VT Update
विंध्य के सबसे बड़े अस्पताल संजय गांधी की सुरक्षा व्यवस्था पर उठे सवाल, अस्पताल के पार्किंग से चोरी हुई बोलेरो वाहन रीवा मेडिकल कॉलेज में लगेगा रूफटाफ का प्रदेश का सबसे बड़ा सोलर प्रोजेक्ट मतदाता जागरूकता के लिए रवाना हुई बुलेट रैली, कलेक्टर प्रीति मैथिल ने दिखाई हरी झंडी मध्यप्रदेश के शिवपुरी जिले में घटिया पुल निर्माण पर गिरी गाज, पीडब्लयूडी के चार अफसर सस्पेंड रीवा सहित प्रदेश भर में हर्षोल्लास के साथ मनायी गई कृष्ण जन्माष्टमी, शिल्पी प्लाजा में हुआ मटकी फोड़ने का भव्य आयोजन
Thursday 28th of December 2017 | तीन तलाक के मुद्दे में पेश हुआ बिल

तीन तलाक के मुद्दे में पेश हुआ बिल, भारी विरोध के बीच मिला कांग्रेस का समर्थन


मुस्लिम महिलाओं के लिए तीन तलाक जैसी अत्यचारी प्रथा पर रोक लगाने के लिए मोदी सरकार ने आज लोकसभा में बिल पेश कर दिया है केंद्रीय कानून मंत्री रविंशकर प्रसाद ने इस बिल को पेश करते हुए आज के दिन को ऐतिहासिक बताया है जैसा कि पहले से उम्मीद थी कि लोकसभा में इस बिल का विरोध किया जायेगा उसी के मुताबिक RJD, BJD समेत कई विपक्षी पार्टियों ने इस बिल का विरोध किया विपक्षी पार्टियों ने बिल में सजा के प्रावधान को गलत बताया है

इसके साथ ही AIMIM सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने तीन तलाक बिल का पुरजोर विरोध किया ओवैसी ने तीन तलाक के बिल को महिलाओं के मूलभूत अधिकारों का हनन बताया है ओवैसी ने इस बिल का विरोध करते हुए कहा कि जब घरेलू हिंसा के लिए पहले से एक बिल है तो फिर अलग से बिल क्यों लाया जा रहा है

सभी राजनीतिक दलों के विरोध के बीच तीन तलाक के इस बिल का कांग्रेस पार्टी ने समर्थन करते हुए ऐलान किया की अब कांग्रेस इस बिल पर कोई संसोधन नहीं लाएगी. कांग्रेस की ओर से सरकार को सिर्फ सुझाव दिये जाऐंगे और सरकार का इस मुद्दे पर समर्थन किया जाएगा

वहीं कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने इस बिल को पूरी तरह कानूनी बताते हुए बिल को पास करने की मांग की है इसके साथ ही उन्होने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने कानून बनाने को कहा था हम उसी का पालन कर रहे हैं.

आपको बतादें इसी साल अगस्त में सुप्रीम कोर्ट ने तीन तलाक को गैर कानूनी करार दिया था और इस पर सरकार को कानून बनाने के लिए कहा था हालांकि सुप्रीम कोर्ट इस फैसले के बाद भी देशभर में कई जगह ऐसे मामले आ चुके है जिसमें महिलाओं को तीन तलाक की प्रतड़ना का शिकार होना पड़ा

मुस्लिम महिलाओं के लिए तीन तलाक जैसी अत्यचारी प्रथा पर रोक लगाने के लिए मोदी सरकार ने आज लोकसभा में बिल पेश कर दिया है केंद्रीय कानून मंत्री रविंशकर प्रसाद ने इस बिल को पेश करते हुए आज के दिन को ऐतिहासिक बताया है जैसा कि पहले से उम्मीद थी कि लोकसभा में इस बिल का विरोध किया जायेगा उसी के मुताबिक RJD, BJD समेत कई विपक्षी पार्टियों ने इस बिल का विरोध किया विपक्षी पार्टियों ने बिल में सजा के प्रावधान को गलत बताया है

इसके साथ ही AIMIM सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने तीन तलाक बिल का पुरजोर विरोध किया ओवैसी ने तीन तलाक के बिल को महिलाओं के मूलभूत अधिकारों का हनन बताया है ओवैसी ने इस बिल का विरोध करते हुए कहा कि जब घरेलू हिंसा के लिए पहले से एक बिल है तो फिर अलग से बिल क्यों लाया जा रहा है

सभी राजनीतिक दलों के विरोध के बीच तीन तलाक के इस बिल का कांग्रेस पार्टी ने समर्थन करते हुए ऐलान किया की अब कांग्रेस इस बिल पर कोई संसोधन नहीं लाएगी. कांग्रेस की ओर से सरकार को सिर्फ सुझाव दिये जाऐंगे और सरकार का इस मुद्दे पर समर्थन किया जाएगा

वहीं कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने इस बिल को पूरी तरह कानूनी बताते हुए बिल को पास करने की मांग की है इसके साथ ही उन्होने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने कानून बनाने को कहा था हम उसी का पालन कर रहे हैं.

आपको बतादें इसी साल अगस्त में सुप्रीम कोर्ट ने तीन तलाक को गैर कानूनी करार दिया था और इस पर सरकार को कानून बनाने के लिए कहा था हालांकि सुप्रीम कोर्ट इस फैसले के बाद भी देशभर में कई जगह ऐसे मामले आ चुके है जिसमें महिलाओं को तीन तलाक की प्रतड़ना का शिकार होना पड़ा


कांग्रेस की कार्य समिति गठित, इस बार दिग्विजय को नही मिली जगह

 पीएम मोदी दो दिवसीय पूर्वांचल दौरे पर, करोड़ों की योजनाओं का करेंगे शिलान्‍


 VT PADTAL