VT Update
विंध्य के सबसे बड़े अस्पताल संजय गांधी की सुरक्षा व्यवस्था पर उठे सवाल, अस्पताल के पार्किंग से चोरी हुई बोलेरो वाहन रीवा मेडिकल कॉलेज में लगेगा रूफटाफ का प्रदेश का सबसे बड़ा सोलर प्रोजेक्ट मतदाता जागरूकता के लिए रवाना हुई बुलेट रैली, कलेक्टर प्रीति मैथिल ने दिखाई हरी झंडी मध्यप्रदेश के शिवपुरी जिले में घटिया पुल निर्माण पर गिरी गाज, पीडब्लयूडी के चार अफसर सस्पेंड रीवा सहित प्रदेश भर में हर्षोल्लास के साथ मनायी गई कृष्ण जन्माष्टमी, शिल्पी प्लाजा में हुआ मटकी फोड़ने का भव्य आयोजन
Monday 23rd of April 2018 | प्रदेश में कांग्रेस को एक नहीं कई चेहरों की जरूरत : कमलनाथ

अध्यक्ष कोई भी हो उद्देश्य संगठन को मजबूत करना होगा:कमलनाथ


चुनावी साल में चुनाव नजदीक आते ही चुनावी सरगर्मियां बढ़ गयी हैं,म.प्र. की दोनों मुख्य राजनैतिक पार्टियों ने अपनी अपनी कमर कस ली है जहाँ एक ओर भाजपा ने अपने प्रदेश अध्यक्ष के चेहरे में बदलाव करते हुए जबलपुर सांसद राकेश सिंह पर दांव लगाया है. वहीँ अब कांग्रेस भी प्रदेश अध्यक्ष का चेहरा बदलने वाली है इस बात की पुष्टि कांग्रेस पार्टी के दिग्गज नेता और म.प्र. कांग्रेस के अध्यक्ष पद के प्रबल दावेदार माने जा रहे कमलनाथ ने की.

दरअसल कमलनाथ रविवार की देर रात इंदौर में मीडिया से बात करते हुए ये बातें कही.इस दौरान सज्जनसिंह वर्मा, विधायक जीतू पटवारी, नरेंद्र सलूजा, शहर अध्यक्ष प्रमोद टंडन, राजेश चौकसे, विनय बाकलीवाल भी मौजूद थे। यहां कार्यकर्ताओं ने उनका जमकर स्वागत किया. इस दौरान मुख्यमंत्री पद के चहरे पर मीडिया के सवाल पर उन्होंने कहा की  मुख्यमंत्री का चेहरा घोषित नही किया जाएगा. इस पद के लिए कांग्रेस के सभी नेता मिलकर चुनाव लड़ेंगें और भाजपा का मजबूती से मुकाबला करेंगें। वही उन्होंने प्रदेशाध्यक्ष के बदलाव को लेकर उन्होंने कहा कि इसकी घोषणा जल्द की जाएगी।

प्रदेश में कांग्रेस को एक नहीं कई चेहरों की जरूरत है

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कमलनाथ ने प्रदेश संगठन में बदलाव के संकेत दिए है। उन्होंने कहा है कि कांग्रेश के अध्यक्ष पद के लिए चेहरा कोई भी हो, लेकिन मुख्य उद्देश्य केवल संगठन को मजबूत करना है ।जल्द ही अध्यक्ष की घोषणा की

दरअसल, रविवार देर रात कमलनाथ इंदौर में एक निजी कार्यक्रम में शामिल होने । मीडिया से चर्चा के दौरान उन्होंने कहा कि,

शिवराज –मोदी पर जमकर निशाना साधा

कमलनाथ ने एक बार फिर भाजपा पर हमला बोलते हुए कहा कि प्रदेश में किसानों की हालत बिगड़ती जा रही है।किसी को कोई बीमा नही मिल रहा। किसान लगातर फाँसी लगा रहे है, उन पर गोलियां चलाई जा रही हैं। प्रदेश में 15 साल में 30 हजार किसानों ने आत्महत्या की है और मुख्यमंत्री खुद को किसान पुत्र कहते हैं।मैने अपने राजनीति के 40 साल सालों में देश-प्रदेश की ऐसी स्थिति कभी नहीं देखी। अपराधों में भी मध्यप्रदेश नंबर वन है,प्रदेश में महिलायें सुरक्षित नही है,शिवराज सिंह केवल भाषणबाज़ी करते हैं.

उन्होने केंद्र पर निशाना साधते हुए कहा कि मोदी सरकार 4 साल पहले विदेशों से काला धन वापस लाने की बात कर रही थी, जिसमें वो असफल रही और आज भगोड़ा क़ानून ला रही है। नोट बंदी के बाद जो मार व्यापारियो की हालत है, वह सबसे दयनीय है जो कई सालों तक नही सुधर सकती।


एट्रोसिटी एक्ट पर शिवराज के बयान पर कपिल सिब्बल ने किया पलटवार

बहुजन समाज पार्टी ने जारी किये 22 प्रत्याशियों के नाम


 VT PADTAL