VT Update
रीवा: संजय गांधी अस्पताल में शव के पोस्टमार्टम के लिए परिजनों से की जा रही पैसे की मांग नीति आयोग की बैठक शुरु, सीएम शिवराज समेत सभी प्रदेशों के पहुंचे मुखिया रीवा : चोरहटा थानांतर्गत बनकुइंया रोड़ में हुआ बड़ा हादसा, लोड़िग वाहन और स्कूटी की टक्कर में पांच लोग घायल, घायलों को उपचार के लिए शहर के संजय गांधी अस्पताल में किया गया भर्ती विश्वबैंक ने रीवा सहित कई इंजीनियरिंग महाविद्यालयों को एक विशेष योजना में किया शामिल, वर्षों के बाद रीवा शासकीय इंजीनियरिंग महाविद्यालय में हो सकती है प्राध्यापकों की नियुक्ति, रीवा सहित प्रदेशभर में हर्षोल्लास के साथ मनाया गया ईद का त्यौहार, सभी जनप्रतिनिधियों ने दी मुश्लिम भाईयों को ईद की शुभकामनाऐं
भारत में पहले से बढ़ा भ्रष्टाचार,जाने किस नंबर में है?

भारत में और बढ़ा भ्रष्टाचार, वर्ल्ड रैंकिंग में 81 स्थान पर


भारत में २०१४ का आम चुनाव का मुख्य मुद्दा ही भ्रष्टाचार था, और इसी मुद्दे की वजह से कांग्रेस को सत्ता से बाहर का रास्ता दिखाया गया, और सरकार बनी नरेन्द्र मोदी की अगुआई वाली NDAकी.जब की लोगो को ये भरोसा दिलाया गया की अब भ्रष्टाचार पर लगाम लगाईं जाएगी.मगर ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल की ताजा रिपोर्ट के अनुसार में स्थिति अगल हिनाज़र आ रही है, इस रिपोर्ट के अनुसार भ्रष्टाचार में देश की स्थिति में सुधरने की बजाय और बदतर हुई है,

गैर सरकारी अंतर्राष्ट्रीय एजेंसी की रिपोर्ट में भारत भ्रष्टाचार के मामले में 2016 की तुलना में 2017 में दो स्थान और फिसल चुका है। पहले भारत का स्थान 183 देशों में 79 था, अब 81 है। आपको बता दें कि जो सबसे कम भ्रष्ट देश आंका जाता है, उसका स्थान पहला होता है और जैसे-जैसे जिस देश में भ्रष्टाचार ज्यादा होता है, इस लिस्ट में उसका नंबर तय किया जाता है, यानी जो सबसे ज्यादा भ्रष्ट होता है, उसका नंबर सबसे बाद में आता है।

अगर अंकों की बात करे तो इस बार भी भारत को 40 अंक मिले हैं जो साल 2016 के ही बराबर है , मगर रैंकिंग गिरी है इस साल सबसे कम भ्रष्ट देश न्यूज़ीलैंड को माना गया है, जिसे 89 अंक मिले हैं। इस करप्शन इंडेक्स का मकसद भ्रष्टाचार के खिलाफ सरकारों को एक सशक्त संदेश देना है। इसी उद्देश्य से 1995 में इस सूचकांक की शुरुआत की गई थी,


कर्नाटक में सरकार बनाने की जोड़तोड़

कर्नाटक चुनाव में 21 रैलियों को संबोधित करेगें पीएम मोदी


 VT PADTAL