VT Update
केजरीवाल ने दिया शिवराज को प्रस्ताव शिक्षा में सुधार करना हो तो मनीष को भेज दूँ मध्यप्रदेश सीएम फेस की अटकलों पर शिवराज ने लगाया विराम, कहा कि मेरे ही नेतृत्व में बनेगी भाजपा की अगली सरकार वार्ड क्र 16 में मुख्यमार्ग से परेशान रहवासी, मार्ग का नहीं हो रहा निर्माण, 4 बार किया जा चुका है भूमिपूजन दिल्ली मैट्रो को सितम्बर से बिजली सप्लाई करेगा, बदबार का अल्ट्रामेगा सोलर पावर प्लांट गोविंदगढ़ थाना क्षेत्र के धोबखरी गांव में भाई की जान बचाने नहर में कूदी बहन, हुई मौत
क्या आप जानते हैं 7 जनवरी का इतिहास

7 जनवरी 1980 को दोबारा बनी थी इंदिरा की सरकार


भारत की जनता के द्वारा तीन साल तक सत्ता से दूर रखने के बाद कांग्रेस पार्टी की सबसे शक्तिशाली नेता इंदिरा गांधी को आज ही के दिन यानी 7 जनवरी 1980 को वापस चुना गया. इंदिरा गांधी ने देश में इमरजेंसी लागू करने की भारी कीमत 1977 में अपनी चुनावी हार से चुकाई थी जिसके बाद 1980 के चुनावों में उन्होने संसद के निचले सदन लोकसभा में कुल 525 सीटों में से 351 सीटों में जीत दर्ज कर दोबारा अपनी सरकार बनाई थी

इंदिरा गांधी ने अपने इस जीत के साथ ही अपनी दो विरोधी पार्टियों जनता दल और लोक दल को हराया था ये दोनों ही पार्टिया संसद में अधिकारिक विपक्षी दल बनने के लिए जरुरी न्यूनतम 54 सीटें भी नहीं जीत सकीं 1980 के इस चुनाव में इंदिरा गांधी के पुत्र संजय गांधी ने भी जीत दर्ज की थी हालाकि संजय को ही देश में लगी इमरजेंसी के दौरान कई ज्यादतियों के लिए जिम्मेदार माना जाता था जिसके कारण उनकी यह जीत भारतीय लोकतंत्र के इतिहास में जरूरी हो गई

हालाकि इंदिरा गांधी 1977 तक देश की प्रधानमंत्री के रुप में 11 सालों तक शासन कर चुकीं थी जिसके बाद 1980 के चुनाव में वो अपने “गरीबी हटाओ” के नारे और देश में कानून व्यवस्था बहाल करने के वादे के साथ सत्ता में फिर वापसी की.

62 वर्षों की उम्र में लड़े इन चुनावों में उन्होंने खुद 384 लोकसभा क्षेत्रों का दौरा किया और भारी जन समर्थन हासिल किया भारी बहुमत से चुनकर आने के बावजूद भारत में 19 महींनों तक लागू किए आपातकाल के साये ने उनका साथ नहीं छोंड़ा इस दौरान देश में लोकतांत्रिक व्यवस्था को स्थागित कर दिया गया था


कुमारस्वामी ने साबित किया बहुमत

वाराणसी: निर्माणाधीन फ्लाईओवर के स्लैब गिरने हुआ बड़ा हादसा, अब तक 12 की मौत  


 VT PADTAL