VT Update
देश के हर घर को बिजली देने की कोशिश हो रही है: राष्ट्रपति कोविंद सरकार ने गरीबों के लिए बैंकिंग सुविधा को आसान किया: राष्ट्रपति कोविंद रामगढ़ उपचुनाव: कांग्रेस की साफिया खान जीतीं J-K:अनंतनाग में पुलिस स्टेशन पर ग्रेनेड से हमला, 3 नागरिक और 1 जवान घायल गोपाल भार्गव बने नेता मप्र.विधानसभा नेता प्रतिपक्ष
Thursday 28th of December 2017 | तीन तलाक के मुद्दे में पेश हुआ बिल

तीन तलाक के मुद्दे में पेश हुआ बिल, भारी विरोध के बीच मिला कांग्रेस का समर्थन


मुस्लिम महिलाओं के लिए तीन तलाक जैसी अत्यचारी प्रथा पर रोक लगाने के लिए मोदी सरकार ने आज लोकसभा में बिल पेश कर दिया है केंद्रीय कानून मंत्री रविंशकर प्रसाद ने इस बिल को पेश करते हुए आज के दिन को ऐतिहासिक बताया है जैसा कि पहले से उम्मीद थी कि लोकसभा में इस बिल का विरोध किया जायेगा उसी के मुताबिक RJD, BJD समेत कई विपक्षी पार्टियों ने इस बिल का विरोध किया विपक्षी पार्टियों ने बिल में सजा के प्रावधान को गलत बताया है

इसके साथ ही AIMIM सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने तीन तलाक बिल का पुरजोर विरोध किया ओवैसी ने तीन तलाक के बिल को महिलाओं के मूलभूत अधिकारों का हनन बताया है ओवैसी ने इस बिल का विरोध करते हुए कहा कि जब घरेलू हिंसा के लिए पहले से एक बिल है तो फिर अलग से बिल क्यों लाया जा रहा है

सभी राजनीतिक दलों के विरोध के बीच तीन तलाक के इस बिल का कांग्रेस पार्टी ने समर्थन करते हुए ऐलान किया की अब कांग्रेस इस बिल पर कोई संसोधन नहीं लाएगी. कांग्रेस की ओर से सरकार को सिर्फ सुझाव दिये जाऐंगे और सरकार का इस मुद्दे पर समर्थन किया जाएगा

वहीं कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने इस बिल को पूरी तरह कानूनी बताते हुए बिल को पास करने की मांग की है इसके साथ ही उन्होने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने कानून बनाने को कहा था हम उसी का पालन कर रहे हैं.

आपको बतादें इसी साल अगस्त में सुप्रीम कोर्ट ने तीन तलाक को गैर कानूनी करार दिया था और इस पर सरकार को कानून बनाने के लिए कहा था हालांकि सुप्रीम कोर्ट इस फैसले के बाद भी देशभर में कई जगह ऐसे मामले आ चुके है जिसमें महिलाओं को तीन तलाक की प्रतड़ना का शिकार होना पड़ा

मुस्लिम महिलाओं के लिए तीन तलाक जैसी अत्यचारी प्रथा पर रोक लगाने के लिए मोदी सरकार ने आज लोकसभा में बिल पेश कर दिया है केंद्रीय कानून मंत्री रविंशकर प्रसाद ने इस बिल को पेश करते हुए आज के दिन को ऐतिहासिक बताया है जैसा कि पहले से उम्मीद थी कि लोकसभा में इस बिल का विरोध किया जायेगा उसी के मुताबिक RJD, BJD समेत कई विपक्षी पार्टियों ने इस बिल का विरोध किया विपक्षी पार्टियों ने बिल में सजा के प्रावधान को गलत बताया है

इसके साथ ही AIMIM सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने तीन तलाक बिल का पुरजोर विरोध किया ओवैसी ने तीन तलाक के बिल को महिलाओं के मूलभूत अधिकारों का हनन बताया है ओवैसी ने इस बिल का विरोध करते हुए कहा कि जब घरेलू हिंसा के लिए पहले से एक बिल है तो फिर अलग से बिल क्यों लाया जा रहा है

सभी राजनीतिक दलों के विरोध के बीच तीन तलाक के इस बिल का कांग्रेस पार्टी ने समर्थन करते हुए ऐलान किया की अब कांग्रेस इस बिल पर कोई संसोधन नहीं लाएगी. कांग्रेस की ओर से सरकार को सिर्फ सुझाव दिये जाऐंगे और सरकार का इस मुद्दे पर समर्थन किया जाएगा

वहीं कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने इस बिल को पूरी तरह कानूनी बताते हुए बिल को पास करने की मांग की है इसके साथ ही उन्होने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने कानून बनाने को कहा था हम उसी का पालन कर रहे हैं.

आपको बतादें इसी साल अगस्त में सुप्रीम कोर्ट ने तीन तलाक को गैर कानूनी करार दिया था और इस पर सरकार को कानून बनाने के लिए कहा था हालांकि सुप्रीम कोर्ट इस फैसले के बाद भी देशभर में कई जगह ऐसे मामले आ चुके है जिसमें महिलाओं को तीन तलाक की प्रतड़ना का शिकार होना पड़ा


आजम खान ने प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति को ठहराया पुलवामा हमले का ज़िम्मेदार

आतंकी हमले के बाद प्रधानमंत्री मोदी का दो दिवसीय म.प्र. दौरा रद्द


 VT PADTAL