VT Update
जल्द होंगे पंचायत चुनाव 27 को होगा पंच सरपंच का आरक्षण देर रात किया गया आरक्षण प्रक्रिया का प्रारंभिक प्रकाशन जल्द होंगे पंचायत चुनाव 27 को होगा पंच सरपंच का आरक्षण देर रात किया गया आरक्षण प्रक्रिया का प्रारंभिक प्रकाशन दावोस में वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम की वार्षिक बैठक आज , मुख्यमंत्री कमलनाथ करेगे शीर्ष उद्योगपतियों से वन टू वन मुलाकात, मध्यप्रदेश में निवेश की संभावनाओं पर करेगे चर्चा सोसायटियों में वंचितों को मिलेगा प्लाट या मुआवजा, कलेक्टर समिति पदाधिकारियों से कर रहे वन टू वन, जनसुनवाई में आए प्रकरणों का हो रहा निराकरण साध्वी प्रज्ञा को धमकी भरा पत्र लिखने वाले रहमान ने एमपीएस की पूछताछ में किया खुलासा अपनी मां और भाई को फसाने के लिए सांसद प्रज्ञा को लिफाफे में भरकर भेजा था पाउडर, भाई और माँ के कारण आरोपी को 18 दिन रहना पड़ा था जेल में
Wednesday 4th of September 2019 | मप्र की राजनीति: केंद्रीय मंत्री और प्रदेश सरकार आमने सामने

केंद्रीय मंत्री कुलस्ते ने मध्यप्रदेश के गर्म राजनीति में रखा कदम, कांग्रेस सरकार को घेरा, लगाया गंभीर आरोप


मध्यप्रदेश में नई नवेली कमलनाथ सरकार के वनमंत्री उमंग सिंघार द्वारा अवैध खनन और शराब कारोबार करने को लेकर दिग्विजय सिंह पर लगाए गए आरोप को केन्द्रीय इस्पात राज्यमंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते ने नई हवा दे दी है। उन्होंने आरोप लगाया कि मध्यप्रदेश में कांग्रेस के ही लोग अवैध खनन करा रहे हैं। मंत्री फग्गन के आरोप पर प्रदेश सरकार के कैबिनेट मंत्री तुलसी सिलावट ने पलटवार करते हुए चुनौती दे दी। उन्होंने कहा कि कुलस्ते बताएं कि 15 साल तक एमपी में किसकी सरकार रही है। दरअसल, अवैध उत्खनन को लेकर अपने ही विधायकों और मंत्रियों से घिरी कमलनाथ सरकार पर आरोप लगाकर केन्द्रीय मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते ने प्रदेश की राजनीति में चल रही सरगर्मी का पारा और चढ़ा दिया है। आपको बता दें कि इंदौर पहुंचे कुलस्ते ने कहा कि राज्य में कांग्रेस के लोग ही अवैध उत्खनन में शामिल हैं। इससे राजस्व का भारी नुकसान हो रहा है। इस संबंध में वो जल्द ही सीएम कमलनाथ से बात करेंगे। खनन माफिया पर कार्रवाई के लिए पत्र भी लिखेंगे। आपको बता दें कि मध्यप्रदेश में अवैध उत्खनन को लेकर बीते दिनों दिग्विजय खेमे के मंत्री गोविंद सिंह जो सरकार में सहकारिता और समान्य प्रशासन मंत्रालय का जिम्मा संभाल रहे है। उन्होंने प्रदेश सरकार पर उत्खनन न रोक पाने में नाकाम होने की बात स्वीकार करते हुए प्रदेश के मुखिया कमलनाथ से ठोस कदम उठाए जाने की मांग की। जिसके बाद से प्रदेश की सियासत में आरोपों और प्रत्यारोपों का दौर तेज हो गया। जिसके बाद अवैध उत्खनन को बीजेपी ने भी मुद्दा बनाते हुए सरकार को घेरना शुरू कर दिया। जिसके बाद अब केंद्रीय राज्यमंत्री कुलस्ते के बयान ने प्रदेश की राजनीति की गर्माहट को और तेज कर दिया है। हालांकि सरकार की तरफ से इन आरोपों पर कोई आधिकारिक जवाब नहीं आया है। अब देखना है कि सरकार मंत्री के आरोपों पर क्या पलटवार करती है। वहीं, झाबुआ में विधानसभा उपचुनाव का माहौल गर्म होता जा रहा है। ऐसे में राज्य सरकार जहां अपने मंत्रियों को तैनात किए हुए है। वहीं, माहौल बनाने के लिए केन्द्र सरकार भी अपने मंत्रियों के दौरे करा रही है। इसी सिलसिले में केन्द्रीय मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते भी झाबुआ दौरे पर थे। झाबुआ सीट दोनों ही पार्टियों के लिए प्रतिष्ठा का प्रश्न बनी हुई है। इन सब के इतर आज प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान झाबुआ कृषि उपज मंडी में जनसभा को संबोधित करते हुए प्रदेश सरकार पर हमला बोल रहे है।


चिदांबरम के विरोध में आए कमलनाथ के मंत्री सज्जन सिंह वर्मा,  मोदी सरकार का कि

सिंधिया के बदले सूर पर पूर्व मंत्री पवैया का हमला, सवाल दागते हुए दिया निमंत


 VT PADTAL