VT Update
केजरीवाल ने दिया शिवराज को प्रस्ताव शिक्षा में सुधार करना हो तो मनीष को भेज दूँ मध्यप्रदेश सीएम फेस की अटकलों पर शिवराज ने लगाया विराम, कहा कि मेरे ही नेतृत्व में बनेगी भाजपा की अगली सरकार वार्ड क्र 16 में मुख्यमार्ग से परेशान रहवासी, मार्ग का नहीं हो रहा निर्माण, 4 बार किया जा चुका है भूमिपूजन दिल्ली मैट्रो को सितम्बर से बिजली सप्लाई करेगा, बदबार का अल्ट्रामेगा सोलर पावर प्लांट गोविंदगढ़ थाना क्षेत्र के धोबखरी गांव में भाई की जान बचाने नहर में कूदी बहन, हुई मौत
सीएम कर रहे वाहवाही, मंत्री ने खोली पोल

भावान्तर के भंवर में फंसे सीएम, मंत्री बिसेन ने खोला पोल


मध्यप्रदेश सरकार के द्वारा किसानों के हित में चलाई गई भावान्तर भुगतान योजना का आज हर जगह विरोध हो रहा है यहां तक कि कुछ किसान संगठन इस योजना को फ्राड योजना भी बता रहे हैं जिसके बाद अब सरकार ने खुद ही यह मान लिया है कि इस योजना के आने से किसानों को भारी नुकसान उठाना पड़ा है.

दरअसल मंदसौर में हुए किसान आंदोलन के बाद प्रदेश सरकार ने फैसला किया था कि एक ऐसी योजना लाई जाये जिससे किसानों की उपज अगर कम दाम पर बिके फिर भी उन्हे नुकसान ना उठाना पड़ा जिसके बाद आनन फानन में भावान्तर भुगतान योजना का शुभारंभ किया गया लेकिन शुरुआत से ही भावान्तर के भंवर में सरकार और किसान फंसे रहे जिसमें कई घोटालों के साथ सरकार की कमियां भी सामने आई.लेकिन फिर भी प्रदेश के मुखिया ने लगातार भावांतर के गुणगान गाए.हालाकि विपक्ष ने भी भावान्तर को लेकर सरकार पर काफी निशाना साधा और इस योजना को किसान विरोधी तथा व्यापारियों के लिए फायदेमंद बताया है.

आपको बतादें अब राज्य के कृषि मंत्री गौरीशंकर बिसेन ने भी यह मान लिया है कि भावान्तर से किसानों को नुकसान हो रहा है तथा जिन किसानों की फसल माडल रेट से कम दाम पर बिकी उन किसानों को ज्यादा नुकसान झेलना पड़ा है. मंत्री के अनुसार  न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीदी से किसानों को फायदा होगा  


कुलपति बनने के जुगाड़ समाप्त, शैक्षणिक अनुभव वाले की बन सकेंगे कुलपति !

बीजेपी ने की लोकसभा की तैयारी, प्रदेश के 14 सांसदों के कट सकते हैं टिकट


 VT PADTAL