VT Update
पाठ्य पुस्तक निगम के स्टोर रूम में पुलिस का छापा बाजार में बिकने जा रही लाखों की किताबें हुई जप्त निशुल्क वितरण के लिए भेजी गई पुस्तके बेची जा रही थी बाजार में प्रदेश में शराब की करीब 500 दुकानें खुलने का अनुमान 2 महीने के लिए भी उस दुकानें खोल सकते हैं शराब ठेकेदार जिला कलेक्टर देंगे दुकान खोलने की अनुमति एक्शन मोड में जेपी नड्डा भाजपा अध्यक्ष बनने के बाद महासचिव सनग्ली पहली बैठक नागरिकता कानून के समर्थन में पार्टी की ओर से चलाए जा रहे कैंपेन की की समीक्षा देवास जिला योजना समिति की बैठक में मंत्री जीतू पटवारी और सांसद महेंद्र सिंह सोलंकी के बीच जमकर हुआ विवाद, प्रभारी मंत्री ने कहा-बैठक से बाहर कर दूंगा तो सांसद बोले अगली बार मंत्री नहीं बन पाओगे जोमैटो फूड डिलीवरी ने अमेरिका कंपनी उबर ईट्स के भारतीय कारोबार को खरीदा डील के तहत उबर को जोमैटो के 9. 99% मिलेंगे शेयर
Sunday 1st of September 2019 | मासूमों और ज़रुरत मंदों के साथ खून को लेकर है रहा छल

सतना में चल रहा खून का काला कारोबार,मामले पर गंभीर जिला कलेक्टर ने गठित की जांच टीम


सतना जिले में खून का काला कारोबार जमकर फल फूल रहा है । इस कारोबार को जिला अस्पताल के ब्लड़ बैंक से ही अंजाम दिया जा रहा है| जरूरतमंद मरीजो को मुफ्त में मिलने वाले खून का खुलकर का सौदा हो रहा है। इस खेल का खुलासा जिला अस्पताल के पोषण पुनर्वास केंद्र से हुआ है।सतना जिले में कुपोषण के कलंक को मिटाने पोषण पुर्नवास क्रेंद में भर्ती मासूमो के लहू के नाम पर बड़ा खेल हुया है। दस्तक अभियान के तहत चिन्हित अति कुपोषित बच्चो को एनआरसी में भर्ती कराया गया, जरूरतमंद मासूमो को खून चढ़ाने के लिए ब्लड बैंक से खून निकला मगर रास्ते से ही 98 यूनिट ब्लड़ गायब हो गया, बीच रास्ते मे मासूमो के लिए निकला लहू कौन पी गया, सतना जिला अस्पताल में ब्लड बैंक की व्यवस्था है जहां से जरूरत मंदों को ब्लड मिल सके, लेकिन ब्लड बैंक में पदस्त कर्मचारियो ने खून को ही करोबार बना लिया। यहां पदस्त कर्मचारी गरीवों के नाम पर फर्जी तरीके से ब्लड इशू कर करोबार कर रहे| सूत्रों की माने तो कुपोषित बच्चों के साथ साथ कैंसर, थैलसीमिया जैसे गंभीर बीमारी से पीड़ित मरीजों की आड़ में खून का खेल खेला जा रहा है|

पिछले छः माह में 12 रक्त दान शिविरों में 542 यूनिट रक्त का कलेक्सन किया गया मगर स्टॉक में 576 यूनिट रक्त का विरतण दर्षाया गया है ।मतलब संग्रहीत ब्लड और वितरित किये गए ब्लड में 35 यूनिट का अंतर है। स्टॉक से ज्यादा 35 यूनिट ब्लड कहा से आया इसका जबाब ब्लड बैंक के पास नही , हालांकि जिला अस्पताल के ब्लड बैंक में जारी खून के खेल को लेकर जिला कलेक्टर गंभीर हुए है और इस पूरे मामले की जांच के लिए महिला बाल विकास अधिकारी और जिला स्वास्थ्य अधिकारी के नेतृत्व में एक जांच टीम के गठन की बात कह रहे है । जिला कलेक्टर की माने तो इस पूरे मामले की जांच होगी और यदि अनिमितता मिली तो दोषी कर्मचारियी पर सख्त कार्यबाही होगी| अब देखने वाली बात होगी कि जिला कलेक्टर द्वारा गठित जांच टीम कब तक जांच पूरी करती है और उसमें क्या सच्चाई सामने आती है|


सिंगरौली के 15 वर्षीय आदेश ने लिखी किताब

सिंगरौली जिला कलेक्टर ने युवाओं से फ़ौज में भर्ती होने कि अपील की


 VT PADTAL