VT Update
16 नवम्बर को शहडोल में होंगे नरेंद्र मोदी और राहुल गांधी कांग्रेस विधायक सुन्दरलाल तिवारी ने आरएसएस को कहा आतंकी संगठन,कांग्रेस का बयान से किनारा रीवा में भाजपा प्रत्याशी राजेंद्र शुक्ल ने कांग्रेस प्रत्याशी अभय मिश्र को दिया कानूनी नोटिस। 50 करोड़ का कर सकते हैं दावा। आबकारी उड़नदस्ता टीम ने की बड़ी कार्यवाही, नईगढ़ी व पहाड़ी गाँव में कच्ची शराब भट्टी में मारी रेड, 200 लीटर कच्ची शराब के साथ पांच आरोपी गिरफ्तार विधानसभा चुनाव के मद्देनज़र एस एस टी टीम की कार्यवाही जारी, चेकिंग के दौरान चार पहिया सवार के कब्जे से बरामद हुए 2लाख 19 हज़ार रुपये, निर्वाचन कार्यालय भेजा गया मामला
Saturday 21st of April 2018 | आखिरकार यशवंत सिन्हा ने छोड़ी बीजेपी !

पूर्व वित्तमंत्री यशवंत सिन्हा ने बीजेपी छोड़ी, कहा- देश खतरे में


पटना.लंबे समय से बीजेपी से नाराज चल रहे वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा ने दलगत राजनीति से भी  अलविदा कह दिया है। उन्होंने पटना में एक कार्यक्रम में यह ऐलान करते हुए कहा कि मैं बीजेपी के साथ अपने सभी संबंधों को समाप्त कर रहा हूं। भविष्य में मैं किसी पद का दावेदार नहीं हूं। वही उन्होंने कहा कि वे किसी भी दूसरे दल में शामिल नहीं होंगे। लेकिन लोकतंत्र को बचाने के लिए संघर्ष करते रहेंगे। इससे पहले उन्होंने चुनावी राजनीती से अपने आप को दूर रखा था

पटना में एक प्रेस वार्ता में दौरान अपने संन्यास की घोषणा की. उन्होंने कहा, ''आज से चार साल पहले मैंने चुनावी राजनीत से संन्यास ले लिया था. जब मैंने मना कर दिया था कि मैं 2014 का लोकसभा चुनाव नहीं लड़ूंगा, तब मेरे मन में यह था कि अब चुनाव नहीं लड़ूंगा. चार साल गुजर गए कुछ लोगों ने समझा कि मेरे दिल की धड़कन भी बंद हो गई है. लेकिन मेरा दिल आज भी धड़कता है और अपने देश के लिए धड़कता है.''

आने वाली पीढ़िया करेंगी सवाल इसलिए लिया फैसला : यशवंत सिन्हा

यशवंत सिन्हा ने कहा, ''अगर मैं आपके सामने खड़ा हूं तो इसलिए खड़ा हूं कि देश की जो आज की स्थिति है इस पर हमें आपको मिलकर विचार करना होगा. हम लोग सबसे पहले राजघाट गए और महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि दी. इसके बाद हमने 'राष्ट्र मंच' बनाने की घोषणा की. ये कोई राजनीतिक दल नहीं है. देश की परिस्थिति को देखते हुए अगर आज हम चुप रह जाएंगे तो आने वाली पढ़ियां हमसे सवाल करेंगी कि जब ये सब हो रहा था तब आप कहां ? इसलिए राष्ट्र मंच का गठन किया.''


जिस पत्रकारिता का कभी स्वर्णिम युग ना था , उसमे स्वर्णिम व्यक्तित्व की तरह उ

अटल जी के निधन से आहत हुआ देश !


 VT PADTAL