VT Update
लोकसभा चुनाव खर्च सीमा से अधिक पैसे नहीं लुटा पाएंगे उम्मीदवार, आयोग रखेगा उम्मीदवारों के खर्च पर पैनी नजर। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को विशेषाधिकार हनन की नोटिस, किया गया जवाब तलब, पूर्व सीएम दिग्विजय को मिली क्लीन चीट। अधिकारियों व कर्मचारियों के आमदा पर चुनाव आयोग की रोक, आयोग का निर्देश बिना अनुमति नहीं ग्रहण कर सके नवीन पदस्थापना में कार्यभार। भुवनेश्वर के वेदांता प्लांट में प्रदर्शनकारियों ने सुरक्षाकर्मी को जिंदा जलाया, स्थानीय लोगों को नौकरी देने की मांग कर रहे थे प्रदर्शनकारी। कांग्रेस को सुमित्रा ताई की चुनौती- इंदौर में उतारे मुझसे बेहत उम्मीदवार, कहा- चुनाव लड़ने में आएगा आनंद।
Monday 7th of May 2018 | कर्ज का बोझ नहीं झेल पाया किसान

बेटे को भी रखा था गिरवी, लेकिन अंत में रास्ता आत्महत्या


मध्यप्रदेश के बुरहानपुर में किसान आत्महत्या का एक ऐसा मामला सामने आया है जिसने सरकार पर कई सवाल खड़े किये हैं. मध्यप्रदेश के बुरहानपुर जिले में 3 दिन पहले किसान कारकुंड कोंडू ने जहरीला पदार्थ सेवन करके आत्महत्या कर ली थी. अब उसकी दर्दनाक कहानी सामने आई है. बताया जा रहा है कि वो कर्ज के बोझ तले बुरी तरह दब चुका था. कर्ज से उबरने के लिए किसान कारकुंड कोंडू ने अपने बेटे तक को गिरवी (बंधुआ) रख दिया परंतु फिर भी जब कुछ नहीं हुआ तो अंतत: निराश किसान ने आत्महत्या कर ली. आत्महत्या के बाद भी कारकुंड कोंडू का बेटा लेनदार के यहां बंधुआ है.

बुरहानपुर जिला मुख्यालय से 15 किलोमीटर दूर भोलाना गांव में कर्ज से तंग आकर आत्महत्या करने वाले किसान की अभी तक शासन-प्रशासन ने सुध नहीं ली है. पता चला है कि लगातार सिंचाई व्यवस्था नहीं होने से किसान की फसल खराब हो रही थी किसान सहकारी समिति, स्थानीय साहूकारों के लोन की राशि चुकता करने के लिए अपने किशोर बेटे को ढाई लाख रुपए में पड़ोस के गांव में एक व्यक्ति को गिरवी पर दिया था, उसके पास बेटे को मुक्त कराने का कोई रास्ता नहीं था, वो लगातार तनाव में था और इसी के चलते उसने आत्महत्या कर ली.

किसान के परिजनों के अनुसार मृतक किसान कारकुंड कोंडू की पानी की बावड़ी सूखने के कारण लगातार तीन फसलें खराब हो गई, जिससे उसे घाटा हो गया. सहकारी समिति के लोन के साथ-साथ कुछ लोगों से ली गई उधार राशि, साथ ही अपने बेटे को पड़ोस के गांव में ढाई लाख रुपए में गिरवी रखा था, उसे नहीं छुड़ा पाने के गम में यह कदम उठाया है. अभी कुछ दिन पहले ही मप्र. बीजेपी ने किसान सम्मान यात्रा की है किसानो के लिए किये गये वादों पर ऐसी घटनाओं के बाद कई सवाल कहदे होते हैं.

 


विधायक के खिलाफ आवाज उठाने वाले कांग्रेसी नेता 6 साल के लिए पार्टी से निष्का

प्रदेश सरकार देशी शराब की दूकानों पर अंग्रेजी भी बेचने की तैयारी में, नियम ल


 VT PADTAL