VT Update
आबकारी उड़नदस्ता टीम ने की बड़ी कार्यवाही, नईगढ़ी व पहाड़ी गाँव में कच्ची शराब भट्टी में मारी रेड, 200 लीटर कच्ची शराब के साथ पांच आरोपी गिरफ्तार विधानसभा चुनाव के मद्देनज़र एस एस टी टीम की कार्यवाही जारी, चेकिंग के दौरान चार पहिया सवार के कब्जे से बरामद हुए 2लाख 19 हज़ार रुपये, निर्वाचन कार्यालय भेजा गया मामला संतों की मन की बात कार्यक्रम के तहत रीवा के पद्मधर पार्क में सम्पन्न हुआ संत समागम, कंप्यूटर बाबा सहित अन्य संतों ने मुख्यमंत्री शिवराज को बताया भ्रष्टाचारी, कहा संतो को ‘शिव’ राज नही ‘नाथ’ चाहिए पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव की शुरुआत नक्सल प्रभावित बस्तर और राजनांदगांव से आज, छत्तीसगढ़ की 18 सीटों पर आज होगा मतदान संघ शाखाओं में कर्मचारियों के जाने पर रोक लगाने के कांग्रेसी अजेंडे पर मचा बवाल, भाजपा ने कहा हिम्मत है तो रोक कर दिखाओ, कांग्रेस का पलटवार हम शाखा बंद करके दिखायेंगे
Thursday 23rd of November 2017 | प्रद्युम्न मर्डर केस

76 दिनों बाद घर पहुंचा अशोक


गुरुग्राम। प्रद्युम्न मर्डर केस में गिरफ्तार आरोपी बस हेल्पर अशोक कुमार का आखिरकार जमानत मिल गई। 76 दिनों तक हिरासत में रहने के बाद अशोक अपने घर पहुंच गया है। बुधवार को ही कोर्ट ने उसे जमानत दी थी। अशोक ने रिहाई के बाद के बाद कहा कि हमें न्यायपालिका पर पूरा विश्वास है। घर में परिवार के सदस्य उसका बेसब्री से इंतजार कर रहे थे। घामडोज पहुंचते ही उसे देखने के लिए भीड़ लग गई। आठ सितंबर को जिन लोगों की आंखों में अशोक के प्रति नफरत दिख रही थी, आज उन्हीं आंखों में दया के भाव नजर आए। मीडिया से बचाने के लिए अशोक को उसके एक संबंधी खजान के घर में ले जाया गया। मीडिया कर्मी उससे बातचीत करने की कोशिश करने लगे तो अशोक को लोगों ने कमरे के अंदर कर दिया।

वहीं, रेयान इंटरनेशनल स्कूल के बस सहायक और प्रद्युम्न हत्याकांड के आरोपी अशोक के अधिवक्ता मोहित वर्मा का मानना है कि कौन अपराधी है, कौन नहीं, यह सच्चाई आंखें आसानी से बता देती हैं। मोहित वर्मा कहते हैं, 'आंखों में सच्चाई देखने के लिए देखने वालों का मन भी साफ होना चाहिए। यदि मन में कोई छल कपट है तो फिर सच्चाई नहीं दिखाई देगी। प्रद्युम्न की हत्या के आरोप में बस सहायक अशोक को गिरफ्तार किया गया। उसका चेहरा देखकर ही करोड़ों लोगों के मुख से यही निकला कि यह आरोपी नहीं है।
पुलिस वाले भी इसी समाज से आते हैं फिर उन्हें क्यों नहीं महसूस हुआ? इसके पीछे निश्चित रूप से कुछ न कुछ खेल है। यह सच्चाई सामने आनी चाहिए। सीबीआइ द्वारा अशोक को जमानत दिए जाने के बाद एसआइटी के खिलाफ जांच को लेकर प्रयास शुरू किया जाएगा। 


कर्नल ने किया अपने ही जूनियर कि बेटी के साथ दुष्कर्म, मानवता को किया शर्मसार

प्रद्युम्न मर्डर केस: हत्या के आरोपी नाबालिग छात्र ने CBI पर डरा धमका कर जुर्म


 VT PADTAL