VT Update
सतना के बदमाशों ने की रीवा में 11 वारदात, चेन स्नाचिंग जैसी तमाम अपराध करने वाले अपराधी हुए गिरफ्तार, पुलिस न ली राहत की सांस बाल दिवस पर पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने साधा कांग्रेस पर निशाना कहा बच्चों की योजनाएं शुरू करें सरकार वरना आंदोलन करने के लिए होंगे बाध्य ऑनलाइन परीक्षा के बहाने पीएससी ने दोगुने कर दिए पीएससी का शुल्क 310 पदों के लिए प्रारंभिक परीक्षा होगी 12 जनवरी को, आयोग ने विज्ञापन जारी कर दी जानकारी नवंबर 2020 में चंद्रयान भेजने की तैयारी में हुई गलतियों पर एक रिपोर्ट, अगले साल नवंबर में चंद्र की चंद्रमा पर हो सकेगी लैंडिंग हरियाणा में मनोहर लाल खट्टर के मुख्यमंत्री बनने के बाद मंत्रिमंडल का हुआ विस्तार 6 कैबिनेट मंत्रियों ने ली शपथ हर वर्ग के लोगों को बनाया गया मंत्री.
Tuesday 13th of August 2019 | कर्ज मे डूबी कमलनाथ सरकार

प्रदेश सरकार ने लिया फिर 1 हजार करोड़ का कर्ज, अब तक ले चुकी है 12 हजार करोड़ रुपए कर्ज, अभी 18 हजार करोड़ और ले सकती है कर्ज


मध्यप्रदेश की कमलनाथ सरकार की आर्थिक स्थिति पतली होती जा रही है। जिसे दुरूस्त करने के लिए प्रदेश सरकार लगातार कर्ज पर कर्ज ले रही है। प्रदेश के सरकारी खजाने पर कर्ज का दबाव भी लगातार बढ़ता ही जा रहा है। सत्ता में आने के बाद से ही विकास कार्यों और वादों को पूरा करने में जुटी सरकार को हर महिने कर्ज लेने की नौबत आन पड़ी है। इन सब के बीच सबसे बड़े चुनावी वादे, किसानों की कर्जमाफी को पूरा करना सरकार के लिए सबसे बड़ी चुनौती बन गई है। कांग्रेस पार्टी की सरकार को सत्ता में आए भले ही आठ महिने हो गए है लेकिन अब तक किसानों का कर्ज माफ करने का वादा परवान नहीं चढ़ सका है। जिसे पूरा करने के लिए सरकार ने एक बार फिर एक हजार करोड़ रुपये का कर्ज लिया है। आर्थिक जानकारों की माने तो सरकार द्वारा लगातार लिए जा रहे कर्ज का भार आम जनता के कंधों पर पड़ने वाला है।

           आपको बता दें कि आठ महिने की इस सरकार का ऐसा कोई भी महीना नहीं बीता जब सरकार ने भारतीय रिजर्व बैंक के माध्यम से कर्ज न लिया हो। कमलनाथ सरकार जनवरी से अगस्त तक कुल 12 हजार 600 करोड़ रुपए का कर्ज ले चुकी है। सरकारी गलियारे में चर्चा है कि कमलनाथ सरकार अभी 18 हजार करोड़ रुपए तक कर्ज और ले सकती है। अब देखना है कि कर्ज लौटाने व उसकी भरपाई के लिए कमलनाथ सरकार क्या कुछ कदम उठाती है। आशंका जताई जा रही कि सरकार प्रदेश की आर्थिक स्थिति को सुधारने के लिए सरकार प्रदेशवासियों पर महंगाई का बोझ लाद सकती है। वहीं, इस बात पर भी नजर टिकी है कि सरकार आय के स्त्रोत को बढ़ाने के लिए लगातार कवायद कर रही है।

 


शिवराज सरकार में आवंटित बंगलो की होगी होगी जाँच

सिंधिया पर फिर भरोसा जताया पार्टी ने, मिली बड़ी जिम्मेदारी


 VT PADTAL