VT Update
विंध्य के सबसे बड़े अस्पताल संजय गांधी की सुरक्षा व्यवस्था पर उठे सवाल, अस्पताल के पार्किंग से चोरी हुई बोलेरो वाहन रीवा मेडिकल कॉलेज में लगेगा रूफटाफ का प्रदेश का सबसे बड़ा सोलर प्रोजेक्ट मतदाता जागरूकता के लिए रवाना हुई बुलेट रैली, कलेक्टर प्रीति मैथिल ने दिखाई हरी झंडी मध्यप्रदेश के शिवपुरी जिले में घटिया पुल निर्माण पर गिरी गाज, पीडब्लयूडी के चार अफसर सस्पेंड रीवा सहित प्रदेश भर में हर्षोल्लास के साथ मनायी गई कृष्ण जन्माष्टमी, शिल्पी प्लाजा में हुआ मटकी फोड़ने का भव्य आयोजन
Saturday 10th of March 2018 | सीधी को साधने बीजेपी ने चली नई चाल

अजय सिंह राहुल को मिल सकती है टक्कर !


 

चुनावी साल आते ही बीजेपी और कांग्रेस ने एक दुसरे के बड़े नेताओं के गढ़ को भेदने के लिए राजनैतिक बिसात बिछाना शुरू कर दिया है , इसी कड़ी में कांग्रेस के दिग्गज नेता और नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह राहुल के गढ़ में बीजेपी ने अपनी एक और गोटी चल दी है, दरअसल पार्टी ने सीधी के चुरहट विधानसभा क्षेत्र के पूर्व बीजेपी प्रत्याशी अजय प्रताप सिंह को राज्यसभा में भेजे जाने का विचार कर लिया है, जिसके माध्यम से सीधी की जनता को एक मजबूत नेता दिया जा सके ,जो अजय सिंह जैसी बड़ी शख्सियत का सामना कर, पार्टी को लाभ दिला सके .

आपको बता दें की पूर्व में भी सीधी के बीजेपी नेता सुभाष सिंह को विन्ध्य विकास प्राधिकरण का अध्यक्ष नियुक्त कर राज्य मंत्री का दर्जा दिया जा चुका है. वहीं बीजेपी के 2012 विधानसभा चुनाव के पूर्व प्रत्याशी शारदेन्दु तिवारी को भी पार्टी का प्रदेश महामंत्री बनाया गया है. चुरहट विधानसभा हमेशा ही कांग्रेस पार्टी का गढ़ रहा है और वहां से अजय सिंह राहुल को हराना किसी भी पार्टी के लिए टेढ़ी खीर साबित होगा, इस स्थिति में बीजेपी के द्वारा राहुल को टक्कर देने के लिए चुरहट में पार्टी नेतृत्व को मजबूत करने की कोशिश की जा रही है.

बतादें भारतीय जनता पार्टी के अजय प्रताप सिंह और कांग्रेस के अजय सिंह ‘राहुल’ 2008 के विधानसभा चुनाव में चुरहट विधानसभा सीट से आमने-सामने रहे हैं. हालाकि अजय प्रताप यहां से राहुल के खिलाफ लगभग 20 हजार वोटों से हारे थे. लेकिन फिर भी कहीं न कहीं राज्यसभा में पहुंचनें के बाद पार्टी और जिले में उनका कद बढ़ेगा जिससे आने वाले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के लिए बड़ी मश्किलें खड़ी हो सकती हैं. अब आने वाले चुनाव में अजय प्रताप चुनाव लड़े या ना लड़ें लेकिन राज्यसभा में उनके जाने से वोटों का समीकरण कुछ हद तक बीजेपी के पक्ष में जायेगा जिससे राहुल को कड़ी टक्कर दी जा सकती है.


दर्शनार्थियों के साथ हुई लूट, जवाबदारी के बावजूद पार्किंग ठेकेदार ने की अभद

मैहर की सभा में राजेंद्र सिंह ने कमलनाथ को बताया भावी मुख्यमंत्री


 VT PADTAL