VT Update
केजरीवाल ने दिया शिवराज को प्रस्ताव शिक्षा में सुधार करना हो तो मनीष को भेज दूँ मध्यप्रदेश सीएम फेस की अटकलों पर शिवराज ने लगाया विराम, कहा कि मेरे ही नेतृत्व में बनेगी भाजपा की अगली सरकार वार्ड क्र 16 में मुख्यमार्ग से परेशान रहवासी, मार्ग का नहीं हो रहा निर्माण, 4 बार किया जा चुका है भूमिपूजन दिल्ली मैट्रो को सितम्बर से बिजली सप्लाई करेगा, बदबार का अल्ट्रामेगा सोलर पावर प्लांट गोविंदगढ़ थाना क्षेत्र के धोबखरी गांव में भाई की जान बचाने नहर में कूदी बहन, हुई मौत
प्रदेश में कांग्रेस को एक नहीं कई चेहरों की जरूरत : कमलनाथ

अध्यक्ष कोई भी हो उद्देश्य संगठन को मजबूत करना होगा:कमलनाथ


चुनावी साल में चुनाव नजदीक आते ही चुनावी सरगर्मियां बढ़ गयी हैं,म.प्र. की दोनों मुख्य राजनैतिक पार्टियों ने अपनी अपनी कमर कस ली है जहाँ एक ओर भाजपा ने अपने प्रदेश अध्यक्ष के चेहरे में बदलाव करते हुए जबलपुर सांसद राकेश सिंह पर दांव लगाया है. वहीँ अब कांग्रेस भी प्रदेश अध्यक्ष का चेहरा बदलने वाली है इस बात की पुष्टि कांग्रेस पार्टी के दिग्गज नेता और म.प्र. कांग्रेस के अध्यक्ष पद के प्रबल दावेदार माने जा रहे कमलनाथ ने की.

दरअसल कमलनाथ रविवार की देर रात इंदौर में मीडिया से बात करते हुए ये बातें कही.इस दौरान सज्जनसिंह वर्मा, विधायक जीतू पटवारी, नरेंद्र सलूजा, शहर अध्यक्ष प्रमोद टंडन, राजेश चौकसे, विनय बाकलीवाल भी मौजूद थे। यहां कार्यकर्ताओं ने उनका जमकर स्वागत किया. इस दौरान मुख्यमंत्री पद के चहरे पर मीडिया के सवाल पर उन्होंने कहा की  मुख्यमंत्री का चेहरा घोषित नही किया जाएगा. इस पद के लिए कांग्रेस के सभी नेता मिलकर चुनाव लड़ेंगें और भाजपा का मजबूती से मुकाबला करेंगें। वही उन्होंने प्रदेशाध्यक्ष के बदलाव को लेकर उन्होंने कहा कि इसकी घोषणा जल्द की जाएगी।

प्रदेश में कांग्रेस को एक नहीं कई चेहरों की जरूरत है

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कमलनाथ ने प्रदेश संगठन में बदलाव के संकेत दिए है। उन्होंने कहा है कि कांग्रेश के अध्यक्ष पद के लिए चेहरा कोई भी हो, लेकिन मुख्य उद्देश्य केवल संगठन को मजबूत करना है ।जल्द ही अध्यक्ष की घोषणा की

दरअसल, रविवार देर रात कमलनाथ इंदौर में एक निजी कार्यक्रम में शामिल होने । मीडिया से चर्चा के दौरान उन्होंने कहा कि,

शिवराज –मोदी पर जमकर निशाना साधा

कमलनाथ ने एक बार फिर भाजपा पर हमला बोलते हुए कहा कि प्रदेश में किसानों की हालत बिगड़ती जा रही है।किसी को कोई बीमा नही मिल रहा। किसान लगातर फाँसी लगा रहे है, उन पर गोलियां चलाई जा रही हैं। प्रदेश में 15 साल में 30 हजार किसानों ने आत्महत्या की है और मुख्यमंत्री खुद को किसान पुत्र कहते हैं।मैने अपने राजनीति के 40 साल सालों में देश-प्रदेश की ऐसी स्थिति कभी नहीं देखी। अपराधों में भी मध्यप्रदेश नंबर वन है,प्रदेश में महिलायें सुरक्षित नही है,शिवराज सिंह केवल भाषणबाज़ी करते हैं.

उन्होने केंद्र पर निशाना साधते हुए कहा कि मोदी सरकार 4 साल पहले विदेशों से काला धन वापस लाने की बात कर रही थी, जिसमें वो असफल रही और आज भगोड़ा क़ानून ला रही है। नोट बंदी के बाद जो मार व्यापारियो की हालत है, वह सबसे दयनीय है जो कई सालों तक नही सुधर सकती।


कुलपति बनने के जुगाड़ समाप्त, शैक्षणिक अनुभव वाले की बन सकेंगे कुलपति !

बीजेपी ने की लोकसभा की तैयारी, प्रदेश के 14 सांसदों के कट सकते हैं टिकट


 VT PADTAL