VT Update
एकीकृत जिला शिक्षा सूचना प्रणाली कि अंतिम रिपोर्ट से खुलासा, केवल 7 प्रतिशत स्कूलों में है इंटरनेट की सुविधा, अंधेरे में जिले कि 532 स्कूलें टीवी एक्टर सिद्धार्थ शुक्ला बने बिग बॉस सीजन 13 के विजेता, सर्वाधिक वोट पाकर हासिल किया विजेता का टैग धान खरीदी की मांग को लेकर अनशन पर बैठे अनशनकारी का स्वास्थ्य बिगड़ा, सांसद विधायक पहुंचे, रामबाग चौराहे में होगा चक्का जाम फर्जी कंपनी की शिकायत की पड़ताल के बाद EOW में दर्ज की प्राथमिकी फर्जी कंपनी को दिया दवा सप्लाई का ठेका और बिना सप्लाई लिया भुगतान मुख्यमंत्री कमलनाथ ने दिया संकेत प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष की जल्द होगी घोषणा मुख्यमंत्री ने सोनिया गांधी से की मुलाकात
Sunday 18th of August 2019 | भाजपा ऑडियो वायरल कांड में महिला नेता ने की कार्रवाई की मांग

ऑडियो वायरल पर संगठन का चला डंडा, दोषी जिला मंत्री को किया गया निलंबित


भारतीय जनता पार्टी के रीवा इकाई में बीते दिनों पैसे के लेनदेन को लेकर वायरल हुए ऑडियो में भाजपा संगठन ने एक्शन लिया है। जिसमें दोषी पाए गए पार्टी के जिला मंत्री सत्यमणि पांडे की प्राथमिक सदस्यता से निलंबित कर दिया है। वहीं, चर्चा में रहे पूर्व मंत्री और रीवा से विधायक राजेंद्र शुक्ल को क्लीन चीट मिल गई है। रीवा भाजपा में एक ऑडियो वायरल होने के बाद से मची फूट पर अब विराम लग गया है। जिसमें संगठन ने दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की है। संगठन ने इस मामले में दोषी पाए गए जिला मंत्री सत्यमणि पांडे की प्राथमिक सदस्यता निलंबित कर दी है। आपको बता दें कि बीते दिनों मऊगंज से भाजपा विधायक प्रदीप पटेल ने परिवहन विभाग के हनुमना चेक पोस्ट पर मनमानी और अव्यवस्था को लेकर धरना दिया था। जिसके बाद उन पर पैसा मांगने व दबाव की राजनीति करने के आरोपों वाला ऑडियो वायरल हुआ था। जिसमें आरोप है कि पूर्व मंत्री और रीवा से भाजपा विधायक राजेंद्र शुक्ला तथा जिला मंत्री सत्यमणि पटेल के बीच यह बातचीत चल रही है। इस ऑडियो के सामने आने के बाद भाजपा संगठन में हड़कंप मच गया। जिसके बाद इस मामले की शिकायत पार्टी के शीर्ष नेतृत्व से की गई। इस मामले को लेकर संगठन ने कारण बताओ नोटिस जारी करते हुए सात दिन में जवाब मांगा था।

आपको बता दें कि वायरल हो रहे टेप के आवाजों को जिलाध्यक्ष विद्याप्रकाश श्रीवास्तव ने पकड़ा था। जिसमें उन्होंने जिला मंत्री के आवाज होने की पुष्टि की थी। वहीं, इस मामले पर पूर्व मंत्री ने सफाई देते हुए प्रदीप पटेल को संस्कारी और चरित्रवान नेता बताते हुए राजनीतिक प्रतिद्वंदता के कारण अपने ऊपर आरोप लगाए जाने का दावा कर दिया। जिसके बाद बीते दिनों रीवा प्रवास पर आए प्रदेशाध्यक्ष राकेश सिंह व संगठन मंत्री से विधायत प्रदीप पटेल ने कार्रवाई की मांग की। जिसके बाद पार्टी ने जिला मंत्री को दोषी मानते हुए प्राथमिक सदस्यता से निलंबित कर दिया है। वहीं, दूसरे पक्ष में आरोपी रहे पूर्व मंत्री राजेंद्र शुक्ल को पूरी तरह से क्लीन चीट मील गई है। इसके अलावा अभी भी वायरल हुए टेप पर संदेह बरकरार है। जिसमें इस बात की तहकीकात की जा रही कि भीतर अकेले में हो रही बात को रिकाॅर्ड किसने कर लिया।

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश नेतृत्व द्वारा दोषियों पर कार्रवाई किए जाने के बाद स्पष्ट हो गया है कि भाजपा अपने इकाई में किसी भी प्रकार अनुशासनहिनता बर्दाश्त नहीं कर सकती है। जिसका उदाहरण साफ है कि काफी जांच पड़ताल के बाद इस मामले में संगठन द्वारा अनुशासनात्मक कार्रवाई की गई है। वहीं, इस कार्रवाई के बाद महिला आदिवासी नेता ने उर्मिला सिंह ने सत्यमणि पांडे के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग को लेकर पुलिस उपाधीक्षक से बात की है। अब देखना है कि पुलिस इस मामले में क्या कार्रवाई करती है।


 त्योंथर किसान कर रहे हैं धान खरीदी शुरू करनें की मांग,धरनें से SDM कार्यालय का

हत्या से पहले शुभम किसी लड़की से कर रहा था बहस


 VT PADTAL