VT Update
उज्जैन सांसद चिंतामणि ने किया दावा, लोकसभा चुनाव में भाजपा जीतेगी प्रदेश की 29 सीटें। मनोहर पर्रिकर के निधन के बाद शुरू हुई उलटफेर की राजनीति, कांग्रेस ठोक रही सरकार बनाने के दावा, कामत को नया सीएम बनाने की चर्चा तेज भिंड जिले के खड़ेरीपुर में मामूली विवाद में चली गोली, दो लोगों की मौत आधा दर्जन से अधिक लोग घायल। लोकसभा चुनाव को लेकर जारी उठा-पटक, दिग्गी ने स्वीकार किया सीएम नाथ का चैलेंजे, बोले- पार्टी जहां से बोले वहां से लडूंगा चुनाव। कार्रवाई का लेखाजोखा पेश न करने वाले प्रदेश के दस जिलों के थाने आयोग की रडार पर, लापरवाही बरतने पर थाना प्रभारियों पर गिर सकती है गाज
Sunday 14th of January 2018 | मकर संक्रांति के दिन से होती है बड़े दिनों की शुरुआत

14 जनवरी, आज के दिन देश भर में मनाया जा रहा संक्रांति का त्यौहार. लाखों लोग लगाऐंगे गंगासागर में डुबकी


मकर संक्रांति देश भर में हर जगह किसी न किसी रुप में मनाया जाता है. तमिलनाड़ू में पोंगल तो पंजाब और हरियाणा में लोहड़ी देश के हर प्रांत में अलग-अलग मान्याताओं के साथ इस दिन को त्यौहार कि रूप में मनाया जाता है. पौष मास में जिस दिन सूर्य मकर राशि पर प्रवेश करता उसी दिन को मकर संक्रांति के रूप में मनाते हैं. इसी दिन से ही सूर्य की उत्तरायण गति भी प्ररभ्भ होती है.

शास्त्रो के अनुसार दक्षिणायन को देवताओं की रात्रि अर्थात नकारात्मकता तथा दिन को उत्तरायण अर्थात सकारात्मकता का प्रतीक माना जाता है.

अपको बता दें इस दिन को लाखों श्रद्धालू गंगासागर के तट में स्नान करते हैं तथा स्नान के बाद गंगातट पर ही कुछ दान भी करते है हिन्दू धर्म की मान्यता के अनुसार मकर संक्रांति के दिन गंगासगर के स्नान को महास्नान कहा गया है. इसके अलावा दान देनें को भी अत्यंत शुभ माना गया है.

मान्यता के अनुसार मकर संक्रांति के पहले सूर्य दक्षिणी गोलार्ध में होता है जो भारत से अधिक दूर है. इसी कारण यहां पर रातें बड़ी तथा दिन छोटे होते हैं. लेकिन मकर संक्रांति के दिन से ही सूर्य का उत्तरी गोलार्ध में आना होता है जिसकारण से पुन; रातें छोटी और दिन बड़े होने लगते हैं


Realme 3 भारत में हुआ लॉन्च, Redmi Note 7 को दे सकता है टक्कर

Samsung Galaxy A50, Galaxy A30 और Galaxy A10 भारत में हुआ लॉन्च, जानिए क्या है खासियत


 VT PADTAL