VT Update
गोपाल भार्गव बने नेता मप्र.विधानसभा नेता प्रतिपक्ष जेपी सीमेंट ने नहीं चुकाया 5० करोड़ रूपए टैक्स, जुलाई के बाद नहीं जमा किया टैक्स लूट से बचने पहले व्यापारी और फिर बदमाश गाड़ी सहित गिरे नदी में,गुढ़ थाने के बिछिया नदी में हुआ हादसा विधानसभा में हारे उम्मीदवारों को कमलनाथ का सहारा, कमलनाथ ने कहा हताश न हो लोकसभा की तैयारी में लगें मप्र में कांग्रेस सरकार फिर खोलेगी व्यापम की फाइल,गृह मंत्री बाला बच्चन ने कहा घोटाले से जुड़े लोग बक्शे नही जायेंगे
Friday 16th of February 2018 | गरीबी का एक रूप ऐसा भी

आखिर क्यूँ इस मां को करना पड़ा अपने बेटे का देहदान


किसी ने सही कहा है की गरीबी अपने विकराल रूप में आती है और वह रूप कैसा भी हो सकता है, किसी भी स्तर का हो सकता है. गरीबी ऐसी की एक मां को अपने ही बेटे का देह दान करना पड़ा .क्या उस मां का दिल पसीजा नही होगा, जरुर पसीजा होगा लेकिन इस गरीबी ने कितनो को मारा है शायद हम और आप इसका अंदाजा भी नही लगा सकते है. बस्तर के बड़े आरापुर गांव के 21 साल के बामन अपने भाई-भाभी के साथ रहते थे और एक निजी ट्रैवल कंपनी में कंडक्टर का काम करते थे. सोमवार को एक अज्ञात वाहन ने उन्हें टक्कर मार दी, जिसके बाद उन्हें गंभीर स्थिति में बस्तर के ज़िला मुख्यालय जगदलपुर के सरकारी मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया था. जहां गुरुवार को उनकी मौत हो गई. परिजनों का कहना है कि मृतक के पिता की पहले ही मौत हो चुकी है. मां सुधरी बाई की हालत ये थी कि वह इस बात के लिए तैयार हो गईं कि बेटे का शव कहीं रास्ते में छोड़ दिया जाये क्योंकि उनके पास अंतिम संस्कार के भी पैसे नहीं थे.

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री ने अभी पिछले ही सप्ताह राज्य में प्रति व्यक्ति आय में भारी बढ़ोत्तरी की घोषणा करते हुये दावा किया था कि राज्य में औसत आय 92,035 रुपये सालाना हो गई है.अब इसे सिस्टम का फेलियर कहें या हकीकत में देश की स्थिति लेकिन जो भी हो इस घटना के बाद कई सवाल पढने वालों के मन में कौंध रहे होंगे .


खड़गे की पीएम मोदी को चिट्ठी, कहा- सार्वजनिक करें कागजात

निर्दलीय उम्मीदवार ने लिया समर्थन वापस, संकट में कुमारस्वामी सरकार


 VT PADTAL