VT Update
पाठ्य पुस्तक निगम के स्टोर रूम में पुलिस का छापा बाजार में बिकने जा रही लाखों की किताबें हुई जप्त निशुल्क वितरण के लिए भेजी गई पुस्तके बेची जा रही थी बाजार में प्रदेश में शराब की करीब 500 दुकानें खुलने का अनुमान 2 महीने के लिए भी उस दुकानें खोल सकते हैं शराब ठेकेदार जिला कलेक्टर देंगे दुकान खोलने की अनुमति एक्शन मोड में जेपी नड्डा भाजपा अध्यक्ष बनने के बाद महासचिव सनग्ली पहली बैठक नागरिकता कानून के समर्थन में पार्टी की ओर से चलाए जा रहे कैंपेन की की समीक्षा देवास जिला योजना समिति की बैठक में मंत्री जीतू पटवारी और सांसद महेंद्र सिंह सोलंकी के बीच जमकर हुआ विवाद, प्रभारी मंत्री ने कहा-बैठक से बाहर कर दूंगा तो सांसद बोले अगली बार मंत्री नहीं बन पाओगे जोमैटो फूड डिलीवरी ने अमेरिका कंपनी उबर ईट्स के भारतीय कारोबार को खरीदा डील के तहत उबर को जोमैटो के 9. 99% मिलेंगे शेयर
Thursday 12th of September 2019 |  फ़ैल रहा डेंगू का प्रकोप

शहर में बढ़ रहे मलेरिया और डेंगू के मरीज


 

रीवा शहर मे इन दिनों डेंगू का प्रकोप बड़ा ही तेजी के साथ फ़ैल रहा है तथा पडरा स्थित नई बस्ती में एक ही परिवार के चार सदस्य इसके शिकार हो गए हैं.. मगर प्रशासनिक अमले को अब तक इसकी कोई सुध ही नहीं है...

रीवा के पड़रा नई बस्ती में डेंगू का कहर इस कदर देखने को मिल रहा है  की एक ही परिवार के चार सदस्य  इसकी चपेट में आ गए हैं तथा अब पूरे मोहल्ले में हड़कंप की स्थिति निर्मित हो गई ... परंतु डेंगू के चिन्हित किए गए मरीजों के बाद भी स्वास्थ्य अमला अब तक वहां पर नहीं पहुंच पाया है... दरअसल पड़रा नई बस्ती में 4 लोगों को डेंगू होने के बाद उन्हें संजय गांधी अस्पताल में भर्ती कराया गया है पड़रा मोहल्ले में डेंगू का कारण चारों तरफ फैली हुई गंदगी माना जा सकता है... आपको बता दें यहां पर पानी निकासी के लिए कोई जगह नहीं है तथा बस्ती के लोग दहशत में जी रहे हैं ... उनका कहना है कि हर घर में बुखार का प्रकोप तेजी के साथ वायरल हो रहा है लेकिन मौके की स्थिति को देखने के लिए प्रशासन का कोई भी अमला अभी तक नहीं पहुंचा है और ना ही  बस्ती के अंदर दवाई का छिड़काव किया गया है .. बता दें राज्य शासन द्वारा मलेरिया की रोकथाम के लिए विभाग को करोड़ों रुपए स्वीकृत किए गए थे .. जिसमें जिले के ऐसे गांवों को चिन्हित कर मच्छर मारने का विशेष अभियान तथा दवाइयों का छिड़काव किया जाना था...  इतना ही नहीं डेंगू जैसी बीमारी से बचने के लिए क्या उपाय किए जाने चाहिए इसके लिए एनजीओ के माध्यम से मलेरिया विभाग ने लाखों रुपए खर्च किए थे जो मात्र कागजी घोड़ा साबित हुआ है ... सूत्रों की माने तो मलेरिया विभाग द्वारा बनाई गई टीम के अधिकारी कर्मचारी चिन्हित गांव एवं शहर के वार्डों में गए ही नहीं शासन को जो रिपोर्ट भेजी गई है वह मात्र खानापूर्ति की गई है गौर करने वाली बात यह है कि जिले में अब तक 1 दर्जन से ज्यादा डेंगू के पॉजिटिव मरीज पाए गए हैं ऐसे में विभाग द्वारा मच्छर मारने एवं दवा छिड़काव किए जाने में खर्च की गई राशि कागजों तक सिमट कर रह गई है.... इसके अलावा मलेरिया विभाग द्वारा ऐसे लोगों को मच्छरदानी का वितरण किया जाना था जिस गांव में मच्छरों का ज्यादा प्रकोप एवं मलेरिया डेंगू जैसी बीमारी होने का खतरा था बरसात के पूर्व विभाग द्वारा बनाई गई टीम द्वारा गांवों को चिन्हित भी किया गया था परंतु लाखों रुपए की खरीदी की गई मच्छरदानी लोगों में नहीं बटी गई और वह बाजार चली गई यह...

हालांकि मामले पर बात करने को लेकर जब हमारी टीम सीएमएचओ आर एस पांडे के पास पहुंची तो उन्होंने मामले पर स्पष्टता जाहिर करते हुए बताया है कि तमाम क्षेत्रों में दवा का छिड़काव किया जा रहा है...

 

 

 


रीवा इंजीनियरिंग कॉलेज में स्वच्छता की कार्यशाला आयोजित

संजय गाँधी अस्पताल की छत से कूद कर भाई बहन ने की आत्महत्या


 VT PADTAL