VT Update
केजरीवाल ने दिया शिवराज को प्रस्ताव शिक्षा में सुधार करना हो तो मनीष को भेज दूँ मध्यप्रदेश सीएम फेस की अटकलों पर शिवराज ने लगाया विराम, कहा कि मेरे ही नेतृत्व में बनेगी भाजपा की अगली सरकार वार्ड क्र 16 में मुख्यमार्ग से परेशान रहवासी, मार्ग का नहीं हो रहा निर्माण, 4 बार किया जा चुका है भूमिपूजन दिल्ली मैट्रो को सितम्बर से बिजली सप्लाई करेगा, बदबार का अल्ट्रामेगा सोलर पावर प्लांट गोविंदगढ़ थाना क्षेत्र के धोबखरी गांव में भाई की जान बचाने नहर में कूदी बहन, हुई मौत
नव आरक्षकों के सीने में लिखा sc/st

नव आरक्षकों के सीने में sc/st लिख भेजा मेडिकल टेस्ट कराने


 

धार. “एमपी अजब है सबसे गजब है” यह टैग लाइन है मध्यप्रदेश के टूरिज्म विभाग का है, मगर मध्यप्रदेश से एक ऐसा मामला सामने आया है जिसे देखकर लगता है इस राज्य का यही हाल है,दरअसल धार जिला अस्पताल में बुधवार को अभ्यर्थियों का मेडिकल परीक्षण शुरू हुआ है| जहां अभ्यर्थियों के सीने पर उनकी जाति लिखी जा रही है| मामला मीडिया में आने के बाद हड़कंप मच गया है|

धार जिले में पिछले दिनों आरक्षकों की भर्ती का अभियान चला और इन दिनों उनका स्वास्थ्य परीक्षण चल रहा है। यहां आए उम्मीदवारों की पहचान के लिए जिला अस्पताल ने एक अनोखा तरीका अपनाया है। आरक्षित वर्ग के उम्मीदवारों के सीने पर ही उनका वर्ग दर्ज कर दिया गया है।

पुलिस अधीक्षक वीरेंद्र सिंह ने रविवार को आईएएनएस से चर्चा के दौरान बताया कि नव आरक्षकों का स्वास्थ्य परीक्षण चल रहा है, पिछली बार किसी तरह की चूक हो गई थी, इसके चलते अस्पताल प्रबंधन ने ऐसा किया होगा।

ऐसा क्यों किया गया, इसके लिए जांच के आदेश दे दिए गए हैं। इसके साथ ही उन्होंने सीने पर एससी-एसटी लिखे जाने की पुष्टि की है।

दरअसल, आरक्षक के चयन के लिए जिला अस्पताल में मेडिकल टेस्ट किया जा रहा है| बुधवार से अस्पताल में इसकी प्रक्रिया शुरू हुई है| लेकिन यहां ऊंचाई नापने में कोई गड़बड़ी ना हो इसलिए अजीबो गरीब तरीका अपनाया जा रहा है| इस दौरान भर्ती परीक्षा में मेडिकल परीक्षण के दौरान अलग-अलग वर्गों के अभ्यर्थियों की पहचान के लिए उनके सीने पर ही उनकी जातियों को लिख दिया गया| जब इस मामले की भनक मीडिया तक पहुंची तो हड़कंप मच गया है| मामला प्रकाश में आने के बाद अस्पताल के जिम्मेदार लोग अब सफाई दे रहे हैं| सामान्य और अन्य पिछड़ा वर्ग के लिए 168 सेमी और एसटी-एससी के लिए 165 सेमी ऊंचाई तय की गई है| तर्क दिया जा रहा है कि ऊंचाई नापने में गड़बड़ी से बचने के लिए ऐसा किया जा रहा है| जिला अस्पताल के सिविल सर्जन ने कहा है इस मामले की जांच करवाई जायेगी|

मामले के मीडिया में आने के बाद जिले के एसपी बीरेंद्र सिंह ने भी सफाई दी है| उन्होंने कहा कि पुलिस की ओर से जातियां लिखने का निर्देश नहीं है| इसके पीछे गलत भावना नहीं है| भर्ती में सहूलियत के लिए ऐसा लिखा गया होगा|

 


इंदौर से चुनावी आगाज करेगी आप, केजरीवाल करेंगे सभा को संबोधित !

राहुल गाँधी से ज्यादा शिवराज सिंह से जुड़े थे फर्जी फालोवर्स    


 VT PADTAL