VT Update
केजरीवाल ने दिया शिवराज को प्रस्ताव शिक्षा में सुधार करना हो तो मनीष को भेज दूँ मध्यप्रदेश सीएम फेस की अटकलों पर शिवराज ने लगाया विराम, कहा कि मेरे ही नेतृत्व में बनेगी भाजपा की अगली सरकार वार्ड क्र 16 में मुख्यमार्ग से परेशान रहवासी, मार्ग का नहीं हो रहा निर्माण, 4 बार किया जा चुका है भूमिपूजन दिल्ली मैट्रो को सितम्बर से बिजली सप्लाई करेगा, बदबार का अल्ट्रामेगा सोलर पावर प्लांट गोविंदगढ़ थाना क्षेत्र के धोबखरी गांव में भाई की जान बचाने नहर में कूदी बहन, हुई मौत
सेक्स सीडी कांड

सेक्स सीडी कांडः पत्रकार विनोद वर्मा की जमानत याचिका खारिज


रायपुर। छत्तीसगढ़ के BJP मंत्री के कथित सेक्स सीडी कांड के मामले पर पत्रकार विनोद वर्मा की जमानत याचिका कोर्ट ने खारिज कर दी है। तकरीबन 1 घंटे तक चली बहस में वर्मा की ओर से सुदीप श्रीवास्तव और फैजल रिजवी ने अपनी दलीलें रखीं। दोनों वकीलों का कहना था कि आरोपी वरिष्ठ पत्रकार हैं इसलिए उन्हें जमानत देने में कोई आपत्ति नहीं होनी चाहिए। वहीं बचाव पक्ष के वकील ने जमानत का विरोध करते हुए कहा है कि, वर्मा एक पार्टी से जुड़े हैं। इसलिए जांच को प्रभावित कर सकते हैं। अभी सीडी की जांच रिपोर्ट नहीं आई है। इसलिए जमानत नहीं मिलनी चाहिए।

बतादें इससे पहले 27 अक्टूबर को पत्रकार विनोद वर्मा को प्रकाश बजाज नाम के एक शख्स की शिकायत के आधार पर गिरफ्तार किया गया था। बजाज ने अपनी शिकायत में कहा था कि खुद को विनोद वर्मा बताने वाले एक शख्स ने उसे फोन पर धमकी दी और किसी अश्लील सीडी का हवाला देकर ब्लैकमेल करने की कोशिश की। शिकायतकर्ता ने अपनी शिकायत में कहा है कि फोन करनेवाले शख्स ने उससे कहा कि उनके पास उसके आका की सीडी है और अगर मांगें नहीं मानी गई तो वह उन सीडी को बांट देगा। इसके बाद वर्मा के खिलाफ छत्तीसगढ़ के पंडरी थाने में आईपीसी की धारा 384, 506 और आईटी ऐक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया गया, जिसके आधार पर पुलिस पत्रकार विनोद वर्मा को उनके गाजियाबाद स्थित आवास से गिरफ्तार कर लिया गया था। 


सेक्स सीडी कांडः पत्रकार विनोद वर्मा की जमानत याचिका खारिज

दिन में क्लर्क, रात में कारों का टायर चोर 


 VT PADTAL