VT Update
विन्ध्य में उद्योगों को लगेंगे पंख , मर्जी के मुताबिक उद्योगपतियों को मिलेगी जमीन , लैंड बैंक और लैंड पूल स्कीम से विन्ध्य में विकसित होगा उद्योग खोले गए लबालब बाणसागर के 10 गेट , रीवा, सतना, सीढ़ी, सिंगरौली, और शहडोल में अलर्ट घोषित आर्थिक मंदी के खिलाफ कांग्रेस मध्यप्रदेश समेत पुरे देश में छेड़ेगी आन्दोलन , दिल्ली में हुई पार्टी पदाधिकारियों की बैठक में सोनिया गाँधी ने दी जानकारी धुंधली होने लगी है विक्रम लैंडर से संपर्क की उम्मीद, लैंडर को नुक्सान पहुचने की आशंका बढ़ी यौन उत्पीड़न मामले में एसआईटी ने भाजपा नेता चिन्मयानंद से 7 घंटे की पूछताछ, चिन्मयानंद के आवास पर उनके बेडरूम की गई तलाशी
Sunday 1st of September 2019 | मासूमों और ज़रुरत मंदों के साथ खून को लेकर है रहा छल

सतना में चल रहा खून का काला कारोबार,मामले पर गंभीर जिला कलेक्टर ने गठित की जांच टीम


सतना जिले में खून का काला कारोबार जमकर फल फूल रहा है । इस कारोबार को जिला अस्पताल के ब्लड़ बैंक से ही अंजाम दिया जा रहा है| जरूरतमंद मरीजो को मुफ्त में मिलने वाले खून का खुलकर का सौदा हो रहा है। इस खेल का खुलासा जिला अस्पताल के पोषण पुनर्वास केंद्र से हुआ है।सतना जिले में कुपोषण के कलंक को मिटाने पोषण पुर्नवास क्रेंद में भर्ती मासूमो के लहू के नाम पर बड़ा खेल हुया है। दस्तक अभियान के तहत चिन्हित अति कुपोषित बच्चो को एनआरसी में भर्ती कराया गया, जरूरतमंद मासूमो को खून चढ़ाने के लिए ब्लड बैंक से खून निकला मगर रास्ते से ही 98 यूनिट ब्लड़ गायब हो गया, बीच रास्ते मे मासूमो के लिए निकला लहू कौन पी गया, सतना जिला अस्पताल में ब्लड बैंक की व्यवस्था है जहां से जरूरत मंदों को ब्लड मिल सके, लेकिन ब्लड बैंक में पदस्त कर्मचारियो ने खून को ही करोबार बना लिया। यहां पदस्त कर्मचारी गरीवों के नाम पर फर्जी तरीके से ब्लड इशू कर करोबार कर रहे| सूत्रों की माने तो कुपोषित बच्चों के साथ साथ कैंसर, थैलसीमिया जैसे गंभीर बीमारी से पीड़ित मरीजों की आड़ में खून का खेल खेला जा रहा है|

पिछले छः माह में 12 रक्त दान शिविरों में 542 यूनिट रक्त का कलेक्सन किया गया मगर स्टॉक में 576 यूनिट रक्त का विरतण दर्षाया गया है ।मतलब संग्रहीत ब्लड और वितरित किये गए ब्लड में 35 यूनिट का अंतर है। स्टॉक से ज्यादा 35 यूनिट ब्लड कहा से आया इसका जबाब ब्लड बैंक के पास नही , हालांकि जिला अस्पताल के ब्लड बैंक में जारी खून के खेल को लेकर जिला कलेक्टर गंभीर हुए है और इस पूरे मामले की जांच के लिए महिला बाल विकास अधिकारी और जिला स्वास्थ्य अधिकारी के नेतृत्व में एक जांच टीम के गठन की बात कह रहे है । जिला कलेक्टर की माने तो इस पूरे मामले की जांच होगी और यदि अनिमितता मिली तो दोषी कर्मचारियी पर सख्त कार्यबाही होगी| अब देखने वाली बात होगी कि जिला कलेक्टर द्वारा गठित जांच टीम कब तक जांच पूरी करती है और उसमें क्या सच्चाई सामने आती है|


उड़ीसा के तर्ज पर सिंगरौली में बनेगा मेडिकल कॉलेज

सिंगरौली में फल-फूल रहा नशे का अवैध कारोबार


 VT PADTAL