VT Update
मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए आप लगातार विंध्य 24 से जुड़े रहे हम आपको ताजा अपडेट देते रहेगें अभी प्रत्येक विधानसभाओं में मतगणना आरंभ हुई हैं तथा बैलेट पेपर की गिनती शुरु हो चुकी है MP चुनावः शिवराज सिंह चौहान बोले-कांग्रेस के सहयोगी हताश हैं विजय माल्या केस की सुनवाई के सिलसिले में CBI और ED के ऑफिसर लंदन रवाना J-K: किश्तवाड़ पुलिस ने आतंकी रियाज अहमद को गिरफ्तार किया विजय माल्या केस की सुनवाई के सिलसिले में CBI और ED के ऑफिसर लंदन रवाना
Wednesday 4th of April 2018 | कंप्यूटर बाबा बने राज्यमंत्री

नर्मदा घोटाला यात्रा के बीच राज्य मंत्री बने बाबा


 कंप्यूटर बाबा बने राज्यमंत्री-

मप्र. के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा निकाली गयी नर्मदा सेवा यात्रा पर शुरुआत से ही आरोप लगते आये हैं.आरोपों पर तीखा प्रहार करते हुए महामंडलेश्वर कंप्यूटर बाबा ने तो बाकायदा नर्मदा घोटाला रथ यात्रा निकलने का निश्चय भी कर लिया था और 1 अप्रैल से 15 मई तक नर्मदा नदी के किनारे के जिलों में बकायदे सभा करते हुए सरकार के घोटालों का काला चिट्ठा भी उजागार करने का फैसला कर लिया था.लेकिन 3 अप्रैल को सरकार द्वारा जारी एक पत्र के बाद कई सवाल और विचार शुरू हो गये. दरसल मप्र. शासन के सामान्य प्रशासन द्वारा जारी आदेश में नर्मदा किनारे के क्षेत्रों में वृक्षारोपण,जल संरक्षण तथा स्वक्षता के विषयों पर जन जन जागरूकता का अभियान निरंतर चलाने के लिए विशेष समिति गठित की गयी जिसमे सदस्य के रूप में नार्मदानंद जी,हरिहरानंद जी,कम्पुटर बाबा,भय्युजी महाराज एवं पं. योगेन्द्र महंतजी को राज्य सरकार द्वारा राज्य मंत्री का दर्जा दिया गया.

राज्य मंत्री दर्जे के कई मायने-

ऐसा लगता ही की यह फैसला आगे किसी बड़ी छति से बचने के लिए हड़बड़ी में लिया गया है.दरसल कंप्यूटर बाबा ने आरोप लगाया था की नर्मदा सेवा यात्रा करोड़ो खर्च कर निकाली गयी यात्रा थी जिसका खुलासा बाबा एक यात्रा निकाल कर करने वाले थे.बाबा ने बकायदे एक रथ बनवा लिया था और 1 अप्रैल से 15 मई तक रथ यात्रा के माध्यम से सरकार की पोल खोलने वाले थे.कंप्यूटर बाबा इंदौर से इस यात्रा की शुरुआत करने वाले थे.कहीं न कहीं यात्रा के पहले राज्य मंत्री का दर्जा देखर खुश करने की भी कोशिश की गयी है.

सरकार के खिलाफ पहले से बाबा-

कंप्यूटर बाबा वैसे तो मप्र के ही मूल निवासी हैं.जबलपुर के पास बरेला में उनका घर है .आज से करीब 28 साल पहले बाबा बनारस गए और वहां मठ से दीक्षा लिए और उसी समय कंप्यूटर का आगमन हुआ था .मठ में कंप्यूटर चलाना सिर्फ बाबा को आता था और फिर क्या था बाबा को नाम मिला कंप्यूटर बाबा.इसके पहले बाबा ने उज्जैन सिहस्थ को लेकर भी सरकार की पोल खोली थी और अनशन किया था जिसके बाद सरकार में हडकंप मच गया था.

अब आगे-

विशेष समिति में कंप्यूटर बाबा के साथ अन्य कई बाबा हैं लेकिन सबकी नजर महामंडलेश्वर कंप्यूटर बाबा पर है .चूँकि बाबा ने बड़े घोटाले को उजागर करने का ऐलान किया है और ऐसे समय में सबकी पैनी नजर होगी कंप्यूटर बाबा पर .अब क्या कंप्यूटर बाबा शिवराज सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलेंगे या फिर राज्यमंत्री का दर्जा मिलने के बाद आगामी आन्दोलन और मोर्च स्थगित होगा.


शिवराज ने खुद को बताया हार का ज़िम्मेदार , बोले मै मुक्त हूँ

2019 में बीजेपी को उखाड़ फेकेंगे:राहुल गाँधी


 VT PADTAL