VT Update
केजरीवाल ने दिया शिवराज को प्रस्ताव शिक्षा में सुधार करना हो तो मनीष को भेज दूँ मध्यप्रदेश सीएम फेस की अटकलों पर शिवराज ने लगाया विराम, कहा कि मेरे ही नेतृत्व में बनेगी भाजपा की अगली सरकार वार्ड क्र 16 में मुख्यमार्ग से परेशान रहवासी, मार्ग का नहीं हो रहा निर्माण, 4 बार किया जा चुका है भूमिपूजन दिल्ली मैट्रो को सितम्बर से बिजली सप्लाई करेगा, बदबार का अल्ट्रामेगा सोलर पावर प्लांट गोविंदगढ़ थाना क्षेत्र के धोबखरी गांव में भाई की जान बचाने नहर में कूदी बहन, हुई मौत
समुदाय विशेष बनीं राजनीतिक पार्टियां

कांग्रेस, बीजेपी बन गई एक समुदायों की पार्टी कहां से होगा विकास ?


हिंदुत्व के मुद्दों से उभरी भारतीय जनता पार्टी के ऊपर पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने आरोप लगाते हुए कहा है कि कांग्रेस पार्टी पर बीजेपी ने जबरन मुस्लिम पार्टी होने का तमगा लगा दिया है जबकि कांग्रेस पार्टी के नेता भी मंदिर जाते हैं और मैं भी मंदिर जाती हूं. हालाकि बात तो बिलकुल सही कह रहीं हैं सोनिया गांधी जी. लेकिन फिर भी यह समझ नहीं आया कि अगर बीजेपी ने कांग्रेस पार्टी पर मुश्लिम पार्टी का तमगा लगया तो क्यूं.

आपको बतादें जिस प्रकार बीजेपी में मुस्लिम समुदाय के कुछ लोग काम करते हैं उसी प्रकार कांग्रेस पार्टी में भी तो हिंदू कार्यकर्ता काम करते हैं चलिए कोई बात नहीं लेकिन भारतीय जनता पार्टी अगर खुद को हिदुत्व की पार्टी मानती है तो फिर जिन मुद्दों को लेकर उसने सरकार बनाई थी क्या उन मुद्दों पर अभी तक कोई काम हुआ है. क्या क्या अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण हुआ या फिर होने वाला हैं, या फिर क्या आज देश में गाय नहीं काटी जा रही हैं.

दरअसल अब शायद भाजपा भी अपने हिंदुत्व के मुद्दे से भटक गई हैं और जो राष्ट्रहित की बात पहले कांग्रेस कर रही थी उसी को अब बीजेपी ने भी दोहराना शुरु कर दिया है मतलब साफ है जो भी सत्ता में रहेगा वह हिंदुत्व के मुद्दे पर कोई बात नहीं करेगा वह सिर्फ देश के विकास की बात ही करेगा करना भी चाहिए क्योकि हिंदुत्व बिना तो चला जा सकता है लेकिन बिना विकास के देश में रहना संभव नहीं है तो फिर अब सवाल यह उठता है कि कांग्रेस और भाजपा दोनों ही पार्टीयों पर ये जो समुदायों के टैग लगे हैं तो क्या इन समुदायों के हित के लिए इन दोनों ही पार्टीयों ने कुछ किया या फिर बस यह वोटबैंक की राजनीति है कि समुदायों के नाम से वोट मांगों फिर जीतने के बाद भूल जाओं     


रामदेव की टिप्पणी से आहत हुई उमा, पत्र लिख जताई नाराजगी

कमलनाथ की पहली लिस्ट पर ही खड़े हुए सवाल


 VT PADTAL