VT Update
पांचवी और आठवीं के प्रधानाध्यापकों की क्लास लेंगे संभागायुक्त आज और कल होगी समीक्षा RTO की कार्यवाही से अल्ट्राटेक सीमेंट प्रबंधन में मचा हड़कंप, बगैर पंजीयन चल रहे 46 वाहन किए जप्त, 4 करोड़ मिलेगा राजस्व जिले में खुल रही भ्रष्टाचार की पोल, जनपद पंचायत रायपुर के ग्राम पंचायत पड़रिया मेँ कागज और पेंसिल में खर्च कर दिए पौने तीन लाख, पीसीसी सड़क के ऊपर बनाई सड़क फर्जी एजेंसी बनाकर किया भुगतान रीवा में मेडिकल कॉलेज प्रबंधन ने जारी किया नोटिस बॉन्ड की शर्त नहीं मानने वाले 81 डॉक्टरों के रजिस्ट्रेशन होंगे निरस्त, चिकित्सा शिक्षा विभाग ने दिए कार्यवाही के संकेत हथियार माफिया पर कार्रवाई करने के लिए सरकार की मंजूरी का इंतजार, एसटीएफ के टारगेट पर कई जिलों के हथियार माफिया
Sunday 22nd of September 2019 | वर्ल्ड रोज डे!

कैंसर पेशेंट को दे हिम्मत


हर साल 22 सितंबर को 12 साल की बच्ची मेलिंडा रोज की याद में वर्ल्ड रोज डे मनाया जाता है। कनाडा की इस बच्ची को एक एक रेयर ब्लड कैंसर हुआ था। डॉक्टर्स का कहना था कि बच्ची सिर्फ कुछ हफ्ते जीने वाली है लेकिन वह छह महीने तक जिंदा रही। इस बीच उसने दूसरे कैंसर पेशेंट्स से मिलकर उनके जीवन में खुशियां भरीं। उन्हें चिट्ठियां, कविताएं और ईमेल्स भेजकर खुश करने की कोशिश की।
उस बच्ची की याद में आज के दिन को वर्ल्ड रोज डे के रूप में मनाते हैं। इस दिन कैंसर के मरीजों को रोज, कार्ड्स और गिफ्ट्स देकर उन्हें खुश करने की कोशिश की जाती है।

कैंसर एक ऐसी बीमारी है जिसका पता चलते ही परिवार के हर परिवार को काफी हिम्मत की जरूरत होती है। अगर आपके आसपास किसी को कैंसर होता है तो उनको आपके साथ और केयर की काफी जरूरत होती है। कैंसर पेशंट्स की केयर के साथ आपकी जिम्मेदारियां भी बदल जाती हैं।


कैंसर पेशंट्स के लिए पॉजिटिव रहना बहुत जरूरी है और अगर आप उनकी केयर कर रहे हैं तो आपका पॉजिटिव रहना भी जरूरी है। आपको सबसे ज्यादा इस बात का ध्यान रखना होगा कि कैंसर के मरीज कई तरह के इमोशंस से गुजरते हैं। वे चिड़चिड़ता हैं, कभी खुश रहते हैं तो कभी दवाएं खा-खाकर निराश भी हो जाते हैं। उनसे हमेशा पॉजिटिव रहने के लिए जोर न डालें। उन्हें जैसा फील हो रहा है उसे सुनें और हर वक्त उनको साथ होने का अहसास करवाएं। कोशिश करें कि वे जितने दिन भी आपके साथ हैं, ये उस दुनिया में उनके बेस्ट दिन हैं। उन्हें जोक्स सुनाएं। उनसे कहें कि उन्हें जो भी कहना है वे किसी भी वक्त आपसे कह सकते हैं।

आप चाहे तो कैंसर से जिंदगी की जंग जीत सकते है. ज्यादातर लोग कैंसर सुन के यही मान लेते है अब उनकी ज़िन्दगी का अंत हो जायेगा पर ऐसा बिलकुल नहीं है, आप चाहे तो अपनी हिम्मत से कैंसर को हरा सकते है.

आज के दिन विन्ध्य टाइम्स की टीम आप सभी से अपील करती है की अगर आपके आस पास भी कैंसर के कोई पेशेंट है तो उनमे जोश भरे और इस जंग से लड़ने की हिम्मत दे.

                                                                                                                         WORLD ROSE DAY!

 


अंग्रेजी मीडियम:इरफ़ान की यह फिल्म हँसाने के साथ-साथ भावुक भी करेगी

 बिना सब्सिडी वाला गैस सिलेंडर 144.5 रुपये महंगा,उत्पादन घटा  


 VT PADTAL