VT Update
केजरीवाल ने दिया शिवराज को प्रस्ताव शिक्षा में सुधार करना हो तो मनीष को भेज दूँ मध्यप्रदेश सीएम फेस की अटकलों पर शिवराज ने लगाया विराम, कहा कि मेरे ही नेतृत्व में बनेगी भाजपा की अगली सरकार वार्ड क्र 16 में मुख्यमार्ग से परेशान रहवासी, मार्ग का नहीं हो रहा निर्माण, 4 बार किया जा चुका है भूमिपूजन दिल्ली मैट्रो को सितम्बर से बिजली सप्लाई करेगा, बदबार का अल्ट्रामेगा सोलर पावर प्लांट गोविंदगढ़ थाना क्षेत्र के धोबखरी गांव में भाई की जान बचाने नहर में कूदी बहन, हुई मौत
ढेकहा गोलीकाण्ड मामले में दोषमुक्त हुए आरोपी

तीन साल पुराने मामले में प्रशासनिक अधिकारियों पर लगे आरोप, दोषमुक्त हुए आरोपी


रीवा । तीन साल पूर्व एक मामला बड़ा तूल पकड़ा हुआ था जिसपर ढेकहा निवसी राजललन सिंह की हत्या कर दी गई थी जिसमें मुख्य आरोपी रिटायर्ड फौजी तथा मृतक के भाई राजभान सिंह को जिला अदालत सें दोषमुक्त करार दिया गया है.

दरअसल तीन वर्ष पूर्व पुस्तैनी भवन को लेकर दो भाईयों के बीच विवाद शुरु हुआ था जिसको लेकर नगर निगम के कुछ अधिकारियों नें एक पक्ष की तरफ से जांच करते हुए उनके उस भवन को बिना जांच के किए ही भवन की हालत जर्जर दर्शा कर उसे गिराने के आदेश दे दिए तथा इसी मामले में उस भवन को नगर निगम के द्वारा गिरवा दिया गया. जिसके बाद 26 जुलाई 2014 को दोनों भाईयों के बीच विवाद हो गया जिसमं गोलियां भी चलीं रिटायर्ड फौजी के द्वारा जो गोलिया चलाई गईं थी उसमें उनके भाई राजललन सिंह की मौत हो गई तथा भतीजे को गंभीर चोंटें आई जिसके बाद पुलिस के द्वारा फौजी भाई राजभान सिंह के ऊपर मुकदमा दर्ज किया गया था.

लेकिन पुलिस के द्वारा दर्ज किए गए मुकदमें पर एक नया मोड़ सामने आया जिसमें आरोपी रिटायर्ड फौजी को अदालत ने दोषमुक्त करार दे दिया है और उसी मामले में शामिल कुछ प्रशासनिक अधिकारियों को अदालत ने दोषी करार दिया है

अदालत के द्वारा प्रशासनिक अधिकारियों को इसलिए दोषी बनाया गया है क्योंकि उन अधिकारियों ने निष्पक्षता से जांच ना करते हुए एक पक्ष का साथ दिया था जिसके कारण यह मामला इतने तूल में आया था जिसमें नगर निगम के तत्कालीन प्रभारी आयुक्त शैलेंद्र शुक्ला, सहायक यंत्री आनंद सिंह तथा पुलिस विभाग से तत्कालीन सीएसपी आशुतोष पाण्डेय के नाम शामिल हैं


अपराधियों के मन से खत्म हुआ पुलिस का खौफ, मोबाइल दुकान में बदमाशों ने की तोड़

घनी बस्ती में बसे गैस एजेंसियों के गोदाम, भय के साये में जनजीवन


 VT PADTAL