VT Update
केजरीवाल ने दिया शिवराज को प्रस्ताव शिक्षा में सुधार करना हो तो मनीष को भेज दूँ मध्यप्रदेश सीएम फेस की अटकलों पर शिवराज ने लगाया विराम, कहा कि मेरे ही नेतृत्व में बनेगी भाजपा की अगली सरकार वार्ड क्र 16 में मुख्यमार्ग से परेशान रहवासी, मार्ग का नहीं हो रहा निर्माण, 4 बार किया जा चुका है भूमिपूजन दिल्ली मैट्रो को सितम्बर से बिजली सप्लाई करेगा, बदबार का अल्ट्रामेगा सोलर पावर प्लांट गोविंदगढ़ थाना क्षेत्र के धोबखरी गांव में भाई की जान बचाने नहर में कूदी बहन, हुई मौत
सुन्दरलाल तिवारी ने की प्रेस वार्ता

कांग्रेस ने भारत बंद के दौरान हुई हिंसा पर सरकार पर साधा निशाना


गुढ़ से कांग्रेस विधायक सुंदरलाल तिवारी ने दो दिन पूर्व के दलित आंदोलन पर मीडिया से बात करते हुये मध्यप्रदेश की शिवराज सरकार तथा केंद्र की नरेन्द्र मोदी सरकार का घेराव किया है, वहीं विधानसभा के सत्र में अपने द्वारा पूंछे गए कुछ सवालो का व्यौरा रखा है.

दरअसल बुधवार को कांग्रेस विधायक सुंदलाल तिवारी ने अमहिया स्थित अपने निवास पर प्रेस वार्ता का आयोजन किया जिसमें उन्होने मध्यप्रदेश तथा केंद्र सरकार के ऊपर कई मुद्दों को लेकर सवाल उठाया, सवाल में विधायक ने एससी,एसटी आंदोलन पर हुए हिंसा की बात करते हुए कहा कि यह हिंसा तथा आंदोलन सबसे ज्यादा बीजेपी शासित राज्यों में हुए जिनमें मध्यप्रदेश भी शामिल है, वहीं उन्होने बताया कि इस हिसांत्मक आंदोलन में सबसे ज्यादा  मध्यप्रदेश में 7 लोगों की मौतें हुई इसके अलावा कांग्रेस विधायक ने विधानसभा सत्र में अपने द्वारा उठाये गए कुछ सवाल पर भी बात किया तथा राज्य और केंद्र सरकार पर निशाना साधा.

आपको बतादें की 2 दिन पूर्व हुये भारत बंद आन्दोलन का सबसे ज्यादा हिंसात्मक असर मध्यप्रदेश में पड़ा था, म.प्र. के मुरैना में पुलिस फायरिंग में में एक व्यक्ति की मौत हुयी थी तथा क्षेत्र के कई हिस्सों मे कर्फ्यु लगाया गया था इसी तरह पडोसी जिले ग्वालियर और भिंड में भी 1-1 व्यक्ति की मौते हुयी थी, तथा भारी तोड़ फोड़ से सरकारी और निजी सम्पतियों का नुक्सान हुआ था

इसी मुद्दे को साधते हुये विपक्ष ने सरकार पर निशाना साधना शुरू कर दिया है ,आने वाले विधानसभा सत्र में पक्ष और विपक्ष में तीखी नोक झोंक देखने को मिल सकती है


अपराधियों के मन से खत्म हुआ पुलिस का खौफ, मोबाइल दुकान में बदमाशों ने की तोड़

घनी बस्ती में बसे गैस एजेंसियों के गोदाम, भय के साये में जनजीवन


 VT PADTAL