VT Update
विंध्य के सबसे बड़े अस्पताल संजय गांधी की सुरक्षा व्यवस्था पर उठे सवाल, अस्पताल के पार्किंग से चोरी हुई बोलेरो वाहन रीवा मेडिकल कॉलेज में लगेगा रूफटाफ का प्रदेश का सबसे बड़ा सोलर प्रोजेक्ट मतदाता जागरूकता के लिए रवाना हुई बुलेट रैली, कलेक्टर प्रीति मैथिल ने दिखाई हरी झंडी मध्यप्रदेश के शिवपुरी जिले में घटिया पुल निर्माण पर गिरी गाज, पीडब्लयूडी के चार अफसर सस्पेंड रीवा सहित प्रदेश भर में हर्षोल्लास के साथ मनायी गई कृष्ण जन्माष्टमी, शिल्पी प्लाजा में हुआ मटकी फोड़ने का भव्य आयोजन
Friday 11th of May 2018 | अध्यापक अब नहीं होगें 'शिक्षक'

अध्यापक अब नहीं होगें 'शिक्षक'


मध्यप्रदेश के मुखिया शिवराज सिंह चौहान ने सीएम हाउस में बुलाई पंचायत में ऐलान तो कर दिया था कि 'आज से कोई अध्यापक नहीं होगा, सब शिक्षक होंगे' परंतु उनकी यह घोषणा अब पूरी नहीं होने वाली, क्योंकि सरकार ने अध्यापकों के संविलियन प्रक्रिया में मिलावट कर दी है.

दरअसल अब अध्यापकों के लिए नया कैडर बनाया जा रहा है जिसमें पदनाम होंगे, प्राथमिक शिक्षक, माध्यमिक शिक्षक और उच्चतर माध्यमिक शिक्षक. यह ठीक वैसा ही है जैसे शिक्षाकर्मी से अध्यापक किया गया था वरिष्ठता को लेकर शिक्षक और अध्यापकों के आमने-सामने आने पर सरकार अध्यापकों को मनाने में जुटी है चार अध्यापक संगठनों के पदाधिकारियों की दो दौर की बैठक हो चुकी है, लेकिन मामला नहीं सुलझा इसलिए अब तीसरी बैठक बुलाई जा रही है सूत्र बताते हैं कि इस बीच विभाग नए कैडर पर काम पूरा करेगा इसे मुख्यमंत्री के सामने रखा जाएगा और यदि उन्हें पसंद आया तो लागू होगा.

इस विवाद को लेकर अध्यापकों का अपना तर्क है वे कहते हैं कि शिक्षक संवर्ग में शामिल होने के बाद वरिष्ठता की दिक्कत होगी, तो वेतनमान के हिसाब से वरिष्ठता तय कर लें जिसका ज्यादा वेतन वह वरिष्ठ, लेकिन शिक्षक इस पर तैयार नहीं हैं अब सरकार को मुख्यमंत्री की घोषणा पूरी करने के लिए दोनों के बीच समन्वय बनाने में दिक्कत आ रही है हालांकि विभाग के अधिकारी इस संबंध में कुछ भी बोलने को तैयार नहीं हैं.


एट्रोसिटी एक्ट पर शिवराज के बयान पर कपिल सिब्बल ने किया पलटवार

बहुजन समाज पार्टी ने जारी किये 22 प्रत्याशियों के नाम


 VT PADTAL