VT Update
राज्यसभा सांसद विवेक तंखा ने रीवा शहडोल सहित कई जिलों को दिए 10-10 लाख रुपए, कोरोना के खिलाफ जंग में मदद के लिए आगे आए सांसद वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में उपस्थित हुए कमिश्नर कलेक्टर एसपी सहित तमाम अधिकारी सीएम ने दिया निर्देश गरीब व्यक्तियों के भोजन वितरण की व्यवस्था के पुख्ता इंतजाम कोरोना के खिलाफ जंग में प्रदेश के साथ विन्ध्य का आमजन भी आया सामने,नेताओं,समाज सेवकों ने उठाया जिम्मा, बेसहारा मजदूरों को वितरित किए भोजन के पैकेट रीवा जिले में विदेश यात्रा करने वाले 60 लोगों की सूची तैयार 46 लोग जिले के अंदर है मौजूद, विदेश से आए लोगों के घरों के बाहर प्रशासन लगा रहा पोस्टर ताकि लोग रहें सावधान ब्रह्मकुमारी संस्थान की प्रमुख राजयोगिनी दादी जानकी जी का निधन 104 साल की उम्र में ली अंतिम सांस
Saturday 22nd of February 2020 | फ़ूड प्वाइजनिंग से आजाक छात्रवास के 9 छात्र गंभीर,छात्रों से मिलनें पहुंचे संभागायुक्त 

आदिम जाति कल्याण विभाग की बड़ी लापरवाही आई सामनें,फ़ूड प्वाइजनिंग से 9 छात्र गंभीर


 संभाग स्तरीय ज्ञानोदय बालक छात्रावास में फूड प्वाइजनिंग के चलते दर्जन 9 छात्र  बीमार हो गए हैं, छात्रों को संजय गाँधी अस्पताल में भर्ती कराया गया है । छात्र दीपक साकेत गंभीर है जिसे आईसीयू में रखा गया है । आदिम जाति कल्याण विभाग की लापरवाही के चलते 9 छात्र गंभीर हैं | बच्चों की जाँच करनें पर तीन छात्र टाईफ़ायड से पीड़ित बताये गए हैं और पांच छात्रों के बीमार होनें का कारण प्रदूषित पानी और भोजन बताया गया है |  

 शहर में आदिम जाति कल्याण विभाग का संभाग स्तरीय ज्ञानोदय बालक छात्रावास संचालित है | जहाँ सैकड़ो छात्र रहकर पढाई करते हैं | देर रात छात्रों की अचानक तबियत बिगड़ गयी जिसके बाद हॉस्टल प्रबंधन नें छात्रों को संजय गाँधी अस्पताल में भर्ती कराया | अस्पताल के आईसीयू में दीपक साकेत को रखा गया है तो वहीँ अंकित साकेत, मयंक दाहिया,सत्यम वर्मा और करन साकेत को बच्चा वार्ड में एडमिट कराया गया है | मेडिसिन डिपार्टमेंट में दुरुचंद जायसवाल ,राजन बंसल,और रामचंद्र साकेत क इलाज चल रहा है | बीमारी की चपेट में आये यह छात्र कक्षा 6 वीं से लेकर 12वीं तक के हैं| छात्रों के अस्पताल में भर्ती होते ही प्रशासन भी हरकत में आ गया | रात में हॉस्टल के उपयुक्त सहित नायब तहसीलदार ने बच्चों का स्थित जाननें अस्पताल पहुंचे | आज संभागायुक्त अशोक भार्गव ने भी बच्चों के बीच जाकर उनसे जाना कि कैसे क्या हुआ और उन्होंने रात में क्या खाया था |कुछ छात्रों के माता पिता ने तो अपनें बच्चों को  प्रायवेट अस्पताल में भर्ती करवा दिया है | हलाकि अब बच्चों की स्थित सामान्य बताई जा रही है | छात्र शुभम ने बताया कि रात के भोजन में अंडाकरी खिलाई गयी थी उसके बाद से ही छात्रों की तबियत बिगड़ने लगी |परिजनों ने बताया कि उन्हें हॉस्टल द्वारा नहीं बताया गया कि उनके बच्चे को अस्पताल लाया गया है बच्चों ने ही फ़ोन के माध्यम से उन्हें सूचना दी | आपको बता दें आदिम जाति कल्याण विभाग के हॉस्टल में फूड प्वाइजनिंग की यह पहली घटना नहीं है। आए दिन बच्चे बीमारी की चपेट में रहते हैं । हैरत की बात यह है कि छात्रावास में स्वास्थ्य शिविर नहीं लगाया जाता है, और इस प्रशासन की लापरवाही का खमियाजा इन मासूम बच्चो को भुगतना पड़ता है |

 

       


सन्देश, घरों में ही रहे लोग इसी में है सुरक्षा : आईजी

एसजीएमएच की वायरल विडियो की सच्चाई पर अतिरिक्त सीएमओ ने लगाया ब्रेक


 VT PADTAL