VT Update
विन्ध्य में उद्योगों को लगेंगे पंख , मर्जी के मुताबिक उद्योगपतियों को मिलेगी जमीन , लैंड बैंक और लैंड पूल स्कीम से विन्ध्य में विकसित होगा उद्योग खोले गए लबालब बाणसागर के 10 गेट , रीवा, सतना, सीढ़ी, सिंगरौली, और शहडोल में अलर्ट घोषित आर्थिक मंदी के खिलाफ कांग्रेस मध्यप्रदेश समेत पुरे देश में छेड़ेगी आन्दोलन , दिल्ली में हुई पार्टी पदाधिकारियों की बैठक में सोनिया गाँधी ने दी जानकारी धुंधली होने लगी है विक्रम लैंडर से संपर्क की उम्मीद, लैंडर को नुक्सान पहुचने की आशंका बढ़ी यौन उत्पीड़न मामले में एसआईटी ने भाजपा नेता चिन्मयानंद से 7 घंटे की पूछताछ, चिन्मयानंद के आवास पर उनके बेडरूम की गई तलाशी
Tuesday 3rd of September 2019 | सिंगरौली में इरकॉन कंपनी के दफ्तर में पड़ा सीबीआई का छापा

सिंगरौली में रेलवे दोहरीकरण में अनियमितता की शिकायत पर, रेलवे बैलास्ट की जांच के लिए सीबीआई ने मारा छापा


सिंगरौली जिले के सरई में रेलवे पटरियों के दोहरीकरण कर रही इरकॉन कंपनी के दफ्तर में सीबीआई ने छापेमारी की कार्रवाई की है। सीबीआई को पटरी के बीच लगने वाले बैलास्ट कि गुणवत्ता को लेकर शिकायत मिली थी। सीबीआई के अधिकारी रेलवे ट्रैक दोहरीकरण कर रही कंपनी के यहां से मटेरियल के सैंपल भी जब्त कर कार्यवाही करने में जुटी हुई है।  सिंगरौली जिले के सरई में रेलवे द्वारा कराए जा रहे दोहरीकरण में गुणवत्ताहीन कार्य कराए जाने की शिकायत मिलने के बाद सीबीआई ने रेलवे में बैलास्ट सप्लाई की जांच के लिये छापेमारी की कार्रवाई की है। जिसमें सरई में बैलास्ट के सैंपल लेकर उन्हें लैब टेस्ट कराने के लिए भेजा है। सीबीआई की इस कार्रवाई में रेल विजिलेंस की टीम भी साथ में थी। जानकारी के मुताबिक सीबीआई जबलपुर की टीम द्वारा अचानक छापेमारी की कार्रवाई में बैलास्ट की सप्लाई एवं क्वालिटी की जांच की जा रही है। इस मामले में जानकारी है कि सीबीआई को यह शिकायत मिली थी कि रेल ट्रैक के दोहरीकरण के लिए जो बैलास्ट यानी रेल पटरियों के बीच में डालने वाली गिट्टी की सप्लाई हो रही है उसमें वह क्वालिटी नहीं है जो टेंडर में मांगी गई है। इसके अलावा इस बात पर भी संदेह जताया गया है कि जितनी मात्रा में बैलास्ट मंगाई गई है उससे मौजूद वक्त में मात्रा कम है। इसके साथ ही यह भी शिकायत की गई थी कि बैलास्ट की क्वालिटी जो कि सैंपल में दिखाई गई थी, वह सप्लाई नहीं की गई। जानकारी के मुताबिक जो बैलास्ट की सप्लाई की गई उसमें सी ग्रेड की बैलास्ट मिला दी गई है। इसी तरह की शिकायत सीबीआई को मिली और बैलास्ट की जांच के लिए छापेमारी की कार्रवाई की गई। हालांकि बैलास्ट की क्वालिटी और मात्रा की जांच में काफी समय लगेगा इसके लिए सीबीआई की टीम बैलास्ट की जांच के लिए लैब की रिपोर्ट मंगाएगी, जिससे यह पता लग सके कि बैलास्ट की सप्लाई सही हुई है या नहीं। सप्लाई से संबंधित कागज भी सीज कर दिए गए हैं ताकि वास्तविकता की जांच की जा सके । इन सभी मामलों की रिपोर्ट आने में समय अधिक समय लग सकता है।


उड़ीसा के तर्ज पर सिंगरौली में बनेगा मेडिकल कॉलेज

सिंगरौली में फल-फूल रहा नशे का अवैध कारोबार


 VT PADTAL