VT Update
अपने बयान पर अड़े कांग्रेस विधायक सुंदरलाल तिवारी, बोले फिर से कहता हूँ वैश्याऐं शिवराज से हैं बेहतर जिले के जनेह थाने में पुलिस अभिरक्षा पर हुई युवक की मौत में अब तक बरकरार तनाव की स्थिति, एहतियात के तौर पर तैनात पुलिस बल, थाना प्रभारी हुए लाइन अटैच रीवा में कांग्रेस प्रभारी बावरिया से हुई झूमाझटकी में दो और कार्यकर्तओं पर कार्यवाई, अब तक सात कार्यकर्ता पार्टी से निष्काषित, तीन को जारी हुई नेटिस मध्यप्रदेश के रायसेन जिले में एकबार फिर शर्मशार हुई इंसानियत, 6 साल की मासूम क साथ दुष्कर्म कर गला घोट जंगल में फेंका पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी की अंतिम विदाई में उमड़ा जनसैलाब, बेटी नमिता ने दी मुखाग्नि, जनता की नम आखों से विदा हुए अटल
भारत में पहले से बढ़ा भ्रष्टाचार,जाने किस नंबर में है?

भारत में और बढ़ा भ्रष्टाचार, वर्ल्ड रैंकिंग में 81 स्थान पर


भारत में २०१४ का आम चुनाव का मुख्य मुद्दा ही भ्रष्टाचार था, और इसी मुद्दे की वजह से कांग्रेस को सत्ता से बाहर का रास्ता दिखाया गया, और सरकार बनी नरेन्द्र मोदी की अगुआई वाली NDAकी.जब की लोगो को ये भरोसा दिलाया गया की अब भ्रष्टाचार पर लगाम लगाईं जाएगी.मगर ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल की ताजा रिपोर्ट के अनुसार में स्थिति अगल हिनाज़र आ रही है, इस रिपोर्ट के अनुसार भ्रष्टाचार में देश की स्थिति में सुधरने की बजाय और बदतर हुई है,

गैर सरकारी अंतर्राष्ट्रीय एजेंसी की रिपोर्ट में भारत भ्रष्टाचार के मामले में 2016 की तुलना में 2017 में दो स्थान और फिसल चुका है। पहले भारत का स्थान 183 देशों में 79 था, अब 81 है। आपको बता दें कि जो सबसे कम भ्रष्ट देश आंका जाता है, उसका स्थान पहला होता है और जैसे-जैसे जिस देश में भ्रष्टाचार ज्यादा होता है, इस लिस्ट में उसका नंबर तय किया जाता है, यानी जो सबसे ज्यादा भ्रष्ट होता है, उसका नंबर सबसे बाद में आता है।

अगर अंकों की बात करे तो इस बार भी भारत को 40 अंक मिले हैं जो साल 2016 के ही बराबर है , मगर रैंकिंग गिरी है इस साल सबसे कम भ्रष्ट देश न्यूज़ीलैंड को माना गया है, जिसे 89 अंक मिले हैं। इस करप्शन इंडेक्स का मकसद भ्रष्टाचार के खिलाफ सरकारों को एक सशक्त संदेश देना है। इसी उद्देश्य से 1995 में इस सूचकांक की शुरुआत की गई थी,


“ताजमहल” के रखरखाव को लेकर केंद्र और राज्य को फटकार  

टीचर का हुआ ट्रान्सफर तो लिपट कर रोये बच्चे


 VT PADTAL