VT Update
मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए आप लगातार विंध्य 24 से जुड़े रहे हम आपको ताजा अपडेट देते रहेगें अभी प्रत्येक विधानसभाओं में मतगणना आरंभ हुई हैं तथा बैलेट पेपर की गिनती शुरु हो चुकी है MP चुनावः शिवराज सिंह चौहान बोले-कांग्रेस के सहयोगी हताश हैं विजय माल्या केस की सुनवाई के सिलसिले में CBI और ED के ऑफिसर लंदन रवाना J-K: किश्तवाड़ पुलिस ने आतंकी रियाज अहमद को गिरफ्तार किया विजय माल्या केस की सुनवाई के सिलसिले में CBI और ED के ऑफिसर लंदन रवाना
Friday 8th of December 2017 | स्वस्थ्य लोकतंत्र के लिए सही नहीं

देश के प्रतिनिधि के खिलाफ ऐसी भाषा शर्मनाक


कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर ने शर्मसार करने वाला बयान दिया है.इस बयान को राजनीति का बाजार गर्म हो गया है . देश के सर्वोच्च पद पर बैठे देश के प्रधानमंत्री के बारे में मणिशंकर की ऐसी टिप्पणी का आज देशभर में विरोध हो रहा है. कांग्रेस पार्टी विचारधारा से जुड़े मणिशंकर अय्यर ने देश के प्रधानमंत्री के लिए नीच शब्द का प्रयोग कर पद की गरिमा का अपमान किया है.ऐसी बेतुकी शब्दावली के इस्तेमाल के बाद बीजेपी ने कांग्रेस को जमकर कोसा .देश के प्रधानमंत्री के लिए ऐसी भाषा का प्रयोग करना देश के लोकतंत्र,राजनीति सबके लिए शर्मनाक है. राजनैतिक लड़ाई एक अलग मसला है लेकिन  वैश्विक स्तर पर भारत ने एक अलग पहचान बनायीं है और जनता से चुनकर आये प्रधानमंत्री के बारे में ऐसी भाषा का इस्तेमाल करना आप की सोच को प्रदर्शित करता है . आज भारत ने एक अलग पहचान बनाई है देश की  लोकतांत्रिक व्यवस्था हमारी प्रतिष्ठा हमारा दूसरों के प्रति सम्मान, हमारी भाषा, बोलचाल और विभिन्नता में एकता के प्रमाण को हमने बखूबी स्थापित किया है,लेकिन पिछले कुछ समय में हमारे देश की राजनैतिक  व्यवस्था में ऐसे कई मौके आये जब अभद्र टिप्पणी कर देश के गरिमामय पद पर बैठे व्यक्ति को उल्टा-सीधा बोला गया चाहे वो पूर्व प्रधानमंत्री डॉ.मनमोहन सिंह हो या प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी. सस्ती लोकप्रियता के चक्कर में बार-बार शब्द की सीमाएं लाँघ कर ऐसी बयानबाजी लोकतंत्र के सही नहीं है.कांग्रेस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गाँधी ने मणिशंकर अय्यर को मोदी जी से माफ़ी मांगने को कहा और साथ ही अय्यर की कांग्रेस से प्राथमिक सदस्यता समाप्त कर पार्टी से निकाल दिया. अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का मतलब यह बिल्कुल नहीं है कि जनता से चुने देश का प्रतिनिधित्व कर रहे व्यक्ति के बारे में आप ऐसी टिप्पणी करें. इतिहास साक्षी रहा है की हमारे देश की लोकतान्त्रिक व्यवस्था हमेशा से सम्मान और एक उत्कृष्ट भाषा की पक्षधर रही है.


जिस पत्रकारिता का कभी स्वर्णिम युग ना था , उसमे स्वर्णिम व्यक्तित्व की तरह उ

अटल जी के निधन से आहत हुआ देश !


 VT PADTAL