नगर निगम के अधिकारी पहुंच रहे सरकारी कार्यालयों में, आवास योजना के मकानों की दे रहे जानकारी

नगर निगम के अधिकारी पहुंच रहे सरकारी कार्यालयों में, आवास योजना के मकानों की दे रहे जानकारी

प्रधानमंत्री आवास योजना के मकानों की जानकारी देने के लिए नगर निगम के अधिकारी अब सरकारी कार्यालयों में पहुंच रहे हैं। साथ ही कार्पोरेट आफिसों में भी पहुंचकर योजना के बारे में जानकारी दे रहे हैं जिससे अधिक संख्या में मकानों की खरीदी के लिए लोग पहुंचे। मंगलवार को नगर निगम के उपायुक्त एपी शुक्ला के साथ निगम के कई अन्य अधिकारी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी के बिछिया स्थित कार्यालय में पहुंचे।

जहां पर बताया कि किस तरह से शहर के प्राइम लोकेशन में प्राइवेट डेवलपर्स की तुलना में सस्ते दर पर आवास मुहैया कराए जा रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग के कई कर्मचारियों ने कहा है कि वह मकान के लिए आवेदन करेंगे। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत शहर में इडब्ल्यूएस के 2240 मकान बनाए जा रहे हैं।

एलआइजी के 576 एवं एमआइजी के 216 मकान बनाए जा रहे हैं। इनके साथ ही ३०९ दुकानें बनाने का कार्य भी जारी है। करीब ४५ एकड़ की भूमि पर अलग-अलग स्थानों पर नगर निगम यह प्रोजेक्ट तैयार कर रहा है। इन मकानों की पात्रता को लेकर जानकारी दी गई कि इडब्ल्यूएस मकानों की पात्रता तीन लाख रुपए तक वार्षिक आय वाले इसके पात्र होंगे। वहीं तीन से छह लाख तक वाले एलआइजी और छह लाख से ऊपर वार्षिक आय वाले एमआइजी के पात्र होंगे। स्वास्थ्य विभाग के अधिकांश कर्मचारियों ने बताया कि वह किराए के मकान में रहते हैं, नगर निगम के इस प्रोजेक्ट पर मकान खरीदने के लिए आवेदन करेंगे। निगम के अधिकारियों का दल शहर के कई बड़े प्राइवेट स्कूलों एवं अन्य कार्पोरेट आफिस में भी गया और आवास योजना की जानकारी दी है।