VT Update
जल्द होंगे पंचायत चुनाव 27 को होगा पंच सरपंच का आरक्षण देर रात किया गया आरक्षण प्रक्रिया का प्रारंभिक प्रकाशन जल्द होंगे पंचायत चुनाव 27 को होगा पंच सरपंच का आरक्षण देर रात किया गया आरक्षण प्रक्रिया का प्रारंभिक प्रकाशन दावोस में वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम की वार्षिक बैठक आज , मुख्यमंत्री कमलनाथ करेगे शीर्ष उद्योगपतियों से वन टू वन मुलाकात, मध्यप्रदेश में निवेश की संभावनाओं पर करेगे चर्चा सोसायटियों में वंचितों को मिलेगा प्लाट या मुआवजा, कलेक्टर समिति पदाधिकारियों से कर रहे वन टू वन, जनसुनवाई में आए प्रकरणों का हो रहा निराकरण साध्वी प्रज्ञा को धमकी भरा पत्र लिखने वाले रहमान ने एमपीएस की पूछताछ में किया खुलासा अपनी मां और भाई को फसाने के लिए सांसद प्रज्ञा को लिफाफे में भरकर भेजा था पाउडर, भाई और माँ के कारण आरोपी को 18 दिन रहना पड़ा था जेल में
Thursday 8th of August 2019 | उमा की एंट्री से भाजपा दिग्गजों में खलबली

प्रदेश की सियासत में सक्रिय होती उमा भारती, सियासी गलियारे में चर्चाओं को बाजार गर्म


मध्य प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री व भारतीय जनता पार्टी की कद्दावर नेत्री उमा भारती अब प्रदेश की सियासत में सक्रिय होती दिखाई दे रही है। उनकी इस सक्रियता से बीजेपी हल्के में खलबली मची हुई है। इससे पूर्व जब वह केंद्र में मंत्री रहीं तो प्रदेश की राजनीति में इस कदर सक्रिय नहीं दिखीं जिस प्रकार से वर्तमान में दिख रही है। लगातार वह प्रदेश के कई कार्यक्रमों में शामिल हो रही है।

        बीते तीन दिनों से वह भोपाल में भाजपा नेताओं से भेंटवार्ता कर रही हैं। यहीं नहीं वह बीजेपी के उन नेताओं के साथ खड़ी नज़र आ रही हैं जो इस समय काफी मुश्किलों का सामना कर रहे हैं। सूत्रों की माने तो प्रदेश के वरिष्ठ भाजपा नेताओं में उनकी इस सक्रियता से काफी खलबली मची हुई है। उन्हें इस बात का डर बना हुआ है कि उमा के यहां आने से उनकी राजनीति खतरे में पड़ सकती है। पार्टी में उनकी कद भी घट सकता है। बता दें विधानसभा सत्र के दौरान हुए घटना क्रम से बीजेपी का हाईकमान काफी नाराज है। पार्टी से दो विधायकों ने बगावत कर कांग्रेस में जाने का मन बना लिया है। जिससे आलाकमान प्रदेश नेतृत्व से असंतुष्ट बताया जा रहा है। पार्टी के गलियारे में चर्चा है कि नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव से विधायकों की असंतुष्टी के कारण उनके कद पर भी खतरे के बादल मंडरा रहें हैं। चर्चा है कि भार्गव द्वारा दिए गए बयानों से पार्टी को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।  ऐसे में अब गोपाल समेत अन्य नेता उमा भारती से मुलाकात कर रहे हैं। यही नहीं बताया जा रहा है कि पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से भी इन्होंने दूरी बनाए रखी है। राजनीति जानकारों का कहना है कि उमा खुलकर अब सामने नहीं आ रही हैं। वह इन्हीं नेताओं के भरोसे अपनी सियासत करना चाह रही है। यही नहीं वह पार्टी के कार्यक्रमों में भी लगातार भाग ले रही हैं। उन्होंने हाल ही में प्रदेश के नए राज्यपाल लालजी टंडन से नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव के साथ मुलाकात की। जिसके कई मायने सियासी गलियारों में निकाले जा रहे हैं।


चिदांबरम के विरोध में आए कमलनाथ के मंत्री सज्जन सिंह वर्मा,  मोदी सरकार का कि

सिंधिया के बदले सूर पर पूर्व मंत्री पवैया का हमला, सवाल दागते हुए दिया निमंत


 VT PADTAL