VT Update
16 नवम्बर को शहडोल में होंगे नरेंद्र मोदी और राहुल गांधी कांग्रेस विधायक सुन्दरलाल तिवारी ने आरएसएस को कहा आतंकी संगठन,कांग्रेस का बयान से किनारा रीवा में भाजपा प्रत्याशी राजेंद्र शुक्ल ने कांग्रेस प्रत्याशी अभय मिश्र को दिया कानूनी नोटिस। 50 करोड़ का कर सकते हैं दावा। आबकारी उड़नदस्ता टीम ने की बड़ी कार्यवाही, नईगढ़ी व पहाड़ी गाँव में कच्ची शराब भट्टी में मारी रेड, 200 लीटर कच्ची शराब के साथ पांच आरोपी गिरफ्तार विधानसभा चुनाव के मद्देनज़र एस एस टी टीम की कार्यवाही जारी, चेकिंग के दौरान चार पहिया सवार के कब्जे से बरामद हुए 2लाख 19 हज़ार रुपये, निर्वाचन कार्यालय भेजा गया मामला
Saturday 10th of March 2018 | सीधी को साधने बीजेपी ने चली नई चाल

अजय सिंह राहुल को मिल सकती है टक्कर !


 

चुनावी साल आते ही बीजेपी और कांग्रेस ने एक दुसरे के बड़े नेताओं के गढ़ को भेदने के लिए राजनैतिक बिसात बिछाना शुरू कर दिया है , इसी कड़ी में कांग्रेस के दिग्गज नेता और नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह राहुल के गढ़ में बीजेपी ने अपनी एक और गोटी चल दी है, दरअसल पार्टी ने सीधी के चुरहट विधानसभा क्षेत्र के पूर्व बीजेपी प्रत्याशी अजय प्रताप सिंह को राज्यसभा में भेजे जाने का विचार कर लिया है, जिसके माध्यम से सीधी की जनता को एक मजबूत नेता दिया जा सके ,जो अजय सिंह जैसी बड़ी शख्सियत का सामना कर, पार्टी को लाभ दिला सके .

आपको बता दें की पूर्व में भी सीधी के बीजेपी नेता सुभाष सिंह को विन्ध्य विकास प्राधिकरण का अध्यक्ष नियुक्त कर राज्य मंत्री का दर्जा दिया जा चुका है. वहीं बीजेपी के 2012 विधानसभा चुनाव के पूर्व प्रत्याशी शारदेन्दु तिवारी को भी पार्टी का प्रदेश महामंत्री बनाया गया है. चुरहट विधानसभा हमेशा ही कांग्रेस पार्टी का गढ़ रहा है और वहां से अजय सिंह राहुल को हराना किसी भी पार्टी के लिए टेढ़ी खीर साबित होगा, इस स्थिति में बीजेपी के द्वारा राहुल को टक्कर देने के लिए चुरहट में पार्टी नेतृत्व को मजबूत करने की कोशिश की जा रही है.

बतादें भारतीय जनता पार्टी के अजय प्रताप सिंह और कांग्रेस के अजय सिंह ‘राहुल’ 2008 के विधानसभा चुनाव में चुरहट विधानसभा सीट से आमने-सामने रहे हैं. हालाकि अजय प्रताप यहां से राहुल के खिलाफ लगभग 20 हजार वोटों से हारे थे. लेकिन फिर भी कहीं न कहीं राज्यसभा में पहुंचनें के बाद पार्टी और जिले में उनका कद बढ़ेगा जिससे आने वाले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के लिए बड़ी मश्किलें खड़ी हो सकती हैं. अब आने वाले चुनाव में अजय प्रताप चुनाव लड़े या ना लड़ें लेकिन राज्यसभा में उनके जाने से वोटों का समीकरण कुछ हद तक बीजेपी के पक्ष में जायेगा जिससे राहुल को कड़ी टक्कर दी जा सकती है.


पचास हजार रुपये का इनामी डकैत पंजाबी बाबा हुआ गिरफ्तार, बाबली कोल गिरोह में

दर्शनार्थियों के साथ हुई लूट, जवाबदारी के बावजूद पार्किंग ठेकेदार ने की अभद


 VT PADTAL