VT Update
16 नवम्बर को शहडोल में होंगे नरेंद्र मोदी और राहुल गांधी कांग्रेस विधायक सुन्दरलाल तिवारी ने आरएसएस को कहा आतंकी संगठन,कांग्रेस का बयान से किनारा रीवा में भाजपा प्रत्याशी राजेंद्र शुक्ल ने कांग्रेस प्रत्याशी अभय मिश्र को दिया कानूनी नोटिस। 50 करोड़ का कर सकते हैं दावा। आबकारी उड़नदस्ता टीम ने की बड़ी कार्यवाही, नईगढ़ी व पहाड़ी गाँव में कच्ची शराब भट्टी में मारी रेड, 200 लीटर कच्ची शराब के साथ पांच आरोपी गिरफ्तार विधानसभा चुनाव के मद्देनज़र एस एस टी टीम की कार्यवाही जारी, चेकिंग के दौरान चार पहिया सवार के कब्जे से बरामद हुए 2लाख 19 हज़ार रुपये, निर्वाचन कार्यालय भेजा गया मामला
Thursday 28th of December 2017 | तीन तलाक के मुद्दे में पेश हुआ बिल

तीन तलाक के मुद्दे में पेश हुआ बिल, भारी विरोध के बीच मिला कांग्रेस का समर्थन


मुस्लिम महिलाओं के लिए तीन तलाक जैसी अत्यचारी प्रथा पर रोक लगाने के लिए मोदी सरकार ने आज लोकसभा में बिल पेश कर दिया है केंद्रीय कानून मंत्री रविंशकर प्रसाद ने इस बिल को पेश करते हुए आज के दिन को ऐतिहासिक बताया है जैसा कि पहले से उम्मीद थी कि लोकसभा में इस बिल का विरोध किया जायेगा उसी के मुताबिक RJD, BJD समेत कई विपक्षी पार्टियों ने इस बिल का विरोध किया विपक्षी पार्टियों ने बिल में सजा के प्रावधान को गलत बताया है

इसके साथ ही AIMIM सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने तीन तलाक बिल का पुरजोर विरोध किया ओवैसी ने तीन तलाक के बिल को महिलाओं के मूलभूत अधिकारों का हनन बताया है ओवैसी ने इस बिल का विरोध करते हुए कहा कि जब घरेलू हिंसा के लिए पहले से एक बिल है तो फिर अलग से बिल क्यों लाया जा रहा है

सभी राजनीतिक दलों के विरोध के बीच तीन तलाक के इस बिल का कांग्रेस पार्टी ने समर्थन करते हुए ऐलान किया की अब कांग्रेस इस बिल पर कोई संसोधन नहीं लाएगी. कांग्रेस की ओर से सरकार को सिर्फ सुझाव दिये जाऐंगे और सरकार का इस मुद्दे पर समर्थन किया जाएगा

वहीं कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने इस बिल को पूरी तरह कानूनी बताते हुए बिल को पास करने की मांग की है इसके साथ ही उन्होने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने कानून बनाने को कहा था हम उसी का पालन कर रहे हैं.

आपको बतादें इसी साल अगस्त में सुप्रीम कोर्ट ने तीन तलाक को गैर कानूनी करार दिया था और इस पर सरकार को कानून बनाने के लिए कहा था हालांकि सुप्रीम कोर्ट इस फैसले के बाद भी देशभर में कई जगह ऐसे मामले आ चुके है जिसमें महिलाओं को तीन तलाक की प्रतड़ना का शिकार होना पड़ा

मुस्लिम महिलाओं के लिए तीन तलाक जैसी अत्यचारी प्रथा पर रोक लगाने के लिए मोदी सरकार ने आज लोकसभा में बिल पेश कर दिया है केंद्रीय कानून मंत्री रविंशकर प्रसाद ने इस बिल को पेश करते हुए आज के दिन को ऐतिहासिक बताया है जैसा कि पहले से उम्मीद थी कि लोकसभा में इस बिल का विरोध किया जायेगा उसी के मुताबिक RJD, BJD समेत कई विपक्षी पार्टियों ने इस बिल का विरोध किया विपक्षी पार्टियों ने बिल में सजा के प्रावधान को गलत बताया है

इसके साथ ही AIMIM सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने तीन तलाक बिल का पुरजोर विरोध किया ओवैसी ने तीन तलाक के बिल को महिलाओं के मूलभूत अधिकारों का हनन बताया है ओवैसी ने इस बिल का विरोध करते हुए कहा कि जब घरेलू हिंसा के लिए पहले से एक बिल है तो फिर अलग से बिल क्यों लाया जा रहा है

सभी राजनीतिक दलों के विरोध के बीच तीन तलाक के इस बिल का कांग्रेस पार्टी ने समर्थन करते हुए ऐलान किया की अब कांग्रेस इस बिल पर कोई संसोधन नहीं लाएगी. कांग्रेस की ओर से सरकार को सिर्फ सुझाव दिये जाऐंगे और सरकार का इस मुद्दे पर समर्थन किया जाएगा

वहीं कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने इस बिल को पूरी तरह कानूनी बताते हुए बिल को पास करने की मांग की है इसके साथ ही उन्होने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने कानून बनाने को कहा था हम उसी का पालन कर रहे हैं.

आपको बतादें इसी साल अगस्त में सुप्रीम कोर्ट ने तीन तलाक को गैर कानूनी करार दिया था और इस पर सरकार को कानून बनाने के लिए कहा था हालांकि सुप्रीम कोर्ट इस फैसले के बाद भी देशभर में कई जगह ऐसे मामले आ चुके है जिसमें महिलाओं को तीन तलाक की प्रतड़ना का शिकार होना पड़ा


जिस पत्रकारिता का कभी स्वर्णिम युग ना था , उसमे स्वर्णिम व्यक्तित्व की तरह उ

अटल जी के निधन से आहत हुआ देश !


 VT PADTAL