VT Update
केजरीवाल ने दिया शिवराज को प्रस्ताव शिक्षा में सुधार करना हो तो मनीष को भेज दूँ मध्यप्रदेश सीएम फेस की अटकलों पर शिवराज ने लगाया विराम, कहा कि मेरे ही नेतृत्व में बनेगी भाजपा की अगली सरकार वार्ड क्र 16 में मुख्यमार्ग से परेशान रहवासी, मार्ग का नहीं हो रहा निर्माण, 4 बार किया जा चुका है भूमिपूजन दिल्ली मैट्रो को सितम्बर से बिजली सप्लाई करेगा, बदबार का अल्ट्रामेगा सोलर पावर प्लांट गोविंदगढ़ थाना क्षेत्र के धोबखरी गांव में भाई की जान बचाने नहर में कूदी बहन, हुई मौत
युवा दिवस : विवेकानंद विशेष

स्वामी विवेकानंद एक उत्कृष्ट व्यक्तित्व


स्वामी विवेकानंद “सकारात्मक उर्जा के “पॉवर हाउस”

स्वामी विवेकानंद एक ऐसा नाम जिसको सुनने से अंग प्रत्यंग उर्जा से भर जाए , व्यक्ति खुद को सकारात्मक उर्जा का “पॉवर हाउस” मान ले . कठिन से कठिनतम कार्य करने के लिए उठ खड़ा हो जाए .जन्म आज के ही दिन यानि 12 जनवरी, सन 1863 बंगाल प्रान्त के कोलकत्ता शहर के एक प्रतिष्ठित संपन्न घराने में हुआ नाम रखा गया नरेन्द्र .बचपन शिक्षा दीक्षा , खेलकूद में गुजरा, किशोर हुए जीवन का सत्य खोजने लगे फिर आया ‘क्या आपने भगवान् को देखा है?’ वाला किस्सा ये किस्सा अपनी मंजिल पर पहुंचा स्वामी रामकृष्ण परमहंस से मिलने के बाद , ऐसी विलक्षण प्रतिभा वाले युवक को देख कर रामकृष्ण परमहंस के अनुभवों ने देर नही लगाई तुरंत भांप लिया ये बालक भारत का युगपुरुष बनेगा ,  और हुआ भी ऐसा ही . स्वामी जी नरेन्द्र को बनाया स्वामी विवेकानंद ,जो बाद में भारत की संस्कृति , सभ्यता, हिन्दू धर्म का पताका ले कर वैश्विक मंचों तक पहुचे और भारतवर्ष को संसार का गुरु साबित किया .

अमेरिकी युवती से जब स्वामी जी को मिला विवाह का प्रस्ताव

ये बात है 13 फरवरी 1893 के बाद के दिनों की जब की स्वामी जी ने शिकागो सम्मेलन में अपने  ज्ञान से विश्व के नज़रों में भारत को सर्वोपरि कर दिया था पूरे अमेरिका में स्वामी की धूम मच गयी थी, जगह जगह स्वामी जी के व्याखान रखे जाने लगे .एक व्याख्यान से लौटते हुये स्वामी की मुलाकात हुई एक अमेरिकी महिला से जो स्वामी जी से अत्यंत प्रभावित( आज के दौर की फैन ) थी ,लड़की स्वामी जी से सामने अपना प्रस्ताव रखा और कहा  ‘मै आपसे विवाह करना चाहती हूँ.’ स्वामी जी ने कहा ‘पर आप मुझसे ही विवाह क्यों करना चाहती है’!  युवती ने शर्माते हुये कहा ‘मै चाहती हु कि मुझे आप जैसा सुन्दर और प्रतिभावान पुत्र प्राप्त हो ‘ स्वामी जी कहा ‘बस इतनी सी बात’! लगभग दंडवत मुद्रा में स्वामी जी झुके और कहा “ माँ ! आज से मैं आपका पुत्र हुआ” . मुझ जैसा क्यों? मै ही क्यों नही.. स्वामी जी के शब्द सुनकर युवती भाव विभोर हो गयी .

दुनिया भर के युवाओं के हैं प्रेरणास्त्रोत

 “वसुधैव कुटुम्बकम” अर्थात पूरा विश्व हमारा परिवार है की भावनाओं के साथ मानव मात्र के कल्याण और सही मार्गदर्शक के रूप में स्वामी जी समूचे विश्व के लोगों के बीच आज भी प्रासंगिक हैं , विशेष कर युवाओं का स्वामी जी के प्रति प्रगाढ़ श्रद्दा और विश्वास को देख कर संयुक्त राष्ट्र ने सन 1985 में  स्वामी विवेकानंद के जन्म दिवस को युवा दिवस घोषित किया था. यह आज स्वामी जी की 154 वीं जयंती विश्व भर में युवा दिवस के रूप में मनाई जा रही है .स्वामी जी के विचार न केवल हिन्दू धर्म या भारत के लिए बल्कि पूरी दुनिया में वैश्विक विरासत के रूप में अनेकों शताब्दियों तक मौजूद रहेंगीं .


कुमारस्वामी ने साबित किया बहुमत

वाराणसी: निर्माणाधीन फ्लाईओवर के स्लैब गिरने हुआ बड़ा हादसा, अब तक 12 की मौत  


 VT PADTAL