VT Update
देश के हर घर को बिजली देने की कोशिश हो रही है: राष्ट्रपति कोविंद सरकार ने गरीबों के लिए बैंकिंग सुविधा को आसान किया: राष्ट्रपति कोविंद रामगढ़ उपचुनाव: कांग्रेस की साफिया खान जीतीं J-K:अनंतनाग में पुलिस स्टेशन पर ग्रेनेड से हमला, 3 नागरिक और 1 जवान घायल गोपाल भार्गव बने नेता मप्र.विधानसभा नेता प्रतिपक्ष
Tuesday 14th of November 2017 | प्रद्युम्न मर्डर केस

प्रद्युम्न मर्डर केस: हत्या के आरोपी नाबालिग छात्र ने CBI पर डरा धमका कर जुर्म कबूल कराने का लगाया आरोप  


नई दिल्ली। गुरुग्राम के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में सात साल के बच्चे प्रद्युम्न मर्डर केस में पकड़े गए नाबालिग आरोपी ने अपने बयान में बताया है कि, उससे जुर्म कबूल कराया गया है। सोमवार को आरोपी ने सीबीआई अधिकारियों और चाइल्ड प्रोटेक्शन यूनिट के कुछ कानूनी अधिकारियों के सामने दावा किया कि जांचकर्ताओं ने उस पर जुर्म कुबूल करने का दबाव डाला था। सूत्रों की ओर से इस बात की जानकारी दी गई। आरोपी ने जांचकर्ताओं पर आरोप लगाया कि उसे पीटा गया और फिर उसके कुबूलनामे को उन्होंने अपने शब्दों में रिकॉर्ड किया। हालांकि सीबीआई ने इस आरोप पर किसी भी तरह की प्रतिक्रिया देने से साफ मना कर दिया है।


दरअसल सोमवार सुबह 10 बजे सीबीआई के डीएसपी एके बस्सी जुवेनाइल होम पहुंचे। उनके साथ गुड़गांव की चाइल्ड प्रोटेक्शन एंड वेलफेयर ऑफिसर  रीनू सैनी भी मौजूद थी।  रीनू ने आरोपी स्टूडेंट से एक अलग कमरे में दो घंटे बातचीत की। उसकी दिमागी हालत और पूरा घटनाक्रम जानना चाहा। आरोपी ने रीनू को जो बताया, वह सीबीआई की थ्योरी और गिरफ्तारी के आधार से बिल्कुल अलग है। आरोपी स्टूडेंट ने सैनी को बताया, "सीबीआई ने मुझसे कहा था कि यह जुर्म तुझे कबूल करना पड़ेगा। अगर ऐसा नहीं किया तो हम तेरे भाई का मर्डर कर देंगे।" काउंसिलिंग के दौरान आरोपी स्टूडेंट सैनी से बोला, "मैं अपने भाई को बहुत प्यार करता हूं और उसे मरते हुए नहीं देख सकता।"

आरोपी जुवेनाइल ने कहा कि उसने प्रद्युम्न की हत्या नहीं की। सीबीआई वालों ने उससे जबरन जुर्म कबूल कराया है। सीबीआई वालों ने टॉर्चर किया, और धमकाया है। 

वहीं सोमवार को ही सीबीआई की मौजूदगी में आरोपी स्टूडेंट से उसके माता-पिता और भाई की मुलाकात कराई गई। तीनों एक घंटे तक जुवेनाइल के पास रहे। इस दौरान जुवेनाइल की मां, बेटे से लिपटकर रोती रही। 

पूरा मामला :

गुड़गांव के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में 8 सितंबर को 7 साल के बच्चे का मर्डर कर दिया गया था। बॉडी टॉयलेट में मिली थी। इस मामले में पुलिस ने स्कूल बस के कंडक्टर अशोक कुमार को अरेस्ट किया था। आरोपी 8 महीने पहले ही स्कूल में कंडक्टर की नौकरी पर लगा था। शोक ने मीडिया को बताया था, ''मेरी बुद्धि भ्रष्ट हो गई थी। मैं बच्चों के टॉयलेट में था। वहां गलत काम कर रहा था। तभी वह बच्चा आ गया। उसने मुझे देख लिया। मैंने उसे पहले देखा धक्का दिया। फिर खींच लिया। वह शोर मचाने लगा तो मैं डर गया। फिर मैंने उसे दो बार चाकू से मारा। उसका गला रेत दिया।'' बाद में सीबीआई ने जांच की। इसके बाद 11वीं के स्टूडेंट को इस मर्डर केस में आरोपी बनाया गया।


राजस्थान की राजधानी जयपुर में सिरफिरों ने मचाया हुडदंग, गाड़ियों के 40 कांच त

तस्करी कर दिल्ली से विदेश भेजी जा रही 22 नेपाली लड़कियों को दिल्ली महिला आयोग न


 VT PADTAL