VT Update
विन्ध्य में उद्योगों को लगेंगे पंख , मर्जी के मुताबिक उद्योगपतियों को मिलेगी जमीन , लैंड बैंक और लैंड पूल स्कीम से विन्ध्य में विकसित होगा उद्योग खोले गए लबालब बाणसागर के 10 गेट , रीवा, सतना, सीढ़ी, सिंगरौली, और शहडोल में अलर्ट घोषित आर्थिक मंदी के खिलाफ कांग्रेस मध्यप्रदेश समेत पुरे देश में छेड़ेगी आन्दोलन , दिल्ली में हुई पार्टी पदाधिकारियों की बैठक में सोनिया गाँधी ने दी जानकारी धुंधली होने लगी है विक्रम लैंडर से संपर्क की उम्मीद, लैंडर को नुक्सान पहुचने की आशंका बढ़ी यौन उत्पीड़न मामले में एसआईटी ने भाजपा नेता चिन्मयानंद से 7 घंटे की पूछताछ, चिन्मयानंद के आवास पर उनके बेडरूम की गई तलाशी
Thursday 12th of September 2019 |  फ़ैल रहा डेंगू का प्रकोप

शहर में बढ़ रहे मलेरिया और डेंगू के मरीज


 

रीवा शहर मे इन दिनों डेंगू का प्रकोप बड़ा ही तेजी के साथ फ़ैल रहा है तथा पडरा स्थित नई बस्ती में एक ही परिवार के चार सदस्य इसके शिकार हो गए हैं.. मगर प्रशासनिक अमले को अब तक इसकी कोई सुध ही नहीं है...

रीवा के पड़रा नई बस्ती में डेंगू का कहर इस कदर देखने को मिल रहा है  की एक ही परिवार के चार सदस्य  इसकी चपेट में आ गए हैं तथा अब पूरे मोहल्ले में हड़कंप की स्थिति निर्मित हो गई ... परंतु डेंगू के चिन्हित किए गए मरीजों के बाद भी स्वास्थ्य अमला अब तक वहां पर नहीं पहुंच पाया है... दरअसल पड़रा नई बस्ती में 4 लोगों को डेंगू होने के बाद उन्हें संजय गांधी अस्पताल में भर्ती कराया गया है पड़रा मोहल्ले में डेंगू का कारण चारों तरफ फैली हुई गंदगी माना जा सकता है... आपको बता दें यहां पर पानी निकासी के लिए कोई जगह नहीं है तथा बस्ती के लोग दहशत में जी रहे हैं ... उनका कहना है कि हर घर में बुखार का प्रकोप तेजी के साथ वायरल हो रहा है लेकिन मौके की स्थिति को देखने के लिए प्रशासन का कोई भी अमला अभी तक नहीं पहुंचा है और ना ही  बस्ती के अंदर दवाई का छिड़काव किया गया है .. बता दें राज्य शासन द्वारा मलेरिया की रोकथाम के लिए विभाग को करोड़ों रुपए स्वीकृत किए गए थे .. जिसमें जिले के ऐसे गांवों को चिन्हित कर मच्छर मारने का विशेष अभियान तथा दवाइयों का छिड़काव किया जाना था...  इतना ही नहीं डेंगू जैसी बीमारी से बचने के लिए क्या उपाय किए जाने चाहिए इसके लिए एनजीओ के माध्यम से मलेरिया विभाग ने लाखों रुपए खर्च किए थे जो मात्र कागजी घोड़ा साबित हुआ है ... सूत्रों की माने तो मलेरिया विभाग द्वारा बनाई गई टीम के अधिकारी कर्मचारी चिन्हित गांव एवं शहर के वार्डों में गए ही नहीं शासन को जो रिपोर्ट भेजी गई है वह मात्र खानापूर्ति की गई है गौर करने वाली बात यह है कि जिले में अब तक 1 दर्जन से ज्यादा डेंगू के पॉजिटिव मरीज पाए गए हैं ऐसे में विभाग द्वारा मच्छर मारने एवं दवा छिड़काव किए जाने में खर्च की गई राशि कागजों तक सिमट कर रह गई है.... इसके अलावा मलेरिया विभाग द्वारा ऐसे लोगों को मच्छरदानी का वितरण किया जाना था जिस गांव में मच्छरों का ज्यादा प्रकोप एवं मलेरिया डेंगू जैसी बीमारी होने का खतरा था बरसात के पूर्व विभाग द्वारा बनाई गई टीम द्वारा गांवों को चिन्हित भी किया गया था परंतु लाखों रुपए की खरीदी की गई मच्छरदानी लोगों में नहीं बटी गई और वह बाजार चली गई यह...

हालांकि मामले पर बात करने को लेकर जब हमारी टीम सीएमएचओ आर एस पांडे के पास पहुंची तो उन्होंने मामले पर स्पष्टता जाहिर करते हुए बताया है कि तमाम क्षेत्रों में दवा का छिड़काव किया जा रहा है...

 

 

 


न्यायलय में वकीलों की दबंगई

दूषित पानी बन रहा लोगो की बीमारी का कारन


 VT PADTAL