VT Update
16 नवम्बर को शहडोल में होंगे नरेंद्र मोदी और राहुल गांधी कांग्रेस विधायक सुन्दरलाल तिवारी ने आरएसएस को कहा आतंकी संगठन,कांग्रेस का बयान से किनारा रीवा में भाजपा प्रत्याशी राजेंद्र शुक्ल ने कांग्रेस प्रत्याशी अभय मिश्र को दिया कानूनी नोटिस। 50 करोड़ का कर सकते हैं दावा। आबकारी उड़नदस्ता टीम ने की बड़ी कार्यवाही, नईगढ़ी व पहाड़ी गाँव में कच्ची शराब भट्टी में मारी रेड, 200 लीटर कच्ची शराब के साथ पांच आरोपी गिरफ्तार विधानसभा चुनाव के मद्देनज़र एस एस टी टीम की कार्यवाही जारी, चेकिंग के दौरान चार पहिया सवार के कब्जे से बरामद हुए 2लाख 19 हज़ार रुपये, निर्वाचन कार्यालय भेजा गया मामला
Wednesday 18th of April 2018 | जीईसी में खुलेगी कंप्यूटर साइंस ब्रांच

रीवा इंजीनियरिंग कॉलेज में खुलेगी कंप्यूटर साइंस ब्रांच


इस साल रीवा इंजीनियरिंग कॉलेज के नाम एक और सौगात जुड़ने जा रही है , दरअसल कॉलेज द्वारा एक नई ब्रांच खोले जाने को AICTE ( आल इंडिया कॉलेज ऑफ़ टेक्निकल एजुकेशन ) की भोपाल स्थित क्षेत्रीय कार्यालय द्वारा मंजूरी दे दी गयी है, कॉलेज प्रशासन द्वारा बताया गया है की नई ब्रांच के रूप कंप्यूटर साइंस ब्रांच खुलेगी, जिसमें प्रवेशित सीटों की संख्या 60 होगी.

आपको बता दें की अभी तक जीईसी में चार ब्रांच ही संचालित थे.जिनमे मैकेनिकल, सिविल, इलेक्ट्रिकल और इलेक्ट्रॉनिक्स ब्रांच शामिल थे, प्रत्येक ब्रांच में  60- 60 सीटों में प्रवेश किये जाते थे मतलब अभी तक जीईसी की कुल क्षमता 240 सीटों की थी, जो कंप्यूटर साइंस ब्रांच खुलने के बाद बढकर 300 हो जायेगी.

कॉलेज के प्राचार्य बीके अग्रवाल द्वारा बताया गया की इस वर्ष कॉलेज में कंप्यूटर साइंस ब्रांच खुलने की पूरी संभावना है, जिसके लिए भेजे गए प्रस्ताव में रीजनल ऑफिस की सहमती मिल चुकी है, तथा अब अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद् की मंजूरी मिलने की देरी है जैसे ही AICTE की मजूरी मिलती है ,कॉलेज में नै ब्रांच खुलने का रास्ता साफ़ हो जाएगा.

 इससे पहले विन्ध्य महोत्सव के दौरान रीवा इंजीनियरिंग कॉलेज को डीम्ड यूनिवर्सिटी बनाने की घोषणा की गयी है , जिसको  विन्ध्य क्षेत्र में तकनीकी शिक्षा के क्षेत्र में बड़ा कदम माना जा रहा है, तथा अब नई ब्रांच खुलना भी कॉलेज के लिए अच्छी खबर है.


कांग्रेस प्रत्याशियों ने जारी किया पार्टी का वचन पत्र

मन की बात करने रीवा पहुंचे कंप्यूटर बाबा, सी एम शिवराज को कहा झूठा


 VT PADTAL