VT Update
गोपाल भार्गव बने नेता मप्र.विधानसभा नेता प्रतिपक्ष जेपी सीमेंट ने नहीं चुकाया 5० करोड़ रूपए टैक्स, जुलाई के बाद नहीं जमा किया टैक्स लूट से बचने पहले व्यापारी और फिर बदमाश गाड़ी सहित गिरे नदी में,गुढ़ थाने के बिछिया नदी में हुआ हादसा विधानसभा में हारे उम्मीदवारों को कमलनाथ का सहारा, कमलनाथ ने कहा हताश न हो लोकसभा की तैयारी में लगें मप्र में कांग्रेस सरकार फिर खोलेगी व्यापम की फाइल,गृह मंत्री बाला बच्चन ने कहा घोटाले से जुड़े लोग बक्शे नही जायेंगे
Friday 23rd of February 2018 | भारत में पहले से बढ़ा भ्रष्टाचार,जाने किस नंबर में है?

भारत में और बढ़ा भ्रष्टाचार, वर्ल्ड रैंकिंग में 81 स्थान पर


भारत में २०१४ का आम चुनाव का मुख्य मुद्दा ही भ्रष्टाचार था, और इसी मुद्दे की वजह से कांग्रेस को सत्ता से बाहर का रास्ता दिखाया गया, और सरकार बनी नरेन्द्र मोदी की अगुआई वाली NDAकी.जब की लोगो को ये भरोसा दिलाया गया की अब भ्रष्टाचार पर लगाम लगाईं जाएगी.मगर ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल की ताजा रिपोर्ट के अनुसार में स्थिति अगल हिनाज़र आ रही है, इस रिपोर्ट के अनुसार भ्रष्टाचार में देश की स्थिति में सुधरने की बजाय और बदतर हुई है,

गैर सरकारी अंतर्राष्ट्रीय एजेंसी की रिपोर्ट में भारत भ्रष्टाचार के मामले में 2016 की तुलना में 2017 में दो स्थान और फिसल चुका है। पहले भारत का स्थान 183 देशों में 79 था, अब 81 है। आपको बता दें कि जो सबसे कम भ्रष्ट देश आंका जाता है, उसका स्थान पहला होता है और जैसे-जैसे जिस देश में भ्रष्टाचार ज्यादा होता है, इस लिस्ट में उसका नंबर तय किया जाता है, यानी जो सबसे ज्यादा भ्रष्ट होता है, उसका नंबर सबसे बाद में आता है।

अगर अंकों की बात करे तो इस बार भी भारत को 40 अंक मिले हैं जो साल 2016 के ही बराबर है , मगर रैंकिंग गिरी है इस साल सबसे कम भ्रष्ट देश न्यूज़ीलैंड को माना गया है, जिसे 89 अंक मिले हैं। इस करप्शन इंडेक्स का मकसद भ्रष्टाचार के खिलाफ सरकारों को एक सशक्त संदेश देना है। इसी उद्देश्य से 1995 में इस सूचकांक की शुरुआत की गई थी,


खड़गे की पीएम मोदी को चिट्ठी, कहा- सार्वजनिक करें कागजात

निर्दलीय उम्मीदवार ने लिया समर्थन वापस, संकट में कुमारस्वामी सरकार


 VT PADTAL