VT Update
शहर के टीआरएस कॉलेज में शुरू हुआ राष्ट्रिय सांस्कृतिक महोत्सव , हस्तशिल्प, शिल्पकला काष्ठ और स्वादिस्ट व्यंजनों का होगा संगम शाजापुर में स्कूल वैन कुएं में गिरने से हुई 3 बच्चों की मौत , 19 को निकाला गया बाहर , तेजरफ़्तार के कारण कंट्रोल से बहार हुई वैन मनमानी फीस पर लगाम लगाने सरकार ने की तैयारी, अब कॉलेज नहीं तय कर सकेगा मेडिकल- इंजीनिरिंग की फीस , 2020-21 में बदलेगा नियम मैग्निफिसेंट समिट में शामिल हुए उद्योगपतियों ने की मुख्यमंत्री कमलनाथ की सराहना , मुकेश अंबानी ने बताया मध्यप्रदेश में 45 जगह पर बनाये जायेगे लॉजिस्टिक सेंटर मैग्निफिसेंट एमपी में सीएम कमलनाथ ने की बड़ी घोषणा , 70% रोजगार प्रदेशवासियों को देने के लिए लायेगे कानून, छोटे शहरों में भी शुरू हो सकेगा उद्योग
Sunday 22nd of September 2019 | वर्ल्ड रोज डे!

कैंसर पेशेंट को दे हिम्मत


हर साल 22 सितंबर को 12 साल की बच्ची मेलिंडा रोज की याद में वर्ल्ड रोज डे मनाया जाता है। कनाडा की इस बच्ची को एक एक रेयर ब्लड कैंसर हुआ था। डॉक्टर्स का कहना था कि बच्ची सिर्फ कुछ हफ्ते जीने वाली है लेकिन वह छह महीने तक जिंदा रही। इस बीच उसने दूसरे कैंसर पेशेंट्स से मिलकर उनके जीवन में खुशियां भरीं। उन्हें चिट्ठियां, कविताएं और ईमेल्स भेजकर खुश करने की कोशिश की।
उस बच्ची की याद में आज के दिन को वर्ल्ड रोज डे के रूप में मनाते हैं। इस दिन कैंसर के मरीजों को रोज, कार्ड्स और गिफ्ट्स देकर उन्हें खुश करने की कोशिश की जाती है।

कैंसर एक ऐसी बीमारी है जिसका पता चलते ही परिवार के हर परिवार को काफी हिम्मत की जरूरत होती है। अगर आपके आसपास किसी को कैंसर होता है तो उनको आपके साथ और केयर की काफी जरूरत होती है। कैंसर पेशंट्स की केयर के साथ आपकी जिम्मेदारियां भी बदल जाती हैं।


कैंसर पेशंट्स के लिए पॉजिटिव रहना बहुत जरूरी है और अगर आप उनकी केयर कर रहे हैं तो आपका पॉजिटिव रहना भी जरूरी है। आपको सबसे ज्यादा इस बात का ध्यान रखना होगा कि कैंसर के मरीज कई तरह के इमोशंस से गुजरते हैं। वे चिड़चिड़ता हैं, कभी खुश रहते हैं तो कभी दवाएं खा-खाकर निराश भी हो जाते हैं। उनसे हमेशा पॉजिटिव रहने के लिए जोर न डालें। उन्हें जैसा फील हो रहा है उसे सुनें और हर वक्त उनको साथ होने का अहसास करवाएं। कोशिश करें कि वे जितने दिन भी आपके साथ हैं, ये उस दुनिया में उनके बेस्ट दिन हैं। उन्हें जोक्स सुनाएं। उनसे कहें कि उन्हें जो भी कहना है वे किसी भी वक्त आपसे कह सकते हैं।

आप चाहे तो कैंसर से जिंदगी की जंग जीत सकते है. ज्यादातर लोग कैंसर सुन के यही मान लेते है अब उनकी ज़िन्दगी का अंत हो जायेगा पर ऐसा बिलकुल नहीं है, आप चाहे तो अपनी हिम्मत से कैंसर को हरा सकते है.

आज के दिन विन्ध्य टाइम्स की टीम आप सभी से अपील करती है की अगर आपके आस पास भी कैंसर के कोई पेशेंट है तो उनमे जोश भरे और इस जंग से लड़ने की हिम्मत दे.

                                                                                                                         WORLD ROSE DAY!

 


इन फीचर्स के साथ भारत में लांच हो सकता है Redmi 8

अब गूगल से  पता चलेगा आपका पासवर्ड हैक हुआ है या नहीं


 VT PADTAL