VT Update
विन्ध्य में उद्योगों को लगेंगे पंख , मर्जी के मुताबिक उद्योगपतियों को मिलेगी जमीन , लैंड बैंक और लैंड पूल स्कीम से विन्ध्य में विकसित होगा उद्योग खोले गए लबालब बाणसागर के 10 गेट , रीवा, सतना, सीढ़ी, सिंगरौली, और शहडोल में अलर्ट घोषित आर्थिक मंदी के खिलाफ कांग्रेस मध्यप्रदेश समेत पुरे देश में छेड़ेगी आन्दोलन , दिल्ली में हुई पार्टी पदाधिकारियों की बैठक में सोनिया गाँधी ने दी जानकारी धुंधली होने लगी है विक्रम लैंडर से संपर्क की उम्मीद, लैंडर को नुक्सान पहुचने की आशंका बढ़ी यौन उत्पीड़न मामले में एसआईटी ने भाजपा नेता चिन्मयानंद से 7 घंटे की पूछताछ, चिन्मयानंद के आवास पर उनके बेडरूम की गई तलाशी
Thursday 8th of August 2019 | उमा की एंट्री से भाजपा दिग्गजों में खलबली

प्रदेश की सियासत में सक्रिय होती उमा भारती, सियासी गलियारे में चर्चाओं को बाजार गर्म


मध्य प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री व भारतीय जनता पार्टी की कद्दावर नेत्री उमा भारती अब प्रदेश की सियासत में सक्रिय होती दिखाई दे रही है। उनकी इस सक्रियता से बीजेपी हल्के में खलबली मची हुई है। इससे पूर्व जब वह केंद्र में मंत्री रहीं तो प्रदेश की राजनीति में इस कदर सक्रिय नहीं दिखीं जिस प्रकार से वर्तमान में दिख रही है। लगातार वह प्रदेश के कई कार्यक्रमों में शामिल हो रही है।

        बीते तीन दिनों से वह भोपाल में भाजपा नेताओं से भेंटवार्ता कर रही हैं। यहीं नहीं वह बीजेपी के उन नेताओं के साथ खड़ी नज़र आ रही हैं जो इस समय काफी मुश्किलों का सामना कर रहे हैं। सूत्रों की माने तो प्रदेश के वरिष्ठ भाजपा नेताओं में उनकी इस सक्रियता से काफी खलबली मची हुई है। उन्हें इस बात का डर बना हुआ है कि उमा के यहां आने से उनकी राजनीति खतरे में पड़ सकती है। पार्टी में उनकी कद भी घट सकता है। बता दें विधानसभा सत्र के दौरान हुए घटना क्रम से बीजेपी का हाईकमान काफी नाराज है। पार्टी से दो विधायकों ने बगावत कर कांग्रेस में जाने का मन बना लिया है। जिससे आलाकमान प्रदेश नेतृत्व से असंतुष्ट बताया जा रहा है। पार्टी के गलियारे में चर्चा है कि नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव से विधायकों की असंतुष्टी के कारण उनके कद पर भी खतरे के बादल मंडरा रहें हैं। चर्चा है कि भार्गव द्वारा दिए गए बयानों से पार्टी को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।  ऐसे में अब गोपाल समेत अन्य नेता उमा भारती से मुलाकात कर रहे हैं। यही नहीं बताया जा रहा है कि पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से भी इन्होंने दूरी बनाए रखी है। राजनीति जानकारों का कहना है कि उमा खुलकर अब सामने नहीं आ रही हैं। वह इन्हीं नेताओं के भरोसे अपनी सियासत करना चाह रही है। यही नहीं वह पार्टी के कार्यक्रमों में भी लगातार भाग ले रही हैं। उन्होंने हाल ही में प्रदेश के नए राज्यपाल लालजी टंडन से नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव के साथ मुलाकात की। जिसके कई मायने सियासी गलियारों में निकाले जा रहे हैं।


मोदी सरकार के समर्थन में आए कई कांग्रेसी दिग्गज, नाराज कांग्रेस ने बुलाई बैठ

प्रदेश की सियासत में सक्रिय होती उमा भारती, सियासी गलियारे में चर्चाओं को बा


 VT PADTAL