पीएम नरेन्द्र मोदी ने संघ और बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं व कार्यकर्ताओं से बात कर कोरोना जंग की तैयारीयों की ली जानकारी

पीएम नरेन्द्र मोदी ने  संघ और बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं व कार्यकर्ताओं से बात कर कोरोना जंग की तैयारीयों की ली जानकारी

कोरोना वायरस पूरी दुनिया में अपना कहर बरपा रहा है. ऐसे में देश की 135 करोड़ लोगों की जिंदगी भी खतरे में हैं. देश को कोरोना वायरस के खतरे से बाहर​ निकालने के प्रयास से पीएम नरेंद्र मोदी दिन-रात एक कर रहे हैं. वे इस जंग से जद्दोजहद कर रहे हरेक सिपाही को प्रेरित करने का कोई अवसर नहीं छोड़ रहे हैं. पीएम नरेन्द्र मोदी समय निकाल कर जनसंघ और बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं व कार्यकर्ताओं से व्यक्तिगत बात करके विभिन्न प्रदेशों का जमीनी फीडबैक ले रहे हैं. इसी कड़ी में उन्होंने जयपुर के फूलचंद ​भिंडा, उत्तर प्रदेश के कुशीनगर के भुलई भाई, झारखंड के कड़िया मुंडा, हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला के चमन ग्रोवर और उत्तराखंड के पौड़ी के मोहन लाल बौंठियाल को फोन करके कोरोना जंग के खिलाफ तैयारी के बारे में जानकारी ली.
जयपुर के विराटनगर से दो बार विधायक रह चुके संघनिष्ठ फूलचंद भिंडा से पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना के खिलाफ लंबी लड़ाई लड़नी अभी बाकी है. हमें धैर्य एवं हिम्मत दोनों बनाकर रखनी होगी. एक एक कार्यकर्ता अपने आसपास पैनी निगाह रखें. जरूरतमंदों के भोजन और दवाई का विशेष रूप से ख्याल रखा जाए. सब एक दूसरे के हमदर्द बनकर हालात का मुकाबला करें. भिंडा ने पीएम को बताया कि विराटनगर क्षेत्र से करीब 3 लाख रुपये पीएम केयर फ़ंड में राशि जमा कराई जा चुकी है. भिंडा ने पीएम मोदी को बताया कि उनके विधानसभा क्षेत्र में 4 जगह जरुरतमंदों के लिए खाने पीने और ठहरने का इंतजाम किया गया है. फूलचंद भिंडा उच्च शिक्षा में कई साल सेवाएं दे चुके हैं. वे जाने माने शिक्षाविद् हैं.
पीएम मोदी का फोन आने से उत्साहित दिखे भुलई भाई ने बताया कि अब उनकी उम्र 106 साल की हो चुकी है. उन्होंने बताया कि पीएम मोदी ने उनका और परिवार का हालचाल जाना. उन्होंने पीएम मोदी को स्वस्थ रहने तक देश का नेतृत्व करने का आशीर्वाद भी दिया. वर्तमान में कुशीनगर जिले के रामकोला क्षेत्र में भुलई भाई रहते हैं. बता दें कि श्री नारायण उर्फ़ भुलई भाई ने जनसंघ के दीपक चुनाव चिन्ह पर 1974 व 1977 में नौरंगिया विधानसभा सीट से चुनाव लड़ा था और जीत का परचम लहराया था.
पीएम से बातचीत के बाद इस संबंध में खुद पूर्व सांसद कड़िया मुंडा ने बीजेपी के फेसबुक पेज पर जानकारी दी. खूंटी के वर्तमान सांसद और केन्द्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा ने भी कड़िया मुंडा के वक्तव्य को अपने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर साझा किया. खूंटी लोकसभा क्षेत्र से आठ बार सांसद रहे पद्मभूषण कड़िया मुंडा को पीएम मोदी अपना मार्गदर्शक मानते हैं. पिछले साल तीन दिसंबर को विधानसभा चुनाव के प्रचार के लिए जब पीएम खुंटी पहुंचे थे, तब पीएम ने कहा था कि उन्होंने कड़िया मुंडा की उंगली पकड़कर संगठन शास्त्र सीखा. अनके सालों तक उनके साथ काम किया. दूर तक देखने का दृष्टिकोण उनसे ही मिला. पीएम अब भी कड़िया मुंडा के संपर्क में रहते हैं.
हिमाचल प्रदेश में बैजनाथ भाजपा मंडल अध्यक्ष रहे चमन पहले तो वो ये सुनकर थोड़ा सा सकपकाये, लेकिन जब उन्हें मोदी के व्यक्तित्व का ख़्याल आया तो खुद को संभालते हुए पुलकित भाव से सोचा कि मोदी का यही तो मैजिक है, जो किसी को कभी भी सरप्राइज कर सकता है. फिर क्या था, मोदी जी ने तुरन्त ही दूसरी ओर से फोन सम्भाला और वार्तालाप किया. सबसे पहले उन्होंने मेरे परिवार के बारे में हालचाल जाना, फिर तुरंत ही प्रदेश के हालात पर चर्चा शुरू कर दी. साथ ही कोरोना महामारी को लेकर प्रदेश के हालातों पर भी सवाल-जबाव किये, इतना ही नहीं उन्होंने सरकार और प्रशासन की कार्यप्रणाली को भी मेरे जरिये ही जानने की कोशिश की.
प्रधानमंत्री ने उन्हें बताया कि बुधवार को उन्होंने जनसंघ से जुड़े अपने कुछ पुराने मित्रों से बात की और इसी क्रम में उनसे भी बात कर रहे हैं. बकौल बौंठियाल मोदी ने कहा कि यह समय संकट का है इसलिए वह सभी से बात कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि किसी कार्यकर्ता के लिए यह बहुत बड़ा सम्मान है जब देश का प्रधानमंत्री स्वयं फोन करके उनका हालचाल पूछता है और मोदी की यही खूबी उन्हें जननायक बनाती है. उत्तराखण्ड में बीजेपी के संस्थापकों में से एक रहे बौंठियाल 1958 में स्वयं सेवक के तौर पर संघ से जुड़ गए थे. दो साल बाद 1960 में वह जनसंघ से जुड़े ओर फिर 1980 में बीजेपी के सदस्य बने. आपातकाल के दौरान और उसके बाद राम जन्मभूमि आंदोलन और पृथक उत्तराखंड राज्य आंदोलन में भी उन्होंने सक्रिया भूमिका निभाई.