VT Update
जल्द होंगे पंचायत चुनाव 27 को होगा पंच सरपंच का आरक्षण देर रात किया गया आरक्षण प्रक्रिया का प्रारंभिक प्रकाशन जल्द होंगे पंचायत चुनाव 27 को होगा पंच सरपंच का आरक्षण देर रात किया गया आरक्षण प्रक्रिया का प्रारंभिक प्रकाशन दावोस में वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम की वार्षिक बैठक आज , मुख्यमंत्री कमलनाथ करेगे शीर्ष उद्योगपतियों से वन टू वन मुलाकात, मध्यप्रदेश में निवेश की संभावनाओं पर करेगे चर्चा सोसायटियों में वंचितों को मिलेगा प्लाट या मुआवजा, कलेक्टर समिति पदाधिकारियों से कर रहे वन टू वन, जनसुनवाई में आए प्रकरणों का हो रहा निराकरण साध्वी प्रज्ञा को धमकी भरा पत्र लिखने वाले रहमान ने एमपीएस की पूछताछ में किया खुलासा अपनी मां और भाई को फसाने के लिए सांसद प्रज्ञा को लिफाफे में भरकर भेजा था पाउडर, भाई और माँ के कारण आरोपी को 18 दिन रहना पड़ा था जेल में
Saturday 3rd of August 2019 | राज्यसभा में दिग्गी और शाह आमने-सामने

दिग्गी को भारी पड़ा अमित शाह को नसीहत देना, बन गए हंसी के पात्र


राज्यसभा में शुक्रवार को आतंकवाद के खिलाफ पेश किए गए यूएपीए संशोधन बिल पर चर्चा के दौरान गृहमंत्री अमित शाह और कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह के बीच तीखी नोंकझोंक देखने को मिली। बात इस कदर बढ़ गई की दिग्गी ने शाह को नसीहत तक दे डाली। दिग्विजय ने उन्हें अध्यक्ष पद छोड़ने की नसीहत देते हुए कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा को भाजपा की कमान सौंप देने की बात कह डाली। इस पर एक सुर में राज्यसभा सांसदों ने कहा पहले आप अपना अध्यक्ष तो खोज लीजिए। इस दौरान राज्यसभा में ठहाके गूंज उठे और दिग्विजय असहज हो गए।

        दरअसल, राज्यसभा में यूएपीए संशोधन बिल पर चर्चा करते हुए दिग्विजय सिंह ने कहा. गृहमंत्री जी आप आज जिस कुर्सी में बैठे हैं वहां कभी सरदार वल्लभ भाई पटेल बैठते थे। वो भी गुजरात के थे। अब आप गृहमंत्री बन गए हैं और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं। आप भाजपा अध्यक्ष का कुर्सी छोड़कर जेपी नड्डा की ताजपोशी कर दीजिए। दिग्विजय सिंह के इस बयान के बाद भाजपा सदस्यों ने कहा पहले आप अपना अध्यक्ष तो बना लीजिए। जिसके जबाव में दिग्विजय सिंह असहज हो गए और खुद को संभालते हुए कहा कि हम तो अपना बना ही लेंगे। हालांकि इस पूरे घटनाक्रम के दौरान कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा सदन में मौजूद थे। लेकिन उन्होंने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी।

         गौरतलब है कि मोदी सरकार में शाह गृहमंत्री है और उनके पास पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष का भी दायित्व है। नियम के मुताबिक मंत्री बनने के बाद एक पद छोड़ना होता है। लेकिन अब तक बीजेपी में अध्यक्ष कौन होगा यह तय नही हो पाया है। वहीं, कांग्रेस में ऱाहुल गांधी के अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने के बाद अध्यक्ष की तलाश जारी है, पार्टी अब तक नाम तय नहीं कर पाई है, हालांकि चर्चा में कई दिग्गजों के नाम बने हुए है।


चिदांबरम के विरोध में आए कमलनाथ के मंत्री सज्जन सिंह वर्मा,  मोदी सरकार का कि

सिंधिया के बदले सूर पर पूर्व मंत्री पवैया का हमला, सवाल दागते हुए दिया निमंत


 VT PADTAL