VT Update
केजरीवाल ने दिया शिवराज को प्रस्ताव शिक्षा में सुधार करना हो तो मनीष को भेज दूँ मध्यप्रदेश सीएम फेस की अटकलों पर शिवराज ने लगाया विराम, कहा कि मेरे ही नेतृत्व में बनेगी भाजपा की अगली सरकार वार्ड क्र 16 में मुख्यमार्ग से परेशान रहवासी, मार्ग का नहीं हो रहा निर्माण, 4 बार किया जा चुका है भूमिपूजन दिल्ली मैट्रो को सितम्बर से बिजली सप्लाई करेगा, बदबार का अल्ट्रामेगा सोलर पावर प्लांट गोविंदगढ़ थाना क्षेत्र के धोबखरी गांव में भाई की जान बचाने नहर में कूदी बहन, हुई मौत
म.प्र. जैसे राज्य हैं देश के पिछड़ेपन के जिम्मेदार: नीति आयोग

देश के पिछड़ेपन के जिम्मेदार म.प्र., उ.प्र. और राजस्थान : अमिताभ कान्त


भोपाल. म.प्र. की शिवराज सरकार हमेशा अपने किये हुए विकास का गुणगान करते दिखाई पड़ते हैं, और प्रदेश का सबसे ज्यादा विकास करने वाले राज्यों की सूची मे शामिल करते हैं मगर नीति आयोग के सी ई ओ एक बयान जारी कर शिवराज सरकार के सारे दावों में पानी फेर दिया है,

नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने कहा है कि देश के दक्षिणी और पश्चिमी राज्य तेजी से प्रगति कर रहे हैं लेकिन उत्तर प्रदेश, बिहार, मध्यप्रदेश और राजस्थान देश को पीछे ले जा रहे हैं।

अमिताभ कांत ने एक ओर पहले जामिया मिल्लिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में प्रथम अब्दुल गफ्फार खान स्मारक व्याख्यान के दौरान बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि देश ने ईज ऑफ़ डूइंग में तरक्की की है। लेकिन मानव विकास सूचकांक में हम लगातार पिछड़ रहे हैं। इसके लिए मध्यप्रदेश, बिहार, उत्तर प्रदेश और राजस्थान जिम्मेदार हैं।

नीति आयोग के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) अमिताभ कांत ने बड़ा बयान देते हुए कहा कि बिहार, उत्तर प्रदेश और छत्तीसगढ़ जैसे राज्यों के कारण देश पिछड़ा हुआ है। उन्होंने कहा कि आसानी से व्यापार करने के मामले में देश ने तेजी से सुधार किया है तो वहीं मानव विकास सूचकांक में देश अभी भी पिछड़ा हुआ है। अमिताभ कांत ने इन राज्यों पर करारा तमाचा मारते हुए कहा कि इन राज्यों में शिक्षा और स्वास्थय के मामले में सबसे कमजोर स्थिति है। यहां के पांचवीं क्लास के बच्चे दूसरी क्लास जितनी शिक्षा भी नहीं रखते हैं।

आपको बता दें की नीति आयोग के सीईओ अमिताह कान्त ने जिन राज्यों का नाम लिया है, उन सभी राज्यों में भाजपा की सरकारें हैं जिनमे मध्यप्रदेश में पिछले 15 वर्षों से भाजपा की राज कलर रही है, कान्त का बयान निश्चित रूप से सरकार की इमेज पर दांव पर लग रही है.


कुलपति बनने के जुगाड़ समाप्त, शैक्षणिक अनुभव वाले की बन सकेंगे कुलपति !

बीजेपी ने की लोकसभा की तैयारी, प्रदेश के 14 सांसदों के कट सकते हैं टिकट


 VT PADTAL