिरफ्तार कर लिया गया था। 


प्रद्युम्न मर्डर केस: हत्या के आरोपी नाबालिग छात्र ने CBI पर डरा धमका कर जुर्म

ATM से निकला आधा असली आधा नकली 2000 का नोट 


 VT PADTAL