VT Update
विंध्य के सबसे बड़े अस्पताल संजय गांधी की सुरक्षा व्यवस्था पर उठे सवाल, अस्पताल के पार्किंग से चोरी हुई बोलेरो वाहन रीवा मेडिकल कॉलेज में लगेगा रूफटाफ का प्रदेश का सबसे बड़ा सोलर प्रोजेक्ट मतदाता जागरूकता के लिए रवाना हुई बुलेट रैली, कलेक्टर प्रीति मैथिल ने दिखाई हरी झंडी मध्यप्रदेश के शिवपुरी जिले में घटिया पुल निर्माण पर गिरी गाज, पीडब्लयूडी के चार अफसर सस्पेंड रीवा सहित प्रदेश भर में हर्षोल्लास के साथ मनायी गई कृष्ण जन्माष्टमी, शिल्पी प्लाजा में हुआ मटकी फोड़ने का भव्य आयोजन
Saturday 25th of November 2017 | टीम इंडिया का कोच बनने को बेताब था : सौरभ गांगुली

टीम इंडिया का कोच बनने को बेताब था : सौरभ गांगुली


कोलकाता। बंगाल टाइगर के नाम से मशहूर इंडियन क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान सौरभ गांगुली ने कहा है कि, वह टीम इंडिया का कोच बनने के लिए बेताब थे। लेकिन क्रिकेट प्रशासक बन गए गांगुली ने कहा आपको वही करना चाहिए  जो आप कर सकते हो और नतीजे के बारे में नहीं सोचना चाहिए क्यों कि नतीजा आपको पता नहीं होता।  

गांगुली ने कहा कि मैं 1999 में ऑस्ट्रेलिया गया था। उस वक्त मैं उप कप्तान भी नहीं था सचिन तेंदुलकर कप्तान थे और तीन महीनों में मैं भारतीय टीम का कप्तान बन गया गांगुली ने कहा जब मैं प्रशासनिक गतिविधियों से जुड़ा तो मैं भारतीय टीम का कोच बनने के लिए बेताब था।

गांगुली ने कहा जगमोहन डालमिया ने मुझे फोन किया और कहा कि तुम छह महीने के लिए क्यों नहीं कोशिश करते पर उनका निधन हो गया और कोई भी आस-पास नहीं था। इसलिए मैं बंगाल क्रिकेट संघ का अध्यक्ष बन गया लोगों को अध्यक्ष बनने में 20 साल लग जाते है। गांगुली ने कोच ग्रेग चैपल के साथ विवादास्पद घटना के बारे में भी बात की और बताया कि क्यों हटने का फैसला किया।

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान सौरभ गांगुली ने कहा जब मैने 2008 में सन्यास की घोषणा की थी उस वक्त सचिन लंच पर आए और उन्होने मुझसे पूंछा कि तुमने इस तरह का फैसला क्यों किया। तब मैंने कहा कि क्योंकि मैं अब और नहीं खेलना चाहता तब उन्होंने कहा कि तुम जिस लय में खेल रहे हो उसमें तुम्हें देखना बेहतरीन है। पिछले तीन साल तुम्हारे लिए सर्वश्रेष्ठ रहे हैं। 


राष्ट्रमंडल खेल 2018 में भारत का सुनहरा सफर जारी

शमी को BCCI की क्लीन चिट, फिक्सिंग के आरोपों से किया बरी


 VT PADTAL