VT Update
रीवा के विकास कार्यों में लगा ग्रहण, 250 करोड़ के प्रोजेक्ट अटके, 1 साल की प्रदेश सरकार की मंशा पर उठे सवाल रीवा में कोहरे की चादर 15 डिग्री सेल्सियस तापमान, दिनभर छाई रही बदली मध्य प्रदेश सरकार के अभियान ‘शुद्ध के लिए युद्ध’ में दौडा भोपाल, मिलावट के खिलाफ शुरू हुआ अभियान 20,000 से ज्यादा लोग अभियान में रहे शामिल पीएनबी ने छिपाया अपना 2617 करोड़ रुपए का डूबा हुआ कर्ज आरबीआई की जांच में खुलासा 2018-19 में छुपाया था एनपीए 21 मई को अंतरराष्ट्रीय चाय दिवस घोषित, पूरी दुनिया एक साथ लेगी चाय की चुस्की, संयुक्त राष्ट्र महासभा ने स्वीकारा भारत का 4 साल पहले का प्रस्ताव
Friday 9th of August 2019 | नहीं थम रहा बाघों की मौत का सिलसिला

उमरिया जिले के बांधवगढ़ रेंज में टी-23 बाघिन की मौत, दो सप्ताह में चार बाघों की मौत


उमरिया जिले के बांधवगढ़ टाईगर रेंज में बाघों की मौत का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। इसी क्रम में बीते बुधवार की देर शाम 17 वर्षीय टी-23 बाघिन ने दम तोड़ दिया। जानकारी के मुताबिक मृत बाघिन बीते कई दिनों से अस्वस्थ चल रही थी। जिसे चिकित्सकों की निगरानी में बठान इंक्लोजर में रखा गया था। हालत में सुधार न होने के कारण बाघिन ने दम तोड़ दिया। बताया जा रहा कि बाघिन को घायल अवस्था में टाईगर रिजर्व के धमखोरा रेंज के दुब्बार बीट से रेस्क्यू किया गया था। जिसका उपचार जारी था। उम्र अधिक होने के कारण घायल बाघिन रिकवरी नहीं कर पा रही थी। जिससे बीते बुधवार की देर शाम दम तोड़ दिया। आपको बता दें कि इससे पूर्व बांधवगढ़ टाईगर रिजर्व में ही दो सप्ताह पूर्व तीन बाघों की मौत हो गई थी। हालांकि अभी तक उनके मौत स्पष्ट कारण सामने नहीं आ पाए है। वन प्रबंधन के मुताबिक टी-23 बाघिन का जन्म 2002 में हुआ था। जिसने अपने तीन बार के प्रजनन में 9 शावकों को जन्म दिया है। हालांकि बाघों की जारी मौत के क्रम ने वन प्रबंधन के कार्यप्रणाली को लेकर सवाल खड़ा कर दिया है। लगातार बाघों के घायल होने की घटनाएं सामने आ रही है ऐसे में यह बाघ किन परिस्थितियों में घायल हो रहे यह अभी तक स्पष्ट नहीं पाया है|


पानी निकासी न होने की वजह से दुकानदारों को हो रही समस्या

ग्रामीण महिलओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए बनाये गए है सिलाई केंद्र


 VT PADTAL