VT Update
हर टोल नाके में ओवरलोडिंग से प्रतिमाह 6 करोड़ की अवैध वसूली, प्रतिदिन यूपी जा रही हजारों टन ओवरलोड गिट्टी बनी टोल संचालकों की कमाई का जरिया घरों में घुसी स्वच्छता सर्वे करने आई टीम व्यक्तिगत शौचालय देखा अपलोड की फोटो सर्वे करने आई टीम ने जांची निगम की हकीकत ओडीएफ पर भी निगरानी वनडे में भारत की 200वी जीत ऑस्ट्रेलिया से 2-1 से जीती सीरीज, रोहित शर्मा ने खेली शानदार शतकीय पारी भारत ने किया के-4 बैलेस्टिक मिसाइल का सफल परीक्षण, परमाणु क्षमता से लैस 35 किलोमीटर दूर तक करेगी मार मध्यप्रदेश में भू माफियाओं के नाम पर अफसरों ने हजारों आम आदमीओं को थमा दिए नोटिस,मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद प्रमुख सचिव ने संभाग के कमिश्नरों को दिए सख्त निर्देश आम आदमी को नही होनी चाहिए परेशानी
Wednesday 9th of October 2019 | दशहरा में किला से निकाली गयी भव्य शोभा यात्रा

दशहरा के अवसर पर किला में कि गयी पूजा अर्चना, निकाली गयी भव्य शोभा यात्रा


दशहरा का पर्व राजा रजवाडो के वैभव से जुड़ा हुआ है। इसीलिए दशहरा के पर्व में राजा से सम्बंधित व्यक्ति अपने किला में पुरे विधि विधान के साथ शस्त्र पूजा कर नगर भर में झाकी निकलकर पुतला दहन स्थल तक जाते है| इस प्रकार का आयोजन प्राचीनकाल से होता आ रहा है जहा अपने अपने क्षेत्र से सम्बंधित राजा अपने किले में पूजा अर्चना कर भव्य झांकी पुरे राजशी ठाठ बाठ के साथ शहर भर में निकलते है, दशहरे की झांकी में घोड़े के साथ रथ सज्जित रहते है, पौराणिक कथाओं के अनुसार दशहरे के दिन ही भगवान राम ने लंकापति रावण का वध किया था। जिसे बुराई पर अच्छाई का प्रतीक माना जाता है, इसी की खुशी में दशमी तिथि को विजयादशमी के पर्व के रूप में मनाया जाता है। इसी तरह शस्त्र पूजा का भी एक तार्किक पौराणिक कारन है , दरअसल युद्द में विजय के कारण और पांडवों जुड़ी एक कथा के कारण विजय दशमी को हथियार अस्त्र-शस्त्र पूजने की परंपरा भी है।

इसी परम्परा का निर्वहन करते हुए रीवा रियासत के महाराज पुष्पराज सिंह भी दशहरे के अवसर पर किला में पूजा अर्चना कर शहर भर में झांकी निकाला, जिसमें सैकड़ो की संख्या में लोग झांकी देखने के लिए उमड़ते रहे,

 


दुकानों में आग लगाने वाला आरोपी हुआ गिरफ्तार

रीवा में बेत की लकड़ियों से बनते है खूबसूरत फर्नीचर


 VT PADTAL