VT Update
केजरीवाल ने दिया शिवराज को प्रस्ताव शिक्षा में सुधार करना हो तो मनीष को भेज दूँ मध्यप्रदेश सीएम फेस की अटकलों पर शिवराज ने लगाया विराम, कहा कि मेरे ही नेतृत्व में बनेगी भाजपा की अगली सरकार वार्ड क्र 16 में मुख्यमार्ग से परेशान रहवासी, मार्ग का नहीं हो रहा निर्माण, 4 बार किया जा चुका है भूमिपूजन दिल्ली मैट्रो को सितम्बर से बिजली सप्लाई करेगा, बदबार का अल्ट्रामेगा सोलर पावर प्लांट गोविंदगढ़ थाना क्षेत्र के धोबखरी गांव में भाई की जान बचाने नहर में कूदी बहन, हुई मौत
बजट 2018/ “झूर पैलगी जिउ झक्क”

बजट में कहाँ खड़ा है, मंत्री जी का महानगर रीवा ?


रीवा . कल मध्यप्रदेश सरकार का इस वित्तीय वर्ष 2018 का बजट वित्त मंत्री जयंत मलैया द्वारा पेश किया गया , बड़े वादे और दावे भी किये गए कृषि, स्वास्थ्य, और अधोसंरचना पर जोर दिया गया, प्रदेश के सभी प्रभावशाली क्षेत्रो का ध्यान रखा गया मगर इन सब के बीच एक सवाल विन्ध्य की जनता का है ... अपने स्थानीय मंत्री राजेंद्र शुक्ल जी और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह जी से ...

सवाल यह की विन्ध्य और रीवा को क्या मिला? प्रदेश के चारों महानगरों को और बेहतर करने ,अधोसंरचना के दूरगामी प्लान के अनुसार बनाने के लिए अच्छा खासा बजट दिया गया , भोपाल और इंदौर के लिए मेट्रो ट्रेन चलाने के लिए बजट दिया गया , वहीँ जबलपुर में राज्य कैंसर सेंटर बनाने का निर्णय लिया गया है जिसकी एक यूनिट ग्वालियर मे भी खुलेगी, भोपाल से इंदौर सिक्स लेन एक्सप्रेस वे के लिए 5000 करोड़ रूपए , जबलपुर,ग्वालियर, सागर ,ओरछा में भारत माला योजना से बायपास का निर्माण . मगर मंत्री जी के सपनों का शहर महानगर रीवा खाली हाथ रहा, आशा भरी निगाहों से विधानसभा की ओर देखता रहा.

प्रदेश के मुख्यमंत्री जब-जब रीवा आये खूब बोले ..जी भर के क्षेत्र के विकास की बात की, मगर बजट में वो बातें कहीं नही दिखीं,शायद मुख्यमंत्री जी को काम के और आने वाले चुनावों दवाब में कुछ याद नही रहता ......ठीक है! टेंशन में ये सब को होता है, वो भी तब जब आप के साथ कुछ भी ठीक न हो रहा हो आप उपचुनाव लगातार हार रहे हों . मगर विन्ध्य और रीवा की जनता को सब कुछ याद है की आपने रीवा में सब के सामने क्या कहा था -

“रीवा के विकास में कोई कसर नही छोड़ी जाएगी, और अगर 1 रुपया इंदौर और भोपाल को दिया जायेगा तो 1 रुपया रीवा को भी दिया जाएगा”   

शिवराज सिंह चौहान, मुख्यमंत्री मप्र.(मामा)

और हमने जी भर के तालियां ठोंकी थी, खूब हो हल्ला मचाया था,...शिवराज जिंदाबाद के नारे लगाये थे, और आज रीवा की जनता ठगा सा महसूस कर रही है ...सच तो यह है पूर्वी मध्यप्रदेश के विन्ध्य क्षेत्र पर इस बार भी माननीयों की नज़र नही गयी, विकास की गंगा का की एक बूँद नही पड़ी .बघेली भाषा में एक कहावत है ‘ “झूर पैलगी जिउ झक्क” कुछ ऐसा की आज रीवा महसूस कर रहा है.

 


SC / ST एक्ट के खिलाफ आज भारत बंद, कई राज्यों में उग्र प्रदर्शन

विन्ध्य महोत्सव की तैयारियां शुरु, कई राष्ट्रीय कलाकार करेंगे शिरकत


 VT PADTAL