VT Update
केजरीवाल ने दिया शिवराज को प्रस्ताव शिक्षा में सुधार करना हो तो मनीष को भेज दूँ मध्यप्रदेश सीएम फेस की अटकलों पर शिवराज ने लगाया विराम, कहा कि मेरे ही नेतृत्व में बनेगी भाजपा की अगली सरकार वार्ड क्र 16 में मुख्यमार्ग से परेशान रहवासी, मार्ग का नहीं हो रहा निर्माण, 4 बार किया जा चुका है भूमिपूजन दिल्ली मैट्रो को सितम्बर से बिजली सप्लाई करेगा, बदबार का अल्ट्रामेगा सोलर पावर प्लांट गोविंदगढ़ थाना क्षेत्र के धोबखरी गांव में भाई की जान बचाने नहर में कूदी बहन, हुई मौत
बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी के बेटे की शादी में चर्चा का विषय बना लालू का 'लिफाफा'

बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी के बेटे की शादी में चर्चा का विषय बना लालू का 'लिफाफा'


पटना। बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी के बेटे उत्कर्ष और यामिनी की शादी रविवार को पटना के वेटनरी कॉलेज मैदान में बेहद ही सादगी भरे माहौल में संपन्न हो गई। बिना बैंड-बाजा और भोज-भात वाली इस शादी समारोह में केन्द्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद व कई दूसरे राज्यों के सीएम और राज्यपाल के साथ दर्जनभर केन्द्रीय मंत्री भी शामिल हुए। शादी में कुछ ही दूरी पर लालू और सीएम नीतीश बैठे थे लेकिन दोनों के बीच कोई बात नहीं हुई। 

शादी में मंत्रोच्चार के लिए कई शहरों के प्रमुख विद्वान बुलाए गए थे। शादी का कार्यक्रम तय समय के अनुसार तीन बजे शुरू होकर पांच बजे तक खत्म हो गया। समारोह स्थल पर प्रवेश के साथ ही देहदान करने वालों के लिए स्टॉल लगा था। बगल में दहेज और बाल विवाह का संकल्प लेने वालों की भीड़ थी।

वहीं बिहार के उप-मुख्यमंत्री सुशील मोदी के बेटे की शादी की खबर पूरे बिहार में चर्चा का विषय बनी हुई है, लेकिन एक चर्चा और है कि इस बिना ताम-झाम और बिना दहेज की शादी में आखिर लालू यादव ने मनाही के बावजूद सुशील मोदी के बेटे के हाथ में एक बंद लिफाफा क्यों दिया? जबकि सुशील मोदी की ओर से दिए गए आमंत्रण पत्र में साफ लिखा था कि शादी में किसी भी तरह का तोहफा लेकर ना आएं।

जदयू नेताओं ने तंज कसते हुए कहा है कि लालू मीडिया के डार्लिंग हैं और कैमरे में बने रहने के लिए कुछ ना कुछ उत्पात मचाते रहते हैं। जदयू नेता संजय सिंह ने कहा कि लालू लाफ्टर चैनल के हीरो हैं और मीडिया में बने रहने के लिए कुछ न कुछ करते रहते है। 
वहीं, इन सबका जवाब देते हुए राजद नेता मृत्युंजय तिवारी ने कहा कि लालू जी अपनी सभ्यता संस्कृति को नहीं भूलते हैं। ये उनका सीधा-सरल स्वभाव है, वो किसी की बात में नहीं आते, सुशील मोदी ने भी लालू जी की बेटियों की शादी में उपहार दिया था, ऐसे में उन्होंने भी बस उस उपहार को वापस किया है। बड़ा उपहार तो नहीं दिया। 

 
 


कुमारस्वामी ने साबित किया बहुमत

वाराणसी: निर्माणाधीन फ्लाईओवर के स्लैब गिरने हुआ बड़ा हादसा, अब तक 12 की मौत  


 VT PADTAL