VT Update
विंध्य के सबसे बड़े अस्पताल संजय गांधी की सुरक्षा व्यवस्था पर उठे सवाल, अस्पताल के पार्किंग से चोरी हुई बोलेरो वाहन रीवा मेडिकल कॉलेज में लगेगा रूफटाफ का प्रदेश का सबसे बड़ा सोलर प्रोजेक्ट मतदाता जागरूकता के लिए रवाना हुई बुलेट रैली, कलेक्टर प्रीति मैथिल ने दिखाई हरी झंडी मध्यप्रदेश के शिवपुरी जिले में घटिया पुल निर्माण पर गिरी गाज, पीडब्लयूडी के चार अफसर सस्पेंड रीवा सहित प्रदेश भर में हर्षोल्लास के साथ मनायी गई कृष्ण जन्माष्टमी, शिल्पी प्लाजा में हुआ मटकी फोड़ने का भव्य आयोजन
Saturday 18th of November 2017 | डील पूरी तरह पारदर्शी: रक्षा मंत्री

लड़ाकू विमान राफेल सौदे पर कांग्रेस ने लगाया गड़बड़ी का आरोप


नई दिल्ली। लड़ाकू विमान राफेल सौदे पर सरकार व कांग्रेस के बीच तकरार बढ़ती जा रही है। इस मामले में सरकार की सफाई को कांग्रेस ने खारिज कर दिया है। कांग्रेस का कहना है कि रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमन की सफाई से कई सवाल पैदा हो गए हैं। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने सरकार पर सौदे से जुड़े तथ्यों को छिपाने और उसकी असली कीमत नहीं बताने का आरोप लगाया।

वहीं सौदे में गड़बड़ी के आरोपों को सिरे से खारिज करते हुए सरकार ने भी  कांग्रेस पर जोरदार पलटवार किया है। रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को कहा कि निर्धारित प्रक्रिया के तहत ही राफेल सौदा किया गया है। इसके साथ हि रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमन ने कांग्रेस के आरोपों को शर्मनाक करार देते हुए कहा कि वह देश का नुकसान कर रही है। रक्षा मंत्री ने शुक्रवार को राफेल सौदे को लेकर जानकारी देते हुए कहा कि वायु सेना की जरूरतों को देखते हुए पूरी तरह से हथियारों से लैस 36 राफेल लड़ाकू विमानों की आपात खरीद करनी पड़ी।

लड़ाकू विमान राफेल सौदे को लेकर कांग्रेस का कहना है कि लड़ाकू विमान खरीदने के लिए एक तय प्रक्रिया है। कांग्रेस ने सवाल उठाया है कि क्या यह सच नहीं है कि 10 अप्रैल 2015 को जब प्रधानमंत्री ने 36 राफेल विमान खरीदने की घोषणा की, उस समय तक कांट्रैक्ट निगोशिएशंस कमेटी (सीएनसी) और प्राइस निगोशिएशंस कमेटी (पीएनसी) ने कोई फैसला नहीं किया था।
 


कांग्रेस की कार्य समिति गठित, इस बार दिग्विजय को नही मिली जगह

 पीएम मोदी दो दिवसीय पूर्वांचल दौरे पर, करोड़ों की योजनाओं का करेंगे शिलान्‍


 VT PADTAL