VT Update
पूर्व प्राचार्य पर दर्ज F.I.R रद्द करने की उठी मांग, प्राध्यापको ने की बैठक ब्रम्हण समाज ने सौपा एस.पी को ज्ञापन R.P.F के D.I.G विजय कुमार खातरकर रेलवे ने रेलवे अफसर की पत्नी के साथ की छेड़छाड़, नरसिंहपुर के पास ओवरनाइट एक्सप्रेस मे वारदात,F.I.R दर्ज इंदौर का देवी अहिल्याबाई होल्कर एयरपोर्ट अब बन गया अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट, सोमवार को पहली बार इंदौर से दुबई के लिए अंतरराष्ट्रीय फ्लाइट ने भरी उड़ान राहुल के इस्तीफे के 50 दिन बाद भी अब तक किसी को नहीं चुना गया कांग्रेस अध्यक्ष , कर्नाटक विवाद सुलझने के बाद फैसले की उम्मीद भारतीय नौसेना की बढ़ाई जा रही ताकत, जल्द खरीदी जा सकती हैं 100 टारपीडो मिसाइल, 2000 करोड़ का टेंडर जारी
Tuesday 27th of February 2018 | अगले सत्र में शामिल हो सकते हैं नए शिक्षक

प्रदेश सरकार ने अतिथि शिक्षकों को दिखाया बाहर का रास्ता, नए सत्र में शामिल हो सकते हैं नए शिक्षक


शिक्षाकर्मी और पचायत सचिवों के नियमितिकरण के बाद तो हर कोई यह मानने लगा था कि चुनावी साल में सरकार के द्वारा उपहारों की भरमार लगने वाली है और शायद इसीलिए बिगत दो दिनों से अतिथि शिक्षक भी अपनी मांगों को लेकर राजधानी के अम्बेडकर मैदान पर धरने पर बैठे हुए थे लेकिन अचानक ही सरकार ने उनकी मांगों पर पानी फेर दिया.

दरअसल शिवराज सरकार के द्वारा अब अतिथि शिक्षकों को बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है. स्कूल शिक्षा विभाग ने अपने जारी आदेश में कहा है कि नया शिक्षण सत्र 1 अप्रैल से प्रारंभ होने वाला है परंतु पुराने अतिथि शिक्षकों को रखने की अवधि 28 फरवरी तक ही नियत की गई है ऐसे में 1 मार्च से अब उन पुराने अतिथि शिक्षको की ड्यूटी समाप्त कर दी गई है जो पिछले सत्र में थे.

आपको बतादें हर बार अतिथि शिक्षकों को पढ़ाने के लिए नए सिरे से रखा जाता है तो इसलिए इसमें यह बाध्यता नहीं है कि पुराने अतिथि शिक्षकों को आगे भी रखा जायेगा.हालाकि स्कूल शिक्षा विभाग ने निर्देशित करते हुए कहा है कि हमेशा अतिथि शिक्षकों को शैक्षणिक सत्रों के लिए रखा जाता है तो इसबार भी उन्हे रखा जायेगा जो कि अगला सत्र 1 अप्रैल से प्रारंभ होगा. ऐसे में सवाल यह उठता है कि अतिथि शिक्षक अब क्या करेंगे


सड़क पर मिला पुलिस कर्मी का शव

मध्यप्रदेश में भाजपा नेता के बयान से बढ़ी सियासी सरगर्मियां  


 VT PADTAL