VT Update
केजरीवाल ने दिया शिवराज को प्रस्ताव शिक्षा में सुधार करना हो तो मनीष को भेज दूँ मध्यप्रदेश सीएम फेस की अटकलों पर शिवराज ने लगाया विराम, कहा कि मेरे ही नेतृत्व में बनेगी भाजपा की अगली सरकार वार्ड क्र 16 में मुख्यमार्ग से परेशान रहवासी, मार्ग का नहीं हो रहा निर्माण, 4 बार किया जा चुका है भूमिपूजन दिल्ली मैट्रो को सितम्बर से बिजली सप्लाई करेगा, बदबार का अल्ट्रामेगा सोलर पावर प्लांट गोविंदगढ़ थाना क्षेत्र के धोबखरी गांव में भाई की जान बचाने नहर में कूदी बहन, हुई मौत
जीतने वाले प्रत्याशियों को मिलेगा टिकट: कमलनाथ

कमलनाथ ने जारी किया फरमान, जीतने वाले प्रत्याशियों को मिलेगा टिकट


भोपाल.मध्यप्रदेश के प्रदेश अध्यक्ष बनने के बाद से प्रदेश में कार्यकर्ताओं की ताबड़तोड़ बैठकें ले रहे है. तथा इस दौरान कार्यकर्ताओं को चुनाव को हिदायत देने मे भी परहेज नहीं कर रहे हैं. प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने पार्टी के जिला अध्यक्षों की बैठक को संबोधित करते हुए दो टूक कह दिया कि आने वाले विधानसभा चुनाव में केवल जीतने वाले प्रत्याशी को ही टिकट दिया जाएगा. इस लिए अब दिल्ली -भोपाल से काम नही चलेगा, इस दौरान उन्होंने यह भी स्पष्ट किया जो जिला अध्यक्ष निष्क्रिय होगा उसे तत्काल प्रभाव से पार्टी से बाहर रास्ता का दिखाया जायेगा.कमलनाथ प्रदेश के सभी जिला अध्यक्षों की चुनाव की रणनीतियों को लेकर बैठक ले रहे थे.

कमलनाथ ने यह साफ़ कर दिया दिया की सभी को गुटबाजी छोड़कर पार्टी लेवल में काम करना होगा तथा इस बार किसी नेता के आदमी को टिकट देने के बजाय अछे और जिताऊ प्रत्याशियों को चुना जायेगा, जिला अध्यक्षों को एक सन्देश देते हुए उन्होंने कहा की किसी भी आन्दोलन के लिए प्रदेश संगठन से अनुमति लेने की कोई आवश्यकता नही है,अपने यहाँ के मुद्दों पर आप प्रदर्शन और आन्दोलन कर पार्टी का पक्ष रख सकते हैं

लड़ाई भाजपा और धन बल से है : कमलनाथ

कमलनाथ ने कहा की कांग्रेस पार्टी की लड़ाई किसी व्यक्ति विशेष यानी नरेन्द्र मोदी, अमित शाह या शिवराज सिंह चौहान से नहीं है बल्कि कांग्रेस की लड़ाई भाजपा और उसके धनबल से है. वर्तमान राजनीती पर चिंता व्यक्त करते हुए kamalnath ने कहा की पहले और अब की स्थिति बहुत अलग हो चुकी है पहले और आज के चुनाव की राजनीति में बहुत अंतर आ गया है। कांग्रेस के लिए यह चुनौती है। सभी को अनुशासन में रहना होगा। पार्टी लाइन से हटकर बयानबाजी बर्दाश्त नहीं की जाएगी। उन्होंने जिला अध्यक्षों से सुझाव भी मांगे.

इस दौरान पत्रकार वार्ता में उन्होंने ने कहा कि मेरा कोई कारपोरेट नहीं है। मेरा कोई भी उद्योग नहीं है और न ही किसी कंपनी में मेरे शेयर हैं। मेरा राजनीतिक जीवन खुली किताब है। 40 साल के राजनीतिक जीवन में कोई ऊंगली नहीं उठी है। व्यापमं, सिंहस्थ घोटाले और पीएससी घोटाले से कांग्रेस के पीछे हटने के सवाल पर कहा कि ऐसा नहीं है। हम व्यापमं और अन्य भ्रष्टाचार के मामलों को अंत तक लेकर जाएंगे।


रामदेव की टिप्पणी से आहत हुई उमा, पत्र लिख जताई नाराजगी

कमलनाथ की पहली लिस्ट पर ही खड़े हुए सवाल


 VT PADTAL