VT Update
विन्ध्य में उद्योगों को लगेंगे पंख , मर्जी के मुताबिक उद्योगपतियों को मिलेगी जमीन , लैंड बैंक और लैंड पूल स्कीम से विन्ध्य में विकसित होगा उद्योग खोले गए लबालब बाणसागर के 10 गेट , रीवा, सतना, सीढ़ी, सिंगरौली, और शहडोल में अलर्ट घोषित आर्थिक मंदी के खिलाफ कांग्रेस मध्यप्रदेश समेत पुरे देश में छेड़ेगी आन्दोलन , दिल्ली में हुई पार्टी पदाधिकारियों की बैठक में सोनिया गाँधी ने दी जानकारी धुंधली होने लगी है विक्रम लैंडर से संपर्क की उम्मीद, लैंडर को नुक्सान पहुचने की आशंका बढ़ी यौन उत्पीड़न मामले में एसआईटी ने भाजपा नेता चिन्मयानंद से 7 घंटे की पूछताछ, चिन्मयानंद के आवास पर उनके बेडरूम की गई तलाशी
Wednesday 21st of February 2018 | मातृभाषा दिवस में आज : बघेली स्पेशल

कहाँ खड़ी हय आपन बघेली !


आधुनिकता और दिखावे के इस दौर में, सभ्यता, संस्कृति और संस्कार से वैश्विक होने के दौड़ में हिंदी और अपने क्षेत्र की सबसे प्यारी बोली बघेली का अस्तित्व कहाँ है?  देखिये एक छोटा विश्लेषण मातृभाषा दिवस में :

इतिहास

पूर्वी हिंदी की प्रमुख बोली है बघेली! जिसे बघेल वंश के राज्य से पहले ‘रिमाई’ और ‘रिमहाई’ के नाम से जाना जाता था , वह काल लगभग 8 वीं से 12वीं  शताब्दी का रहा होगा, 13वीं शताब्दी से लेकर अबतक इसे बघेली ही पुकारा जाता है, बघेल राजवंश के अधिपत्य के बाद क्षेत्र में बघेली खूब फली फूली और इसका प्रयोग क्षेत्र भी बढ़ा ,राजभाषा से जनभाषा तक यह बोली रिमाई से बघेली बनी ,

बघेली का प्रयोग करने वाला क्षेत्र

बघेली बोलने वाला क्षेत्र छोटा नही था, उत्तर में इलाहाबाद से लेकर दक्षिण में बिलासपुर तक , पूर्व में मिर्ज़ापुर से लेकर पश्चिम में जबलपुर तक इसके बोले जाने के साक्ष्य मिलते हैं. बघेली भाषा का केंन्द्र रीवा (रीमा ) रहा है ,  मुख्य रूप से बघेली पूर्वी मध्यप्रदेश के सात जिलों में बोली जाती है जिसमे रीवा , सतना , सीधी, शहडोल , उमरिया ,अनूपपुर, और सिंगरौली शामिल है, कुल मिला कर कहा जाये तो तत्कालीन विन्ध्य प्रदेश का क्षेत्र पूरी तरह से आम बोल चाल की भाषा में  बघेली का उपयोग करता है, बघेली बोलने वाले लोग आज देश के किसी भी हिस्से में अपनी विशिष्ट भाषा शैली के लिए भी प्रसिध्द हैं.

बघेली संस्कृति

वास्तव में देखा जाय तो बघेली केवल एक बोली नही है बल्कि मुक्कमल संस्कृति है , इसमें खान-पान रहन-सहन , पहनावा, संगीत , नृत्य , लोक सभ्यता और संस्कृति का अपना एक तरीका है जो हमें अन्य किसी भी बोली या भाषा से अलग करता है, खान पान की बात करें तो यहाँ व्यंजनों का अपना एक मेनू कार्ड है जो शायद कहीं और न मिले प्रमुख रूप से बरा, मुगौरा, रसाज ,बग्जा ,चउसेला , फुलउरी, रिकमज इसी तरह के अनेकों व्यंजनों का भंडार भरा है इसी तरह यहाँ का पहनावा विशेष आयोजनों के लिए अलग अलग है जो आधुनिकता के साथ समाप्त होने की कगार में है ,जैसे विवाह में वर के लिए यहाँ का पहनावा है जामा जोरा जिसका प्रयोग शायद ही कहीं देखने को मिलता है . यहाँ शादी- विवाह , सामाजिक व्यवहार , और त्योहारों को मनाने बड़ा ही निराला ढंग है

वर्त्तमान दौर में अस्तित्व

समय के साथ हर सभ्यता और संस्कृति मे बदलाव अवश्य होते है , बघेली भी इससे अछूता नही है मगर आज के सोशल मीडिया के दौर में भी बघेली के अस्तित्व का खतरा नज़र नही आता है बल्कि नए तरीके से इसमें बदलाव कर के लोगो द्वारा उपयोग किया जा रहा है, किसी बोली को जीवित रखने का सबसे पहला मापदंड होता है नई पीढ़ी की स्वीकारिता और रीवा क्षेत्र के लोगो की विशेषकर युवाओं को आज भी बघेली अपनी मिठास की ओर आकर्षित कर रही है, यही कारन है कि ठेठ बघेली छोड़ दिया जाए तो नए रूप वाली अंग्रेजी मिश्रित बघेली खूब देखने को मिल रही है ,

कुल मिला के देखा जाए तो आधुनिकता की अंधी दौड़ में बहुत सारे तौर तरीको ,रीति रिवाजों को भुलाया जा चुका है , शहरी क्षेत्रो में इनका अनुपात ज्यादा है, मगर अभी भी बहुत कुछ शेष है जिससे बघेली सभ्यता जीवित नज़र आती है,क्षेत्रीय साहित्कार ,कलाकार ,प्रबुद्ध लोग इसके संरक्षण में सतत प्रयासरत है, रीवा स्थित अवधेश प्रताप सिंह विश्वविध्यालय भी इस बोली और संस्कृति के संरक्षण के लिए एक नए विभाग भी स्थापना की है जहाँ से छात्र आज बघेली भाषा का ज्ञान प्राप्त कर रहे है और इसी विषय पर शोध भी किये जा रहे है जो विश्वविध्यालय का एक  सराहनीय पहल है


शिक्षा के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान, शत्रुघ्न सिंह को मिली उपाधि

मानवता हुई शर्मसार, युवती ने लागाया तीन साल से रेप किए जाने का आरोप


 VT PADTAL


 Rewa

रीवा के चोरहटा में बाइक सवार की हत्या, गड़ासे से काट कर उतारा मौत के घाट
Tuesday 17th of September 2019
खड्डा गांव के आदिवासी निवासियों ने कलेक्ट्रेट के सामने दिया धरना, कलेक्टर को संबोधित ज्ञापन संयुक्त कलेक्टर को सौंपा
Tuesday 17th of September 2019
बीएसएनएल के नॅान एग्जक्यूटिव कर्मचारी संगठनों को मान्यता देने डाले गए वोट, 18 सितम्बर को होगी गिनती
Tuesday 17th of September 2019
अवधेश प्रताप सिंह विश्वविद्यालय में आयोजित हुई कुशाभाऊ ठाकरे के स्मृति में व्याख्यानमाला, प्रदेश राज्यपाल लालजी टंडन ने किया संबोधित
Tuesday 17th of September 2019
शासकीय पूर्व माध्यमिक विद्यालय रीठी में सुविधा की कमी
Sunday 15th of September 2019
कानून व्यवस्था सुधारने में जुटा प्रशासन
Sunday 15th of September 2019