VT Update
विंध्य के सबसे बड़े अस्पताल संजय गांधी की सुरक्षा व्यवस्था पर उठे सवाल, अस्पताल के पार्किंग से चोरी हुई बोलेरो वाहन रीवा मेडिकल कॉलेज में लगेगा रूफटाफ का प्रदेश का सबसे बड़ा सोलर प्रोजेक्ट मतदाता जागरूकता के लिए रवाना हुई बुलेट रैली, कलेक्टर प्रीति मैथिल ने दिखाई हरी झंडी मध्यप्रदेश के शिवपुरी जिले में घटिया पुल निर्माण पर गिरी गाज, पीडब्लयूडी के चार अफसर सस्पेंड रीवा सहित प्रदेश भर में हर्षोल्लास के साथ मनायी गई कृष्ण जन्माष्टमी, शिल्पी प्लाजा में हुआ मटकी फोड़ने का भव्य आयोजन
Saturday 31st of March 2018 | रेलवे को मिली त्रिनेत्र टेक्नोलजी

रीवा के वैज्ञानिक ने रेलवे को दी त्रिनेत्र तकनीक, राष्ट्रपति ने किया सम्मानित


रीवा । शहर के शासकीय इंजीनियरिंग महाविद्यालय के पुराने छात्र तथा वैज्ञानिक प्रो. आर के साकेत ने अब रेलवे को एक ऐसी तकनीक दी है जिससे कोहरे में भी रेल चलाई जा सकेगी और इस तकनीक को बनाने के लिए राष्ट्रपति ने उन्हे युवा वैज्ञानिक पुरस्कार से सम्मानित किया है जिसके बाद विंध्य में हर्ष का माहौल है क्योंकि इससे पहले कभी भी किसी युवा वैज्ञानिक को यह पुरस्कार नहीं दिया गया है.

दरअसल आमतौर देखा यह जाता है कि सर्दी के दिनों में कोहरा व धुंध की वजह से रेल यातायात खासा प्रभावित होता है जिसमें लंबी दूरी तय करने वाली ट्रेने अपने निर्धरित समय से लेट पहुंचती है जिसके कारण लोगों को काफी तकलीफ का सामना करना पड़ता है लेकिन अब ऐसा नहीं होगा क्योंकी रीवा के इंजीनियर ने रेलवे विभाग को त्रिनेत्र टेक्नोलाजी दे दी है जिससे अब कोहरे में भी ट्रेन आसानी से चलाई जा सकेगी.

क्या है त्रिनेत्र टेक्नोलाजी  

आपको बतादें त्रिनेत्र वह टेक्नोलाजी है जिससे घने कोहरे तथा धुंध के बावजूद ट्रेन का लोकोपायलट दो किलोमीटर तक साफ देख सकता है इस टेक्नोलाजी को बनाने के लिए लेसर अथवा रडार युक्त कैमरे का उपयोग किया जाता है जिसकी मदद से पटरियां साफ दिखाई देती हैं. इससे ट्रेनों को उनकी गति के साथ दौड़ाया जा सकता है.


एट्रोसिटी एक्ट को ख़त्म करना होगा पार्टी का मुख्य मुद्दा : लक्ष्मण तिवारी

टीआरएस कॉलेज का निरीक्षण करने आएगी नैक की टीम


 VT PADTAL